हिन्दू देवी देवताओं और ब्राह्मण समाज के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी के विरोध में ब्राह्मण कल्याण परिषद ने किया जंगी प्रदर्शन

-  आरएएस अधिकारी केसरलाल मीण का पुतला जलाकर किया जंगी प्रदर्शन 
 
The Brahmin Welfare Council organized a war demonstration in protest against the derogatory remarks against Hindu deities and Brahmin society.

कोटा। राजस्थान सरकार के आरएएस अधिकारी केसरलाल मीणा (RAS officer Kesarlal Meena) द्वारा आरएएस अधिकारियों के वाट्सअप गु्रप पर हिन्दू देवी देवताओं और ब्राह्मण समाज के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी (objectionable remarks against brahmin society) के विरोध में ब्राह्मण कल्याण परिषद ने संभागीय आयुक्त कार्यालय पर जंगी प्रदर्शन कर मुख्यमंत्री के नाम संभागीय आयुक्त को उक्त अधिकारी को बर्खास्त करने की मांग का ज्ञापन सौंपा।

The Brahmin Welfare Council organized a war demonstration in protest against the derogatory remarks against Hindu deities and Brahmin society.

इससे पूर्व ब्राह्मण कल्याण परिषद के संयोजक अनिल तिवारी के आह्रान पर बड़ी संख्या में ब्राह्मण समाज के लोग संभागीय आयुक्त कार्यालय पर एकत्रित हुए। जहां समाज के लोगों ने आरएएस अधिकारी केसरलाल मीणा द्वारा हिन्दू देवी देवताओं व ब्राह्मण समाज पर अपमान जनक टिप्पणी के विरोध में जमकर नारेबाजी की गई। इसके बाद समाज के युवाओं ने केसरलाल मीणा का पुतला दहन के साथ टायर जलाकर जंगी प्रदर्शन किया। 

प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए ब्राह्मण कल्याण परिषद के संयोजक अनिल तिवारी ने सरकार को चेताया कि जबतक इस मानसिक विकृति के अधिकारी को बर्खास्त नहीं किया जाता, तबतक समाज आंदोलन करता रहेगा। और सरकार इसके गंभीर परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहे। सर्व ब्राह्मण समाज के राजेन्द्र गौतम ने कहा कि यदि सरकार ने 15 दिनों के भीतर उक्त अधिकारी को बर्खास्त नहीं किया तो कोटा की धरती पर जंगी प्रदर्शन किया जाएगा। 

संभागीय अध्यक्ष बृजराज गौतम ने कहा कि केसरलाल मीणा द्वारा बहुसंख्यक हिन्दू समाज और ब्राह्मण समाज की भावनाओं को आहत करने के आपराधिक आशय से अपने व्यक्तिगत मोबाईल नंबर से मैसेज प्रसारित किया गया है जिससे बहुसंख्यक हिन्दू समाज के साथ-साथ ब्राह्मण समाज की धार्मिक एवं व्यक्तिगत भावनाएं आहत हुई है।

शहर अध्यक्ष धर्मेन्द्र दीक्षित ने कहा कि केसरलाल मीणा प्रशासनिक अधिकारी होने के साथ-साथ एक बहुत ही महत्वपूर्ण पद पर है तथा उनका दायित्व है कि सभी जातियों की धार्मिक, और व्यक्तिगत भावनाओं की रक्षा करें परन्तु उनके द्वारा संकीर्ण मानसिकता का परिचय देते हुये तथा भारत देश की एकता, अखंडता और संप्रभूता को नुकसान पहुँचाने और समाज के विभिन्न वर्गों के मध्य जातीय और धार्मिक वैमनस्यता उत्पन्न करने का आपराधिक कृत्य किया गया है जिससे बहुसंख्यक हिन्दू समाज और ब्राह्मण समाज में आक्रोश है तथा कानून और व्यवस्था की स्थिति को गंभीर खतरा उत्पन्न हो गया है। 

प्रदर्शन के बाद एक प्रतिनिधिमंडल ब्राह्मण कल्याण परिषद के संयोजक अनिल तिवारी, संभागीय अध्यक्ष बृजराज गौतम, शहर अध्यक्ष धर्मेंद्र दीक्षित, जिला अध्यक्ष दिनेश शर्मा, शहर युवा अध्यक्ष सुनील गौतम, सर्व ब्राह्मण समाज के संभागीय अध्यक्ष राजेंद्र गौतम, सर्व ब्राह्मण समाज के युवा अध्यक्ष ईश्वर शर्मा, समता आंदोलन के संभागीय अध्यक्ष डॉ. अनिल शर्मा, अखिल सनाढ्य समाज के प्रदेश महामंत्री किशन पाठक, सनाढ्य समाज महावीर नगर के संरक्षक राजेंद्र शर्मा, पार्षद कपिल शर्मा आचार्य भरत शर्मा, डॉ. अमित व्यास, एडवोकेट हर्षित गौतम, श्याम मनोहर हरित, डॉ. एलएन शर्मा, नीरज शर्मा ने संभागीय आयुक्त को ज्ञापन सौंपा।

यह रहे मौजूद
प्रदर्शन के दौरान एसएन शर्मा, राकेश शर्मा, अनिल शर्मा ,घनश्याम पाठक, मंडल अध्यक्ष राजेश शर्मा, देवेंद्र तिवारी, गोपाल शर्मा, कुबेर शर्मा, दीपक शर्मा एडवोकेट, आशीष भारद्वाज, हरिसुदन शर्मा, अशोक औदिच्य, रासबिहारी पारीक, पीयूष शर्मा, देवी शंकर शर्मा, अमित ठाकुर, अजय गौड़, चिराग भार्गव, विनीत शर्मा बालिता, सिंपल शर्मा, रानू शर्मा, हेमंत सनाढ्य, गजेंद्र जोशी, विजय भारद्वाज, रविन्द्र दुबे, भरत उपाध्याय, जितेंद्र चतुर्वेदी, हेमन्त सनाढ्य, बनवारी शर्मा, रघुवीर शर्मा, जगदीश शर्मा, पुष्पकांत शर्मा, रोहिताश शर्मा, चेतन शर्मा, अंकित श्रृंगी, हितेश शर्मा, राधे मोहन शर्मा, प्रमोद शर्मा, पुरुषोत्तम दाधीच, दीनदयाल शर्मा, योगेंद्र पंचोली, चंद्रकुमार पाठक, बुद्धि दाधीच, गिर्राज शर्मा, सत्यनारायण शांडिल्य, गोलू तिवारी, दुष्यंत शर्मा, भारत शर्मा, घनश्याम तिवारी, राजेश शर्मा, अनिल देवलिया, सुरेश शर्मा, राजीव शर्मा, दीपक शर्मा, बजरंग लाल शर्मा, विनोद शर्मा, मनीष शर्मा, गजेंद्र जोशी, चंद्रा प्रकाश गौतम, भूपेंद्र जोशी, महेश शर्मा, मुनीश देव, अशोक पारीक, राहुल शर्मा, सुशील शर्मा, पंकज शर्मा, शिवराज शर्मा, राम शर्मा, शुभम शर्मा, राधाकृष्ण मामाजी, समेत बड़ी संख्या में ब्राह्मण समाज के लोग मौजूद रहे।