कृषि भूमि अवैध खरीद बिक्री से भूमाफिया हो रहे मालामाल, कस्बे और गाँव में भी चला रहे हुकूमत

 
कृषि भूमि अवैध खरीद बिक्री से भूमाफिया हो रहे मालामाल

टोंक/पीपलू ,(शिवराज मीना/ओपी शर्मा)। आपको जमीनी हकीकत जानकर हैरानी होगी कि पीपलू तहसील क्षेत्र के ग्राम पंचायत सोहेला में कई खसरा नम्बर जारी कर अवैध प्लाटिंग का धंधा काफी बढ सा गया है। बेधड़क से भूमाफियाओं द्वारा अवैध प्लाटिंग ने कालोनाईजर एक्ट के नियमों की पालना को नजर अंदाज कर अवैध प्लाटिंग काटने के खेल को अंजाम दिया जा रहा है।

अब ऐसा क्या कारण है कि कई लोग इस खेल में माहरत हासिल कर प्रशासन को राजस्व का चकमा देने में माहरत हासिल कर रहे हैं। भूमाफियों द्वारा शासन-प्रशासन के सारे नियमों को ताक में रखकर खेत खलिहानों की आवासीय प्लाट के रूप में खरीद- फरोख्त बिक्री जोरशोर से हो रही है, जिस पर प्रशासन को कोई ध्यान नहीं है।

जमीन खरीद बिक्री में नकल को लेकर बड़ा खेल अधिकारियों व माफियाओं के बीच चलता है, कुछ माह पूर्व में जमीन खरीदी बिक्री में शामिल लोग व विभागीय सूत्रों की माने तो अवैध प्लाट इन पर राजस्व विभाग के कुछ जिम्मेदार लोगों की भूमिका भी संदिग्ध है जो कि इस अवैध प्लांटिंग की जानकारी के बावजूद भूमाफियाओं को अपने नियम शर्तों पर नकल जारी करते हैं। जिसके चलते जिले में अवैध प्लांटिंग का खेल जोरों पर है।
आपको बता दें कई किसानों को यह भी नहीं मालूम कि सरकार अवैध प्लाटिंग को लेकर कई कड़े नियम बना चुकी है, जिसके तहत भूमाफिया तो अपने प्लाट बेचकर निकल जाएंगे, लेकिन प्लाट बिकने के बाद एक बड़ी राशि जब किसान के परमानेंट अकाउंट नम्बर में दिखाई देगी तो सीधा आयकर विभाग के शिकंजे में फंसने से किसानों को कोई नहीं बचा सकता। लेकिन किसान इन सब बातों से अनजान होकर भूमाफियाओं के चंगुल में बुरी तरह फंस चुके है।