प्रेम प्रसंग के संदेह में पड़ोसी पर किया जानलेवा हमला, उपचार के दोरान हुई मौत, हत्या के 3 आरोपी गिरफ्तार

- मृतक के परिजनो को अज्ञात लोगो द्वारा हमला करने कि सूचना दी, पुलिस जांच में खुली पोल
 
Neighbor attacked on suspicion of love affair, died during treatment, 3 accused of murder arrested

टोंक/निवाई, (गणेश योगी)। जिले के दत्तवास थाना क्षेत्र में हुई हत्या के मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार (Three people arrested in the case of murder in Dattawas police station area) किया गया है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक भवानी सिंह ने बताया कि हत्या के आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस अधीक्षक मनीष त्रिपाठी के निर्देशन में पुलिस उपाधीक्षक संदीप सारस्वत के नेतृत्व में टीम गठित की गई थी। टीम ने अनुसंधान कर रविवार को कार्यवाही करते हुए प्रेम प्रसंग को लेकर की गई हत्या के तीन आरोपियों को गिरफ्तार (Three accused of murder over love affair arrested) किया है।

Neighbor attacked on suspicion of love affair, died during treatment, 3 accused of murder arrested

डीएसपी संदीप सारस्वत ने बताया कि गांव टोरडी में पूर्व शराब की दुकान के बाहर सो रहे कमल सिंह पुत्र रतन सिंह उम्र 55 वर्ष निवासी गुगड्डोद बौंली सवाई माधोपुर पर कुछ लोगों ने मारपीट करते हुए जानलेवा हमला कर दिया था जिससे उसकी उपचार के दौरान मृत्यु हो गई थी। उसकी मृत्यु के बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने थानाधिकारी व दोषी पुलिस कर्मियों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की मांग को लेकर निवाई बाईपास पर शव लेकर प्रदर्शन करने का प्रयास किया था।  इस बीच पुलिस ने मौके पर पहुंचकर बदमाशो पर कार्यवाही का आश्वासन दिया था। इसके बाद मृतक के परिजनों ने शव को गांव ले जाकर अंतिम संस्कार कर दिया। 

डीसीपी सारस्वत ने बताया कि इसके बाद पुलिस अधीक्षक मनीष त्रिपाठी के निर्देशन में हत्या के अपराधियों की तलाश के लिए पुलिस टीम जुट गई। उन्होंने बताया कि मृतक कमलसिंह गांव धतूरी में स्थित अपनी झोपड़ी में परचून की आड़ में अवैध शराब बेचता था तथा मृतक का पडोसी रामसहाय गुर्जर के घर आना जाना था। रामसहाय का चाचा श्योजीराम मृतक के पास ही झोपड़ी में सोता था। रामसहाय और उसके पुत्र बबलू गुर्जर व युवराज गुर्जर को मृतक कमल सिंह एवं बबलू की पत्नी के बीच अवैध संबंध होने का शक था। जिसके चलते घर में आए दिन कलह होती थी। इसी से आक्रोशित होकर रामसहाय गुर्जर, उसके चाचा श्योजीराम गुर्जर एवं उसके छोटे पुत्र युवराज गुर्जर ने कमल सिंह को रास्ते से हटाने का षडयंत्र रचा। 

पुलिस उपाधीक्षक ने बताया कि योजना अनुसार षड़यंत्र के तहत 1 नवंबर की देर रात में कमल सिंह की बगल में सो रहे श्योजीराम तथा रामसहाय गुर्जर व युवराज गुर्जर लाठी लेकर आए और निर्ममता पूर्वक लाठियों से वार किए।  इसके बाद सोची समझी योजना के तहत कमल सिंह के परिजनों को रात करीब सवा तीन बजे अज्ञात व्यक्तियों द्वारा कमल सिंह पर हमला करने की सूचना दी। जिसके बाद परिजन मौके पर आकर गंभीर घायल को जयपुर उपचार के लिए ले गए। जहां 9 नवंबर को कमल सिंह की मृत्यु हो गई। 

उन्होंने बताया कि कमल सिंह पर जानलेवा हमला होने पर उसके भाई विजय सिंह ने मुकदमा दर्ज करवाया था। उन्होंने बताया कि अनुसंधान के दौरान की पूछताछ से उक्त हत्या का खुलासा हुआ। उन्होंने बताया कि प्रेम प्रसंग के शक में हत्या करने के आरोपी  रामसहाय गुर्जर पुत्र छीतरलाल गुर्जर उम्र 50 वर्ष, श्योजीराम गुर्जर पुत्र नाथूलाल गुर्जर उम्र 70 वर्ष तथा युवराज गुर्जर पुत्र रामसहाय गुर्जर उम्र 19 वर्ष तीनों निवासी गुगडोद सवाईमाधोपुर को गिरफ्तार कर लिया। मामले में अनुसंधान जारी है।