एसडीएम ने जमीन पर दिया स्टे तो नायब तहसीलदार ने कर दी रजिस्ट्री, 11 जनों के खिलाफ मामला दर्ज

 - सवाई माधोपुर जिले के मित्रपुरा तहसील कार्यालय का ये दूसरा मामला 
 
SDM gave stay on land, Naib Tehsildar did registry, case registered against 11 people
सवाई माधोपुर,(राकेश चौधरी)। जिले मे राजस्व विभाग के अधिकारी अपनी मनमर्जी के अनुसार काम कर रहे है, वहीं उच्च अधिकारियो के आदेशो को और नियमो को खुलेआम उड़ा रहे है। ऐसा एक नहीं दो मामले मित्रपुरा तहसील कार्यालय (Mitrapura Tehsil Office) के आये है जिनमे दोनों मामलो में एसडीएम कोर्ट से जमीन पर लगे स्टे (Stay on the ground from SDM court) लगा हुआ होने के बाद भी नायब तहसीलदार हरिकेश मीना ने रजिस्ट्री कर दी (Naib Tehsildar Harikesh Meena has registered) जिसकी दोनों मामलो की बौंली थाने में प्राथमिकी भी दर्ज हो गयी और उप पंजीयक हरिकेश मीना को मित्रपुरा तहसील कार्यालय से स्थानान्तरण कर दिया गया है।

मामला ये है की मित्रपुरा कस्बे के नजदीकी मोरन गाँव मे स्टे लगनें के बाद भी तहसील कार्यालय में रजिस्ट्री कर दी गयी वही अब एक और नया मामला सामने आया है जिसकी बौंली थाने में प्राथमिकी दर्ज हुई है। दर्ज मुकदमे के अनुसार मोरन निवासी परिवादी गणपत सिंह की और परिवार की जमीन मोरन गाँव में है। जिसमे जमीन का हिस्सा अपने भांजे राजेन्द्र सिंह के नाम लग गया था जिसको लेकर के शुद्धिकरण के लिए बौंली उपखंड न्यायालय में मामला विचाराधीन चल रहा था। मामले को लेकर के न्यायालय उपजिला कलेक्टर बौंली ने 11 मई को उक्त भूमि को यथास्थिति बनाये रखने के लिए आदेश जारी किये थे लेकिन नायब तहसीलदार ने न्यायालय उपजिला कलेक्टर बौंली के आदेशो की अवहेलना करते हुए 25 मई को रजिस्ट्री कर दी। जिसके बाद परिवादी ने इस्तगासे के जरिये बौंली थाने में 11 लोगो के खिलाफ मामला दर्ज किया है।
 
स्टे के एक दिन बाद ही तहसील कार्यालय में दे दी थी स्टे की प्रतिलिपि
परिवादी गणपत सिंह द्वारा थाने में दर्ज परिवाद के अनुसार जमीन पर लगे न्यायालय उपजिला कलेक्टर के स्टे की प्रतिलिपि मित्रपुरा तहसील कार्यालय में एक दिन बाद ही पंजीयन शाखा में जमा करवा दी थी लेकिन उसके बाद भी नायब तहसीलदार ने आदेशो की अवहेलना करते हुए रजिस्ट्री कर दी। 

पहले भी हुआ है ऐसा ही मामला 
मित्रपुरा तहसील कार्यालय में स्टे आने के बाद रजिस्ट्री होने का ये पहला मामला नही है, इससे 15 दिन पहले भी एक ऐसा ही मामला सामने आया था जिसमे न्यायालय उपजिला कलेक्टर बौंली के स्टे के बावजूद जमीन की रजिस्ट्री कर दी गयी जिसमे  तहसील कार्यालय के 4 कार्मिको के खिलाफ मामला दर्ज हुआ था। 

नायब तहसीलदार सहित 11 के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज 
मोरन गांव में स्टे के बावजूद जमीन की रजिस्ट्री के मामले में तहसीलदार सहित 11 लोगो के खिलाफ मामला दर्ज हुआ है। जिसमे नायब तहसीलदार हरकेश मीना ओर दीपेंद्र सिंह पुत्र राजेन्द्र सिंह, रतन कंवर पत्नी राजेन्द्र सिंह, सुमन कंवर पुत्री राजेन्द्र सिंह, मुकुट कंवर पुत्र राजेन्द्र सिंह निवासी सांगानेर ओर अनूप सिंह पुत्र रघुवीर सिंह, काली देवी पत्नी रामनिवास, कमलेश कंवर पत्नी महेंद्र सिंह, संतोष कंवर पत्नी रेयत सिंह, गोपाल कंवर पत्नी उम्मेद सिंह, सुरेंद्र सिंह पत्नी मांगू सिंह निवासी मोरन के खिलाफ मामला दर्ज हुआ है।