अगले वर्ष से कोटा कैम्पस में ही शुरू होगी ट्रिपल आईटी नए बैच की पढ़ाई : बिरला

-100 एकड में 121 करोड़ की लागत से बनेगी अपनी ट्रिपल आईटी
-स्पीकर बिरला ने किया निर्माणाधीन भवन का दौरा 
 
Triple IT new batch studies will start in Kota campus from next year: Birla

कोटा। रानपुर में बन रही कोटा ट्रिपल आईटी 100 एकड क्षेत्र में (Kota Triple IT is being built in Ranpur in 100 acres area) फैली होगी। इसके निर्माण पर कुल 121 करोड़ रूपए खर्च किए जाएंगे। लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला (Lok Sabha Speaker Om Birla) ने शनिवार को कोटा ट्रिपल आईटी के निर्माणाधीन भवन का दौरा (Visit to the under construction building of Kota Triple IT) किया। इस दौरान उन्होंने केंद्रीय सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधिकारियों को काम को गुणवत्ता के साथ जल्द से जल्द पूरा करने के निर्देश दिए। बिरला ने अधिकारियों को इस वर्ष के अंत तक निर्माण कार्य पूरा करने को कहा ताकि अगले वर्ष नए बैच की पढ़ाई ट्रिपल आईटी के अपने कैंम्पस में ही शुरू हो सके। 

कोटा ट्रिपल आईटी वर्ष 2013 में स्वीकृत की गई थी। लेकिन भवन की व्यवस्था नहीं होने से यह प्रारंभ से जयपुर के एमएनआईटी परिसर में चल रही है। इसमें अध्ययनरत दो बैच अब तक पास हो चुके हैं। ऐसे में काफी समय से मांग की जा रही थी कि ट्रिपल आईटी कोटा भवन जल्द तैयार कर इसे स्थानीय स्तर पर संचालित किया जाए।

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के प्रयासों से इसके लिए 121 करोड़ का प्लान स्वीकृत हुआ और अक्टूबर 2020 में इसका निर्माण कार्य प्रारंभ हुआ। लेकिन बाद में कोविड आ जाने के कारण काम की गति कुछ क्षीण हो गई। परिस्थितियां सुधरने के बाद अब एक बार फिर ट्रिपल आईटी कोटा के भवन के निर्माण कार्य ने गति पकड़ी है।

उधर, शनिवार को कोटा पहुंचने के बाद स्पीकर बिरला ने सबसे पहले ट्रिपल आईटी के निर्माणाधीन भवन का दौरा किया। बिरला ने अधिकारियों को व्यापक पौधारोपण अभियान चलाकर ट्रिपल आईटी परिसर को ग्रीन कैम्पस के रूप में विकसित करने को कहा। लोक सभा अध्यक्ष ने अधिकारियों को फेज 2 के निर्माण की कार्ययोजना पर भी अभी से बनाई जाए।    

 ट्रिपल आईटी के प्रोजेक्ट डायरेक्टर प्रो. एके व्यास ने लोकसभा अध्यक्ष को बताया कि 100 एकड क्षेत्र में भवनों के प्रावधान करते हुए पर्याप्त खुले स्थान का भी प्रावधान किया गया है। परिसर में बनी इमारतों का कुल क्षेत्रफल करीब 35000 वर्गमीटर होगा। सभी भवनों को 3 स्टार ग्रिहा मापदण्डों के अनुसार डिजाइन किया गया है जो भूकम्परोधी रहेंगे। 

पूर्णतया वातानाकूलित होगा शिक्षण-प्रशासनिक भवन
कोटा ट्रिपल आईटी का शिक्षण और प्रशासनिक भवन पूर्णतया वातानाकूलित होगा। जी प्लस 3 मंजिल इमारत में लेक्चर हॉल, प्रयोगशालाएं, संकाय कक्ष, प्रशासनिक भवन, मिनी आॅडिटोरियम, सम्मेलन कक्ष, पुस्तकालय, कम्प्यूटर केंद्र आदि का प्रावधान किया गया है। इसको बनाने में 59 करोड़ की लागत आएगी।

850 विद्यार्थियों के रहने की व्यवस्था
स्पीकर बिरला ने कैम्पस में निर्माणाधीन हॉस्टल का भी निरीक्षण किया। ट्रिपल आईटी परिसर में ही छात्रों तथा छात्राओं के लिए अलग-अलग हॉस्टल बनाए जाएंगे। छात्रों के लिए जी प्लस 5 मंजिल की 3 हॉस्टल इमारतें बनाई जाएंगी। इनमें 700 छात्र रह सकेंगे। इनमें कुछ सिंगल ऑक्यूपेंसी रूम होंगे जबकि अन्य कमरों में  तीन छात्रों के रहने की व्यवस्था होगी। इसी तरह 150 छात्राओं के लिए अलग हॉस्टल इमारत बनाई जाएगी। यह इमारी जी प्लस 2 आकार की होगी।

राजस्थानी वास्तुशिल्प और आधुनिकता का समावेश
परिसर में बनने वाले भवनों को राजस्थान के वास्तुशिल्प के अनुरूप डिजाइन किया गया परन्तु उसमें आधुनिकता की झलक भी देखने को मिलेगी। इसमें अलावा सभी भवनों में सीसीटीवी कैमरा, अग्निशमन यंत्र और अग्नि चेतावनी प्रणाली, लिफ्ट की सुविधा, दिव्यांगों के लिए सुगमता, पूरे परिसर में नेटवर्किंग, सौर ऊर्जा का प्रावधान, सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट और संशोधित पानी के पुनर्पयोग की व्यवस्था, 50 एकड़ भूमि में आंतरिक सड़कें, पार्किंग, बागीचा, खेल प्रांगण, 5000 पौधों का वृक्षारोपण किया जाएगा।

परिसर में ही होगा निदेशक आवास
ट्रिपल आईटी परिसर में ही निदेशक तथा अन्य स्टाफ के रहने के लिए आवासों को प्रावधान किया जाएगा। स्टाफ के लिए टाइप-3 और टाइप-4 श्रेणी के 12-12 आवास बनाए जाएंगे।

श्रमिकों से भी की मुलाकात
लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने ट्रिपल आईटी कैम्पस के निरीक्षण के दौरान यहां कार्यरत श्रमिकों से मुलाकात की। बिरला ने ट्रिपल आईटी परिसर के तेजी से चल रहे निर्माण के लिए श्रमिकों की सराहना की। उन्होंने अधिकारियों से गर्मी के मौसम का ध्यान रखते हुए श्रमिकों के लिए उचित व्यवस्था करने को कहा।