संसदीय स्थायी समितियों की सबसे बड़ी शक्ति है कि वे दलगत आधार से ऊपर उठकर कार्य करती हैं- बिरला

-लोक सभा अध्यक्ष ने जयपुर में स्टडी टूर पर आई शहरी विकास संसदीय स्थायी समिति से मुलाकात की 
 
 
 शहरी विकास संसदीय स्थायी समिति से मुलाकात की

जयपुर। लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने आज जयपुर में स्टडी टूर पर आई शहरी विकास संसदीय स्थायी समिति से मुलाकात की इस अवसर पर बिरला ने समिति के सभापति जगदंबिका पाल तथा समिति के अन्य सदस्यों के साथ चर्चा में सम्मिलित होने पर प्रसन्नता व्यक्त की एवं समिति का ऐतिहासिक नगर जयपुर में स्वागत किया।

प्रदेश का उल्लेख करते हुए बिरला ने कहा कि राजस्थान अपनी भौगोलिक विविधता, बहुरंगी संस्कृति तथा अपने अतिथि सत्कार के लिए पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। उन्होंने आगे कहा कि राजस्थान, विशेषकर जयपुर में सभी प्रकार की रुचि रखने वाले पर्यटकों के लिए पर्याप्त सुविधाएं हैं।

संसदीय समितियों के महत्वपूर्ण कार्य उल्लेख करते हुए बिरला ने कहा कि समिति का स्टडी टूर एक महत्वपूर्ण अवसर होता है जहां जान प्रतिनिधि संसद द्वारा अनुमोदित कार्यक्रमों और नीतियों के वास्तविक क्रियान्वयन को देखते हैं जिससे उनको नीतियों एवं कार्यक्रमों की फर्स्ट हैंड जानकारी प्राप्त होती  है। बिरला ने जन प्रतिनिधियों की जन सेवा के व्यापक अनुभव का उल्लेख करते हुए कहा की सांसद जनता से सीधे जुड़े होते हैं और उन्हें जानकारी होती है कि सरकार के कार्यक्रमों के क्रियान्वयन का जनता पर क्या प्रभाव पड़ रहा है। समिति के दायित्वों के विषय में बिरला ने कहा कि समिति सरकार की आलोचना करें, व् उनकी गलतियों को सामने लाएं, परंतु मात्र आलोचना के लिए आलोचना नहीं होनी चाहिए।

बिरला ने समिति के जयपुर प्रवास के दौरान स्मार्ट सिटी, अमृत योजना, मेट्रो रेल तथा प्रधान मंत्री आवास योजना जैसी महत्वपूर्ण योजनाओं के क्रियान्वयन की समीक्षा के लिए समिति सदस्यों को प्रोत्साहित किया। उन्होंने आगे कहा कि संसदीय स्थायी समितियों की सबसे बड़ी शक्ति है कि वे दलगत आधार से ऊपर उठकर कार्य करती हैं ताकि संसद की ओर से समितियाँ सरकार के कार्यों की रचनात्मक समीक्षा कर सकें।