बूंदी ढाबे पर खाना खाने गए दो भाईयों के साथ मारपीट, मामले शामिल पुलिस कर्मियो को बचाने का पीडित ने लगाया आरोप

 
बूंदी ढाबे पर खाना खाने गए दो भाईयों के साथ मारपीट

बूंदी। सदर थाना इलाके के सीलोर रोड़ ओवर ब्रिज के नीचे एक ढाबे पर खाना खाने गए दो भाईयों के साथ मारपीट के मामले में पुलिस ने पीड़ित की रिपोर्ट पर मारपीट और जान से मारने की धमकी देने वाले सोनू गुर्जर, प्रतिक नायक, राहुल सिंह सोलंकी के खिलाफ धारा 323, 341, 34 आईपीसी एससी एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है। जबकि पीडित लोकेश मीणा का आरोप है कि मारपीट में शामिल आरोपी पुलिस कर्मियों को बचाया जा रहा है। मामले की जांच बूंदी पुलिस उप अधीक्षक धर्मेंद्र कुमार शर्मा कर रहे हैं।

पीड़ित लोकेश मीणा ने आरोप लगाया कि 3 अक्टूबर की रात को अपने छोटे भाई के साथ सीलोर पुलिया के नीचे ढाबे पर खाना खाने गए थे वहां पर जाकर खाना खाना प्रारंभ किया इसी अंतराल में सोनू गुर्जर निवासी देवपुरा, प्रतिक नायक निवासी नायक मोहल्ला लंका गेट और राहुल सिंह सोलंकी निवासी देवपुरा व अन्य जिनमें सादा वर्दी में पुलिस कर्मी भी शामिल थे। जिन्होने आते ही जातिसूचक शब्दों से अपमानित करते हुए गाली गलौज की। पीड़ित लोकेश के साथ लात घोसो से मारपीट की गई, पीड़ित के छोटे भाई मनीष को लोहे के पाइप से मारपीट कर घायल कर दिया। जिससे मनीष की पीठ, होंठ, कान ओर सिर पर चोट लगी। पीड़ित वहां से जैसे-तैसे करके अपनी जान बचाकर भागे।


इसके बाद 4 अक्टूबर रात्रि 10 से 11 के बीच सोनू गुर्जर, प्रतीक और राहुल पर फोन पर भी जान से मारने की धमकी देने का आरोप पीडित ने लगाया है। पीड़ित का आरोप है कि हम दोनो भाईयो के साथ, सोनू गुर्जर, प्रतिक नायक, राहुल सिंह सोलंकी व पुलिसकर्मियों ने भी बर्बरता पूर्वक मारपीट की, लेकिन पुलिस आरोपी पुलिस कर्मीयो के खिलाफ कार्यवाही करना तो दूर उन्हे बचाने में लगी है।
हालांकि इस मामले में सदर थानाधिकारी संदीप शर्मा का कहना है कि फरियादी की रिपोर्ट पुलिस कर्मियों द्वारा मारपीट की बात नहीं कही गई है, जो रिपोर्ट दी है वहीं एफआईआर दर्ज की है।

मामले की जांच कर रहे पुलिस उप अधीक्षक धर्मेंद्र कुमार शर्मा ने कहा कि फरियादी की रिपोर्ट पर मामला दर्ज कर जांच की जा रही है जांच में जो भी सामने आएगा और जो दोषी होंगे उन पर नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी।