कोटा शहर में पैंथर ने 4 लोगों को किया घायल, 6 घंटे तक दहशत में रहे लोग, ट्रेंकुलाइज कर ले गई टीम

 
Panther injured 4 people in Kota city, people were in panic for 6 hours, team was tranquilized
कोटा। शहर के महावीर नगर विस्तार योजना इलाके में पैंथर ने जमकर हंगामा मचाया (Panther created a ruckus) और पैंथर ने 4 लोगों को हमला कर घायल भी कर दिया (Panther attacked and injured 4 people)। पैंथर एक मकान की छत से होता हुआ एक घर के किचन में जा छुपा था। इससे पहले वो 4 लोगों को जख्मी कर चुका था। पैंथर को लोगों ने उस घर को बंद कर दिया और यहां हड़बडाहट में पति-पत्नी ने अपने आप को कमरे में बंद कर लिया। वे जान बचाने के लिए चीखते-चिल्लाते रहे। करीब 6 घंटे तक पैंथर की दहशत रही। इसके बाद मौके पर पहुंची वन विभाग की टीम को उसे काबू में करने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी। गैस की स्लैब पर बैठे पैंथर को ट्रेंकुलाइज कर उसे अभेडा बायोलॉजिकल पार्क ले जाया (Tranquilize the panther and take it to Abheda Biological Park) गया। 

स्थानीय लोगों के अनुसार घटना तड़के 5 बजे के आसपास की है। पहले सुबह 5 बजे शिव ज्योति कॉन्वेंट स्कूल के आस-पास इलाके में इसे देखा गया था। इस दौरान उसने अलग-अलग जगहों पर 4 लोगों पर अटैक किया। गणगौरी पार्क इलाके में उसने एक गाय पर भी हमला कर दिया। लोगों का शोर सुनकर फिर वह एक छत पर चढ़ गया। यहां सीढ़ियों के सहारे उतरकर घर के किचन में गया। आवाज सुन जब पति-पत्नी दूसरे कमरे से बाहर आए तो घर में पैंथर को देख उनके होश उड़ गए। वे भागे और खुद को दूसरे कमरे में बंद लिया।

उधर, सूचना मिलने पर एडिशनल एसपी, तीन थानों के सीआई, कोटा दक्षिण विधायक संदीप शर्मा, कांग्रेस नेता विद्याशंकर गौतम समेत कई अधिकारी-कर्मचारी मौके पर पहुंचे। फॉरेस्ट डिपार्टमेंट की टीम को ट्रेंकुलाइज करने के लिए बुलाया गया है। करीब तीन-चार घंटे कर मशक्कत के बाद 10.54 मिनट पर पैंथर को घर की रसोई में ट्रेंकुलाइज किया जा सका। महावीर नगर विस्तार योजना इलाके के पार्षद शीला पाठक के बेटे प्रफुल्ल पाठक ने जानकारी दी कि 63 वर्षीय हरिशंकर मीणा को पैंथर ने घायल किया है। पैंथर भी इन्हीं के मकान 1 आई 36 की छत पर बैठा हुआ था। दूसरे बुजुर्ग रामविलास मीणा पर भी घर के बाहर पैंथर ने हमला कर दिया था। दोनों को मेडिकल कॉलेज के नए अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। 

कोटा शहर की सीमा से रावतभाटा इलाके में घना जंगल है। जिसमें बड़ी संख्या में पैंथर इर्द-गिर्द नजर आते हैं। वहीं राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय परिसर चंबल की खाडियों में बड़ी संख्या में पैंथर और भालू मौजूद है। ऐसे में संभावना जताई जा रही है कि पैंथर रात को उस इलाके से निकलकर ही शहर में प्रवेश कर गया है।