कोटा पुलिस हिरासत में युवक की संदिग्ध मौत, लोगो ने किया जमकर हंगामा, पूर्व विधायक गुंजल ये बोले...

 
लोगो ने किया जमकर हंगामा

कोटा। नयापुरा थाने में हिरासत में युवक की संदिग्ध परिस्थिति मौत का मामला सामने आया है। युवक की खबर मिलने के बाद थाने के बाहर काफी हंगामा काफी हुआ। पुलिस कमल लोधा को दोपहर में पकड़ कर लाई थी। जिसकी संदिग्ध मौत हो गई। हालांकि, पुलिस थाने में सुसाइड करने की बात कह रही है। वहीं सूचना पाकर पूर्व विधायक प्रहलाद गुंजल अस्पताल पहुंचे, उन्होने कहा- पुलिस पर जब तक हत्या का मुकदमा दर्ज नहीं होगा, तब तक शव नहीं उठाएंगे।

पुलिस हिरासत में युवक की संदिग्ध मौत

जानकारी के मुताबिक, नयापुरा मस्जिद चौक में रहने वाले रवि और उसके मामा के लड़के कमल लोधा के बीच बुधवार को कहासुनी के बाद बात मारपीट तक पहुंची। इसके बाद रवि में नयापुरा थाने में इसकी सूचना दी, जिसके बाद नयापुरा थाने से दो पुलिसकर्मी शाम 4 बजे बाइक पर कमल लोधा को बैठा कर लाए थे। युवक को एमबीएस अस्पताल ले जाया गया। जहां पर चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया है। इसके बाद नयापुरा थाने के पुरे स्टाफ को लाइन हाजिर करने की सूचना सामने आ रही है। हालांकि, इस संबंध में अभी किसी पुलिस अधिकारी ने कोई पुष्टि नहीं की है।

मृतक युवक के रिश्तेदार सुरेश लोधा का आरोप है कि पुलिसकर्मी उसे मारते हुए लेकर गए थे। फिर थाने पर पता नहीं उसके साथ में क्या हुआ है। शाम को कमल की मां जब 6 बजे थाने पर पहुंची, तब पुलिस ने उसके मरने की बात कही। साथ ही कहा कि वह एमबीएस अस्पताल चली जाए, जहां पर उसके बेटे की लाश है। इधर, पुलिस का कहना है कि युवक ने अपने शर्ट से फांसी लगाकर जान दे दी।

कमल लोधा की मौत की सूचना जैसे ही मस्जिद चौक इलाके में पहुंची सैकड़ों की संख्या में लोग थाने के बाहर जमा हो गए और पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी करने लगे। लोगों ने सड़क पर लगे हुए बैरिकेड्स भी गिरा दिये और काफी देर तक थाने के बाहर गहमागहमी जैसा माहौल बना रहा।

थाने के बाहर काफी हंगामा

घटना कि सूचना मिलने पर कोटा शहर एसपी डॉ. विकास पाठक एमबीएस अस्पताल पहुंचे और उन्होंने परिजनों से बातचीत की। साथ ही पूरी घटना के बारे में जानकारी जुटाई है।

गुंजल ने कहा- पुलिस पर जब तक हत्या का मुकदमा दर्ज नहीं होगा, तब तक शव नहीं उठाएंगे
घटना की जानकारी मिलने पर पूर्व विधायक और भाजपा नेता प्रहलाद गुंजल भी एमबीएस अस्पताल पहुंचे। जहां पर उन्होंने परिजनों से घटना की जानकारी ली।  इसके बाद गुंजल ने कहा कि शहर की कानून व्यवस्था त्रस्त है और दूसरी तरफ से थानों में इस तरह के घटनाक्रम हो रहे हैं। कांग्रेस के शासन में कोटा का अमन चैन खो गया है। राहगीरों से लूटपाट और कुछ पैसे के लिए हत्याएं जैसी वारदातें आम हो गई है। पूर्व विधायक प्रहलाद गुंजल ने साफतौर पर कहा कि पुलिस चोरों की तरह उसके शव को एमबीएस अस्पताल की मोर्चरी में ले गई है, लेकिन जब तक पुलिस कर्मियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज नहीं किया जाएगा, तब तक कमल लोधा के शव को नहीं उठाया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस गरीब परिवार को उचित मुआवजा भी राज्य सरकार दे।