सईयां भये कोतवाल, तो डर काहें का: कोरोना संक्रमण को लेकर सरकार चिंतित- जिम्मेदार उड़ा रहे गाईडलाइन की धज्जियां

 
 सईयां भये कोतवाल, तो डर काहें का: कोरोना संक्रमण को लेकर सरकार चिंतित- जिम्मेदार उड़ा रहे गाईडलाइन की धज्जियां

टोंक,(शिवराज मीना)। एक ओर जहाँ राज्य में कोरोना की तीसरी लहर का असर तैजी से बढ़ता जा रहा है, साथ ही ओमिक्रोन संक्रमण का खतरा सिर पर मंडरा रहा है। देश और प्रदेश सरकार काफी चिंतित है और लगातार गम्भीर है। जिला कलक्टर चिकित्सा विभाग के साथ मिलकर आमजन के बेहतर स्वास्थ्य व कोरोना सक्रंमण से बचाव को लेकर तमाम कोशिशे कर रही है कि बेहतर प्रबन्ध के साथ इसे रोका जाये। लेकिन शहर में एक अफसर ऐसा भी है जिसे सरकार की गाईडलाईन पालन की जिम्मेदारी दी है वही इसकी अवहेलना करता दिखाई दे रहा हैं। इसका एक विडियो सोशल मिडिया पर वारल हो रहा है।

इसकी रोक थाम के लिए जिला कलेक्टर व जिला पुलिस अधिक्षक भी इन दिनों कोरोना गाईडलाईन की सख्ती से पालना करवाने के लिए अलर्ट मोड पर है। लेकिन टोंक जिले के प्रशासनिक अधिकारियों की सख्ती के बावजूद भी कुछ जिम्मेदारों पर शायद इससे कोई फर्क नहीं पड रहा है। जी हां सही सुना आपने। आखिर यह लोग राजस्थान के मुख्यमंत्री व राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट व पदेन टोंक पुलिस अधीक्षक (उप महानिरीक्षक) ओमप्रकाश की छवी को धूमिल करने का प्रयास कर रहे है। खबर टोंक शहर से है, जहां शहर कोतवाल जितेन्द्र सिंह चारण खुद कोरोना प्रोटोकोल की धज्जियां उड़ाते साफ नजर आ रहे है और अपने कुछ स्टाफ व शहरवासियों के साथ कोरोना संक्रमण के कहर के बीच 50 सैकण्ड के एक वीडियो क्लिप में सभी शामिल लोग बिना मास्क व बिना सोशल डिस्टेंसिंग के अपना जन्मदिन इकट्टा होकर मना रहे हैं। 

अगर इसी प्रकार से यह जन्मदिन पार्टी का कार्यक्रम आमजन का होता तो अब तक यही जिम्मेदार उनका चालान काट चुके होते। लेकिन यह सब नियम कानून सिर्फ आमजन के लिए ही है, साहब के लिए कोई के नियम और कानून। अब देखना यह है कि कोरोना प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने पर शहर कोतवाल थाना कोतवाली टोंक पर जिला कलेक्टर व जिला पुलिस कप्तान क्या एक्शन लेते है ?