सवाई माधोपुर मित्रपुरा में रात को बूंदाबांदी, दिनभर छाए रहे बादल, ठंड बढ़ने से लोग सर्दी से बचाव के जतन करते दिखें

 
ठंड बढ़ने से लोग सर्दी से बचाव के जतन करते दिखें

सवाई माधोपुर, (राकेश चौधरी)। मित्रपुरा तहसील क्षेत्र में दिसम्बर के अंतिम सप्ताह में मौसम ने करवट बदली। सोमवार को रात से हल्की बूंदाबांदी के बाद मंगलवार को दिनभर आसमान में बादल छाए रहने से वातावरण में ठंडक घुल गई। जिससे आम जनजीवन प्रभावित नजर आया। कड़ाके की सर्दी और शीतलहर ने लोगों को घरों में कैद कर दिया। कस्बे और गावों के लोग आग जलाकर अलाव का सहारा लेते हुए दिखाई दिए।

​    ​सवाई माधोपुर मित्रपुरा में रात को बूंदाबांदी, दिनभर छाए रहे बादल,

बीती रात करीब साढे 12 बजे अचानक से आसमां से बूंदाबांदी होने लगी।
हल्की बूंदों ने सर्द मौसम में ठिठुरन पैदा कर दी। ठंड से बचाव के लिए लोग घरों व अपने प्रतिष्ठानों के बाहर अलाव का सहारा लेते नजर आए। रोजमर्रा के काम के लिए बाहर जाने वाले लोगो का ठंड के कारण कामकाज प्रभावित नजर आया।  लोग गर्म कपड़ो में लिपटे नजर आए। चाय की थडी और चाट पकौडियों के ठेलों पर लोग चटखारे दिखे। मूंगफली और तिल की गजक की बिक्री भी बढ़ गई। गर्म कपडों की दुकानों पर ग्राहको की भीड खरीदारी करती नजर आई।

फसलों के लिए बरसा अमृत
बूंदाबांदी होने से इलाकें में किसानों के चेहरे खिल गए हैं। मावठ से फसल को फायदा होगा। गेहूं, सरसों  चने की फसल में खास फायदे की संभावना है।  हल्की बारिश के कारण अब कोहरा छाने की उम्मीद है। कृषि विशेषज्ञों के अनुसार रबी की फसल के लिए मावठ फायदेमंद है। कृषि विभाग के सहायक अधिकारी महेश चन्द शर्मा ने बताया कि सीजन की पहली हल्की मावठ किसानों के लिए काफी लाभदायक है। गेहूं, चना, मटर एवं सब्जियों की फसलों में बूंदाबांदी से काफी फायदा होगा।