रामसागर के उप स्वास्थ्य केन्द्र भवन में आई दरारे, सुविधाएं नही है फंक्शनल-मरीजों को आती है बड़ी कठिनाईयां

 
उप स्वास्थ्य केन्द्र भवन में आई दरारे

टोंक/नगरफोर्ट,(शिवराज मीना/राजाराम लालावत) । जिले के नगरफोर्ट क्षेत्र की ग्राम पंचायत रामसागर के उप स्वास्थ्य केन्द्र के भवन में दरारे आने से आस-पास के ग्रामीणों सहित गर्भवती महिलाओं को प्रसव के लिये हादसे का डर सताने लगा है। वहीं सुविधाओं का अभाव होने से भी ग्रामीणों व आस-पास के लोगों को परेशानी हो रही हैं।

ग्रामीणों का कहना है कि उप स्वास्थ्य केन्द्र का यह भवन बने हुये कई साल हो गये है। जिससे अब भवन की दीवारों में जगह-जगह दरारे आने से हमेशा खतरा बना रहता है तथा उप स्वास्थ्य केन्द्र पर टॉयलेट, स्नान घर, पेयजल आदि की व्यवस्थाएं भी सुचारू नहींं होने से डिलिवरी के लिये आने वाली महिलाओं को भी काफी असुविधाओं का सामना करना पड रहा है। एक तरफ तो सरकार और विभाग संस्थागत प्रसव, मातृ एवं शिशु सुरक्षा की दृष्टि से कई तरह की योजनाएं चला रखी है तो दूसरी तरफ यहाँ विभाग की सारी पोल खुलती नजर आरही है। जननी सुरक्षा योजनान्तर्गत भी प्रसव के समय प्रसूति को कई घण्टों तक संस्थान पर ही रखने व देखभाल करने की उसके पोषण आदि की सुविधाएं भी उक्त योजना के तहत दी जाती है। किन्तु जर्जर भवन व व्यवस्थाओं के सुचारू नहींं होने से प्रसव के कुछ घण्टों बाद ही छुटी दे दी जाती है। जिससे प्रसूति को भी काफी असहनीय दुविधा हो रही है।

तीन रोज पहले भी क्षेत्रीय दौरे के तहत आये देवली पंचायत समिति प्रधान गणेशराम जाट को भी ग्रामीणों ने उक्त समस्या से अवगत करवाया था, किन्तु अब तक भी किसी ने भी इन समस्या की ओर ध्यान नहींं दिया है। वहीं एएनएम जाहिदा बानो ने बताया कि केन्द्र पर पानी की सुविधा नहींं होने से भी टॉयलेट, स्नानागार आदि में प्रसव के वक़्त काफी समस्या आती है तथा भवन में दरारे आने से हमेशा हादसे का डर बना रहता है व दरारों में जहरीले कीड़े मकोड़े घुसने का भय बना रहता है। स्वास्थ्य कार्यकर्ता ने यह भी बताया कि यहाँ प्रति-दिन औसत 2 से तीन डिलीवरी होती है, जो यहाँ एक साल में सैकडों डिलीवरी होने से भी जिले में यहाँ का नाम चर्चा में है।