PWD की अनदेखी के चलते पुलिया के पानी निकासी की नहीं होने से ग्रामीण हो रहे परेशान

- पीडब्ल्यूडी विभाग सहित उच्चाधिकारियों को लिखित में अवगत कराने पर भी संबंधित जिम्मेदार बने हुए हैं मुकदर्शक
- जिम्मेदार अपनी जिम्मेदारी से झाड रहे पल्ला, ग्रामीणों की समस्याओं को लेकर कोई भी नहीं है गंभीर
 
Due to the neglect of PWD, the villagers are getting upset due to the lack of water drainage of the culvert

टोंक/अलीगढ़/उनियारा,(शिवराज बारवाल/विजयसिंह मीना)। जिले के उनियारा उपखण्ड क्षेत्र की ग्राम पंचायत चौरू में जनप्रतिनिधियों सहित उच्चाधिकारियों की घोर अनदेखी तथा उदासीनता के चलते हुए पुलिया के पानी निकासी की समुचित व्यवस्था नहीं होने से ग्रामीण परेशान (Villagers upset due to lack of proper drainage system of culvert) हो रहे हैं। वहीं चौरू कस्बें में जगराम मीणा के मकान के सामने पुलिया बनी हुई है। लेकिन पुलिया का स्तर नीचा होने व रोड ऊंचा उठने के कारण पानी की निकासी नहीं हो पा रही है।

 चौरू के ग्रामवासियों से मिली जानकारी के अनुसार उनके द्वारा तहसीलदार, गिरदावर सहित संबंधित विभागीय व प्रशासनिक अधिकारियों को लिखित अवगत करा रखा है, फिर भी उपखण्ड प्रशासन, पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। अभी तक समस्या का कोई समाधान नहीं हुआ है, जबकि जनप्रतिनिधियों व उच्चाधिकारियों को अवगत कराने के बावजूद भी आखिरकार समाधान क्यों नहीं हो पा रहा हैं, उच्चाधिकारी व जनप्रतिनिधी क्यों मूकदर्शक बने हुए हैं। चोरू कस्बे के रामनिवास माली वार्ड पंच, चिरंजीलाल सैनी, मुरारी लाल सैनी, बहादुर सिंह मीणा, कमलेश मीना, महावीर प्रसाद मीणा, विनोद कुमार नागर सहित कई कस्बेवासियों ने बताया कि पुलिया के पानी निकासी की समुचित व्यवस्था नहीं करवाने से ग्रामीणों सहित राहगीर आएदिन परेशान हो रहे हैं, सड़क पर पानी में कीचड़ व गड्डे दुर्घटना सहित मौत को निमंत्रण दे रहे हैं, बाईक सवार आयेदिन सड़क पर पानी भरे गड्ढों में गिरने से दुघर्टना बढ़ रही है। महिला-पुरूषों सहित गिरकर चोटिल हो रहे हैं। 

दूसरी एक तरफ़ तो मकानों से गन्दा पानी नालियों से होकर पुलिया की निकासी नहीं होने से अवरूद्ध होने के कारण नालीयां भी आगे से बंद है, इसलिए मकानों का पूरा पानी रोड पर आ जाता है। इस दौरान दोपहिया वाहन चालक दुर्घटनाग्रस्त हो रहे हैं। चौरू निवासी एक व्यक्ति बाईक से गिरने पर उसका पैर फैक्चर हो गया, जो गत दिनों से उसका ईलाज सरकारी हॉस्पिटल जयपुर में चल रहा हैं। इस दौरान जबकि राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के छात्र-छात्राओं को सुबह स्कूल जाते व स्कूल छुट्टी के बाद आने में या पैदल निकलने में काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है, उसके बावजूद भी आए दिन लोग चोटिल हो रहे हैं, यदि पुलिया की निकासी शीघ्र नहीं की गई तो आने वाले समय में भयंकर जटिल समस्याओं से गुजरना पड़ सकता है। फिर भी जिम्मेदार मौन हैं, जिससे ग्रामवासियों के मकानों का पानी पूरा सड़क मार्ग पर आ जाता है। 

पानी के मार्ग पर जमा होने के चलते हुए लोगों को आवाजाही में काफी जटिल समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इस मामले में जनप्रतिनिधियों तथा उच्चाधिकारियों को भी कई बार अवगत करा दिया गया है। लेकिन फिर भी ग्रामीणों की जटिल समस्याओं को लेकर कोई भी गंभीर नहीं हैं। इससे आमजनों को काफी जटिल परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। मजबूरन पीडब्ल्यूडी विभाग के उच्चाधिकारियों का खामियाजा आम जनता को भुगतना पड़ रहा है। इससे लोगों में पीडब्ल्यूडी  विभाग सहित उच्चाधिकारियों व जनप्रतिनिधियों के प्रति दिनोंदिन आक्रोश बढ़ता जा रहा है। वहीं यदि समय रहते हुए चौरू बस स्टैण्ड की पुलिया की पानी निकासी की व्यवस्था शीघ्र शुरू नहीं की गई तो कस्बेंवासियों द्वारा संबंधित जिम्मेदार विभाग के विरूद्ध आंदोलनात्मक कदम उठाने का रूख करना पड़ेगा।

इनका कहना है-
इस संबंध में ग्राम पंचायत चौरू के सरपंच रामसहाय मेरोठा का कहना है कि उनके द्वारा पीडब्ल्यूडी विभाग सहित उच्चधिकारियों व देवली-उनियारा विधायक को भी अवगत करा रखा है। दुबारा फिर से समस्या समाधान के लिए अवगत कराकर आमजन की जनसमस्या से राहत दिलाने का प्रयास किया जाएगा।