हर वर्ग के सहयोग से जीतेंगे Corona की जंग-जीवन रक्षा के लिए उठाएंगे हरसंभव कदम: मुख्यमंत्री

 - धर्मगुरू, राजनीतिक दलों एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं के साथ संवाद
 
धर्मगुरू, राजनीतिक दलों एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं के साथ संवाद

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि कोरोना (Corona) संक्रमण रोकने के लिए जरूरी है कि जो सतर्कता और सजगता हमने पहली एवं दूसरी लहर के समय बरती उसे निरंतर बरकरार रखें। उन्होंने तीसरी लहर की आशंका के मद्देनजर लोगों से अपील की है कि वे कोविड प्रोटोकॉल की पालना आवश्यक रूप से करें। गहलोत ने कहा कि अब तक सब के सहयोग से हमारा कोरोना प्रबंधन पूरे देश में शानदार रहा है। आगे भी हर वर्ग के सुझाव और सहयोग से ही हम इस जंग को जीतेंगे और कोरोना से बचाव के लिए हरसंभव कदम उठाएंगे।

गहलोत रविवार को मुख्यमंत्री निवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोविड-19 को लेकर धर्मगुरूओं, जनप्रतिनिधियों एवं राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों, सोशल एक्टिविस्टों तथा गैर सरकारी संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ संवाद कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जब कोरोना संक्रमण आया तो सभी वर्गों ने आगे बढ़कर इस चुनौती से सामना करने में सहयोग किया। इसी का परिणाम रहा कि राजस्थान कोविड से निपटने में सबसे आगे रहा। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि दूसरी लहर में डेल्टा वायरस के कारण पूरी दुनिया ने भयावह स्थिति का सामना किया। लोगों को ऑक्सीजन, बैड और जीवनरक्षक दवाओं की कमी से जूझना पड़ा। इस विपरीत समय में भी राजस्थान ने बेहतर प्रबंधन करते हुए लोगों की जान बचाई। चार्टर प्लेन तक से दवाइयां मंगवाई गई। ऑक्सीजन के प्रबंधन के लिए मंत्री समूह को दिल्ली भेजा गया। हर स्थिति की उच्च स्तरीय मॉनिटरिंग की गई। इसी का नतीजा रहा कि हम लोगों का जीवन बचाने में कामयाब हो सके।

गहलोत ने कहा कि बीते कुछ दिनों में दुनिया के 125 से अधिक देशों में ओमिक्रोन वैरिएंट का संक्रमण फैल चुका है। अमेरिका और ब्रिटेन जैसे देशों में तो लाखों की संख्या में इसके मामले सामने आ रहे हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि इस वैरिएंट की आर वैल्यू काफी अधिक होने से यह तेजी से फैलता है और कब यह अपना मिजाज बदलकर घातक हो जाए कहा नहीं जा सकता, क्योंकि दूसरी लहर के समय भी अल्फा वैरिएंट म्यूटेट होकर डेल्टा में बदल गया और पूरी दुनिया में तबाही मचा दी। ऐसे में, हमें ओमिक्रोन वैरिएंट के प्रति पूरी सजगता और सतर्कता रखनी होगी। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारा प्रयास है कि जीवन रक्षा के साथ-साथ हमारी आजीविका सुचारू रूप से चलती रहे, इसके लिए जरूरी है कि हम सभी सोशल डिस्टेसिंग, मास्क पहनने, जैसे कोविड अनुशासन की आवश्यक रूप से पालना सुनिश्चित करें। साथ ही, सभी पात्र लोग आवश्यक रूप से वैक्सीनेशन कराएं। 
चिकित्सा मंत्री परसादी लाल मीणा ने कहा कि राजस्थान की ओर से केन्द्र को 15 से 18 वर्ष आयु वर्ग के वैक्सीनेशन की आयु सीमा 12 से 18 वर्ष किए जाने का सुझाव दिया गया है ताकि ज्यादा से ज्यादा बच्चों को संक्रमण से बचाया जा सके। उन्होंने कहा कि चिकित्सा विभाग किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है।  

गृह राज्यमंत्री राजेन्द्र यादव ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने यह आशंका व्यक्त की है कि आगामी समय में ऑमिक्रोन का संक्रमण सुनामी के रूप में सामने आ सकता है। लोगों में इस वायरस की घातकता को लेकर भ्रांति को दूर करने की जरूरत है ताकि वे सजग एवं सतर्क रहें। 

नेता प्रतिपक्ष गुलाबचन्द कटारिया ने कहा कि संक्रमण से बचाव के दृष्टिगत सभी पात्र लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज और बूस्टर डोज भी लगाई जाए। उन्होंने विवाह आदि समारोह के लिए व्यक्तियों की संख्या को सीमित करने का सुझाव दिया। साथ ही, स्कूल, कॉलेज आदि शिक्षण संस्थाओं के संबंध में भी उचित कदम उठाए जाने की बात कही।  

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा ने कहा कि वैक्सीनेशन की गति और बढ़ाई जाए। लोग मास्क अनिवार्य रूप से लगाएं। साथ ही, शादी एवं अन्य समारोह और धर्म स्थलों पर भीड़-भाड़ को सीमित किया जाए।  

उप नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने कहा कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए धार्मिक स्थलों पर भीड़-भाड़ को नियंत्रित करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि ऑमिक्रोन वायरस 5 गुना तेजी से फैलता है। इसे देखते हुए विशेष एहतियात बरतने की आवश्यकता है। वैक्सीनेशन का प्रतिशत बढ़ाने के लिए डोर-टू-डोर अभियान चलाया जाए। 

आयुर्वेद राज्यमंत्री एवं आरएलडी विधायक डॉ. सुभाष गर्ग ने कहा कि पॉजिटिव केस की बढ़ती संख्या को देखते हुए कुछ सख्त फैसले किए जाना जरूरी है, ताकि समय रहते संक्रमण को नियंत्रित किया जा सके। 

सचिव सीपीएम अमराराम ने कहा कि विदेशों से आने वाले यात्रियों की प्रभावी स्क्रीनिंग की जाए। सीपीआईएम विधायक बलवान पूनिया ने कहा कि प्रदेशभर में पहली और दूसरी लहर की तरह कोविड अप्रोप्रिएट बिहेवियर की प्रभावी पालना कराई जाए। बीटीपी विधायक रामप्रसाद ने कहा कि संक्रमण की रोकथाम के लिए भीड़ को नियंत्रित करना जरूरी है। किसान मोर्चा के रामपाल जाट ने कहा कि व्यावसायिक, धार्मिक, वैवाहिक एवं अन्य भीड़-भाड़ वाली गतिविधियों को सीमित रूप से ही अनुमत किया जाए। 

निर्दलीय विधायक संयम लोढ़ा ने कहा कि हमें सभी पहलुओं पर विचार करके ऑमिक्रोन से मुकाबले की पुख्ता तैयारी करनी होगी। महामारी के कारण प्रशासनिक काम-काज प्रभावित नहीं हों, इसके लिए वर्क फ्रोम होम को बढ़ावा दिया जाए। सीपीआई के श्री डीके छंगाणी ने कहा कि मास्क की अनिवार्यता का सख्ती से पालन कराया जाए। 

विधायक राजकुमार गौड़ ने कहा कि फिलहाल कोरोना की भयावह स्थिति नहीं है, लेकिन इसके मिजाज को देखते हुए सजगता एवं सतर्कता बरतना जरूरी है। आरएलपी के विधायक पुखराज गर्ग ने कहा कि शिक्षण संस्थानों में विशेष सावधानी बरती जाए तथा सभी आयोजनों में कोविड प्रोटोकॉल की पालना हो।
मोती डूंगरी गणेशजी मंदिर, पुष्कर, गलता पीठ, अजमेर शरीफ दरगाह आदि धार्मिक स्थलों के प्रतिनिधियों, सिख, मुस्लिम एवं ईसाई समाज के प्रतिनिधियों, सोशल एक्टिविस्ट अरूणा रॉय, कविता श्रीवास्तव आदि ने भी सुझाव दिए। 

प्रमुख शासन सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य वैभव गालरिया ने बताया कि प्रदेश में एक्टिव केसेज की संख्या 1 जनवरी को बढ़कर 1247 हो गई। राज्य में अब तक ऑमिक्रोन के 121 केस सामने आए हैं। उन्होंने बताया कि 1 जनवरी तक प्रदेश में 90.6 प्रतिशत पात्र लोगों को वैक्सीन का पहला टीका और 75.5 प्रतिशत को दूसरा टीका लगाया जा चुका है। राज्य में 15 से 18 वर्ष का वैक्सीनेशन सोमवार से शुरू होगा। इस वर्ग के लाभार्थी करीब 53 लाख हैं। 

एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सुधीर भण्डारी और वरिष्ठ चिकित्सा विशेषज्ञ डॉ. वीरेन्द्र सिंह ने संक्रमण के फैलाव एवं रोकथाम के संबंध में विचार व्यक्त किए। बैठक में मुख्य सचिव निरंजन आर्य, पुलिस महानिदेशक एमएल लाठर, अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह अभय कुमार, प्रमुख शासन सचिव वित्त अखिल अरोरा, शासन सचिव स्वायत्त शासन भवानी सिंह देथा सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। जिला प्रशासन के अधिकारी भी वीडियो कॉन्फं्रेस के माध्यम से शामिल हुए।