5 दशक से निवास कर रहे लोगों को घड़ियाल अभ्यारण्य से मुक्ति दिलाए सरकार

- भाजपा नेताओं ने उठाया अपस्ट्रीम में बसी कॉलोनियों का मुद्दा  
 
घड़ियाल अभ्यारण्य से मुक्ति दिलाए सरकार

कोटा. चम्बल नदी के अपस्ट्रीम में बसी शिवपुरा,श्याम नगर, हनुमान नगर व किशोरपुरा कॉलोनियों को घड़ियाल अभ्यारण्य क्षेत्र से पृथक कराने की मांग को लेकर भाजपा दादाबाडी मंडल के कार्यकर्ताओं ने जिला कलक्टर को ज्ञापन सौंपा।

भाजपा प्रतिनिधिमंडल ने जिला कलक्टर को अवगत कराया कि उक्त रिहायशी कॉलोनियों की बसावट को 5 दशक से अधिक का वक्त बीत चुका है। लम्बे समय से यहां हजारों परिवार निवास कर रहे हैं लेकिन घड़ियाल अभ्यारण्य क्षेत्र में आने के कारण स्थानीय निवासियों को संम्पत्ति पट्टे का लाभ नहीं मिल पाया है साथ ही अन्य सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिल पाने के कारण भी अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। भाजपा नेताओं ने बताया कि रिहायशी क्षेत्र में न घड़ियाल पाए जाते हैं और न ही यहां घड़ियाल प्रजनन का क्षेत्र है। इसके पूर्व अभ्यारण्य में आरक्षित क्षेत्र में पट्टे जारी हो चुके है, ऐसे में शेष आबादी को सुविधा से वंचित रखना न्यायसंगत नहीं होगा।

दादाबाड़ी मंडल अध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह हाड़ा ने कहा कि बूंदी में वन एवं पर्यावरण मंत्रालय द्वारा रिहायशी क्षेत्र को अभयारण्य से मुक्त कर लोगों को राहत प्रदान की है। बूंदी में की गई इस सराहनीय पहल को आधार मानते हुए चम्बल अपस्ट्रीम में बसी कॉलोनियों को अभ्यारण्य से मुक्ति दिलाकर आमजन को लाभान्वित किया जाए। ज्ञापन देने वालों में पूर्व प्रदेश महामंत्री भाजयुमो विकास शर्मा, पूर्व मंडल अध्यक्ष शैलेंद्र रिषी, महामंत्री अजय नंदवाना, रामदयाल शाक्यवाल आदि मौजूद रहे।