दलगत भावना से ऊपर उठ सामूहिकता से करें गांवों का विकासः बिरला

 
दलगत भावना से ऊपर उठ सामूहिकता से करें गांवों का विकासः बिरला

कोटा। गांवों के समग्र विकास के लिए आवश्यक है कि दलगत भावना से उठकर ग्रामीण सामूहिकता के साथ निर्णय करें। कुछ कार्य व्यक्तिगत तो कुछ साझे होते हैं। सामूहिक समस्याओं के निराकरण के लिए सर्वश्रेष्ठ विकल्प सामूहिक निर्णय ही हो सकता है। यह बात लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सोमवार को कैथून में आयोजित प्रबुद्धजन दीपावली स्नेह मिलन समारोह को संबोधित करते हुए कही।

कार्यकर्ताओं से आव्हान उठाएं मानव कल्याण की जिम्मेदारी

स्पीकर बिरला ने इस अवसर पर सामाजिक कार्यकर्ताओं का भी आव्हान किया कि उनके और जनता के बीच संवाद का संबंध कमजोर नहीं पड़ना चाहिए। हर सक्षम व्यक्ति अक्षम तक नहीं पहुंच सकता और हर अक्षम की गुहार स्वतः ही सक्षम तक नहीं पहुंच पाती। सामाजिक कार्यकर्ता अक्षम और सक्षम के बीच की वह कड़ी है जो दोनों का मेल करवाकर कल्याण का मार्ग प्रशस्त करता है। सामाजिक कार्यकर्ता को आमजन के अभाव जनप्रतिनिधियों तक तर्क और कारणों के साथ पहुंचाने चाहिएं। यदि वे ऐसा करने में सफल रहते हैं तो निश्चित मानिए जनता की परेशानी का समाधान निकलने में भी वे सफल रहेंगे।

कोरोना के कठिन समय को याद करते हुए स्पीकर बिरला ने कहा कि उस चुनौती को सामूहिक सहयोग के कारण ही नियंत्रित कर पाए। अब हमारा दायित्व है कि कोरोनों में अपनों को खो चुके परिवारों का सहारा बनें। उन्हें आत्मनिर्भर बनने में सहायता करें ताकि वे अपना जीवन पूर्व की भांति जी सकें।

अगले चार दिन रोज आएगी रैक
कार्यक्रम के दौरान विधायक कल्पना देवी के डीएपी की किल्लत का जिक्र करने पर लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने कहा कि यह विषय उनके संज्ञान में है। उनकी दिल्ली में मंत्रालय में बात हो चुकी है। हाड़ौती के लिए अब अगले चार दिन तक रोज रैक आएगी। इससे यहां डीएपी की कमी काफी हद तक दूर हो जाएगी। हालांकि, उन्होंने डीएपी की कालाबाजारी और जमाखोरी पर भी नाराजगी व्यक्त की।

जैविक खेती अपनाएं किसान
लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने किसानों से भी प्रगतिशील बनने का आव्हान किया। उन्होंने कहा कि किसान हमारे देश का आधार हैं। वे जितने सशक्त होंगे, देश उतना ही मजबूत होगा। परन्तु किसान भी डीएपी और यूरिया के अत्यधिक उपयोग को नियंत्रित कर जैविक खेती जैसे बेहतर विकल्प चुनें।

गांव में लेकर आऊंगा कृषि वैज्ञानिक
स्पीकर बिरला ने कहा कि उनका फोकस है कि किसानों की आय बढ़े। इसके लिए आवश्यक है कि किसानों को बेहतर बीज और दवाएं मिलें। हम देश के प्रमुख कृषि विशेषज्ञों और कृषि वैज्ञानिकों को गांवों तक लेकर आएंगे। किसानों को अवसर देंगे कि वे उनसे जलवायु, पानी की उपलब्धता तथा मौसम के अनुरूप फसल पर सलाह ले सकें। इससे उनकी आर्थिक समृद्धि बढ़ेगी।

प्रबुद्धजन दीपावली स्नेह मिलन समारोह

कोटा से कैथून तक जोरदार अभिनंदन
लोकसभा अध्यक्ष बिरला का कैथून जाते समय रास्ते में जगह-जगह स्वागत किया गया। कोटा स्थित कैंप कार्यालय से रवाना होने के बाद डीसीएम चैराहा पर अशोक मीणा के नेतृत्व में सामाजिक कार्यकर्ता राममीणा,संतोष अग्रवाल, विजेंद्र भाणावत, इंद्र कुमार जैन, दीपक मीणा, मुकेश नागर,श्री गौतम सहित बड़ी संख्या में स्वागत किया गया । कोटा से कैथून मार्ग पर डीसीएम चौराहा ,रायपुरा चैराहा, कैथून रोड पर विभिन्न सामाजिक धार्मिक व्यापारिक संस्थाओं के द्वारा स्वागत द्वार बनाकर एवं पुष्प वर्षा कर अभिनंदन किया गया। कैथून में प्रवेश करते ही लोकलोकसभा स्पीकर बिरला के स्वागत को लोग उमड़ पड़े। स्पीकर बिरला कार्यक्रम स्थल तक करीब 2 किमी पैदल चलकर गए। इस दौरान एक ओर जहां उन्होंने लोगों को दीपावली की शुभकामनाएं दीं, वहीं रेगर समाज, मेघवाल समाज,  कहार समाज, माली समाज, प्रजापति समाज, राठौर समाज, माहेश्वरी समाज, जैन समाज, जागा समाज, अंसारी समाज ,नंदवाना परिवार व व्यापारिक संगठनों, समाजिक कार्यकर्ताओं और प्रबुद्धजनों द्वारा उनका जगह-जगह स्वागत किया गया।

कोविड ने हमें मजबूत बनाया
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए लाडपुरा विधायक कल्पना देवी ने कहा कि कोविड के कारण हम लगभग दो साल बाद पहली बार सामूहिक रूप से मिल रहे हैं। कोविड ने हमें अनेक दर्द दिए, लेकिन हमें मजबूत भी बनाया। हम लोग दर्द बांटने, मदद करने, संबल देने के लिए एक-दूसरे के और नजदीक आए।