हाईवे पर पुलिस व वाहन चालक का वायरल वीडियो बना चर्चा का विषय...दतवास थाने की कार्यशैली पर उठे सवाल

- दतवास थाना पुलिस की यह कैसी दादागिरी !
- पीड़ित बोला साहब मेरी गलती क्या है,मुझे गिरफ्तार क्यों कर रहे है...

पुलिस ने पीड़ित की गाड़ी को क्रेन की सहायता से थाने लाकर युवक पर बना दिया आमर्स एक्ट का मुकदमा

 
दतवास पुलिस मुलकराज गुर्जर नामक युवक को जबरदस्ती गाड़ी में बिठा रही है

टोंक/निवाई, (शिवराज मीना/कजोड गुर्जर)। पुलिस महकमे में अपनी कार्यशैली को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहने वाले दतवास थाना पुलिस का एक ओर कारनामा सामने आया है, जिसको लेकर दतवास पुलिस फिर से सुर्खियों में हैं।

जिले में ईमानदार छवि के लिए पहचान रखने वाले जिला पुलिस कप्तान ओमप्रकाश ने बीते कुछ माह में अब तक दतवास थाने के तीन थानेदार व तीन एएसआई बदले है और आधा दर्जन करीब पुलिसकर्मी भी, लेकिन उसके बाद भी पुलिस की कार्यशैली में कोई सुधार नहीं हो रहा है। ऐसे में खाकी लगातार बदनाम होती नजर आ रही है। बीते कुछ माह पूर्व भी पुलिस हिरासत में युवक की मृत्यु के बाद थाने में आगजनी की घटना हुई थी, उसके बाद भी पुलिस सबक नहीं ले रही है।

पीड़ित बोला साहब मेरी गलती क्या है,

 बीते दो दिन पहले से दतवास पुलिस का एक वीडियो सोशल मीडिया पर फिर से वायरल हो रहा है, जिसमें हाईवे पर दतवास पुलिस मुलकराज गुर्जर नामक युवक को जबरदस्ती गाड़ी में बिठा रही है, युवक वीडियो में चिल्ला- चिल्लाकर कह रहा है कि मेरी गलती क्या है मुझे बताओ मैंने ऐसा क्या गुनाह किया है, जो आप मुझे जबरन गाडी में बिठा रहे हो। जबकि पुलिस वाले युवक को कुछ भी कारण नहीं बता रही है और युवक को जबरदस्ती गाड़ी में बिठाती नजर आ रही है। पुलिस ने युवक की गाडी से उसकी 4 लाख 64 हजार 300 सौ रूपये नकदी को भी संदिग्ध मानकर जब्त किया है।

 जब युवक गाड़ी में नहीं बैठा तो पुलिस ने क्रेन मंगवाकर उसकी स्कॉर्पियो गाड़ी को क्रेन से थाने में पहुंचाया और युवक को जबरन गिरफ्तार कर उसके खिलाफ आमर्स एक्ट का मुकदमा दर्ज कर लिया गया। जबकि कुछ समाचार पत्रों ने स्कॉर्पियो मालिक युवक को बजरी माफिया बताकर खबर प्रकाशित की है, जो जिले भर में चर्चा का विषय बनी हुई है। जबकि घटना के वीडियो व पीड़ित द्वारा मीडिया को दी गई बाईट बयान में सारी सच्चाई स्पष्ट नजर आ रही है।

वहीं बीते 3-4 दिन पूर्व भी अपनी कार्यशैली को लेकर दूनी थानाधिकारी को पुलिस महानिरीक्षक अजमेर के आदेश पर जिला पुलिस कप्तान ने लाईन हाजिर किया है तथा इससे पहले भी हाल ही के कुछ माह पूर्व जिले के अलीगढ़ व बनेठा थाना पुलिस की भी कई अनियमितता सामने आने पर कार्यवाही हो चुकी है, लेकिन इन सबके बावजूद भी पुलिस की कार्यशैली में कोई सुधार नहीं आ रहा है।