जयपुर में रीट परीक्षा देने आयी दो युवतियां गिरफ्तार, असली अभ्यर्थी की जगह बैठने का 10 लाख रुपए में किया था सौदा

 
गिरफ्तार प्रमिला विश्नोई , कुमारी अनन्या चौधरी उर्फ झुम्मी

जयपुर। रीट परीक्षा से एक दिन पहले जयपुर में पुलिस ने जालोर से परीक्षा देने आई दो युवतियों को गिरफ्तार किया है। प्रदेश में यह पहला मामला है, जब रीट में फर्जी अभ्यर्थी बनकर परीक्षा देने के मामले में युवतियां पकड़ी गई हैं। इस कार्रवाई को सिंधीकैंप थाना पुलिस ने अंजाम दिया है।

डीसीपी (पश्चिम) ऋचा तोमर ने बताया कि गिरफ्तार प्रमिला विश्नोई (22) गांव सरनाउ, सांचौर, जिला जालौर की रहने वाली है। दूसरी कुमारी अनन्या चौधरी उर्फ झुम्मी (19) निवासी गांव लुणियासर तहसील सांचौर जिला जालौर की है। ये दोनों जयपुर में बनीपार्क में कांतिचंद रोड पर किसान बालिका शिक्षण संस्थान (किसान गर्ल्स हॉस्टल) में ठहरी हुई थीं। दोनों युवतियां भी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रही हैं।

डीसीपी ऋचा तोमर ने बताया कि 24 सितंबर को पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना मिली थी कि 26 सितंबर को होने वाले रीट एक्ज़ाम में एक अभ्यर्थी के स्थान पर दूसरी युवती फर्जी अभ्यर्थी के रूप में परीक्षा देने वाली है। तब सिंधीकैंप थाना प्रभारी गुंजन सोनी के नेतृत्व में टीम ने कांतिचंद रोड स्थित किसान गर्ल्स हॉस्टल में शुक्रवार देर रात छापा मारा। वहां से प्रमिला विश्नोई और कुमारी अनन्या चौधरी उर्फ झुम्मी को पकड़ा। उनका एडमिट कार्ड जारी हो चुका था।

खुलासा हुआ है कि प्रमिला की जगह परीक्षा देने के लिए अनन्या उर्फ झुम्मी परीक्षा में बैठने वाली थी। पूछताछ में सामने आया कि प्रमिला विश्नोई ने परीक्षा का फॉर्म भरते समय अनन्या चौधरी उर्फ झुम्मी का फोटो चिपकाया था। इस वजह से जारी हुए एडमिशन लेटर में भी असली अभ्यर्थी प्रमिला की फोटो की जगह अनन्या उर्फ झुम्मी की फोटो ही लगी हुई आई। इसके लिए 10 लाख रुपए देना तय हुआ था। आरोपी युवतियों ने फर्जी अभ्यर्थी की फोटो लगाकर आधार कार्ड भी तैयार करवाया था। पुलिस का मानना है कि इन दोनों के पीछे कोई और गैंग शामिल है। उनका पता लगाया जा रहा है। फिलहाल, पुलिस अनुसंधान में जुटी है।