कोटा : हत्या के प्रयास के पांच आरोपियों को दस वर्ष का कठोर कारावास

 
Kota: Ten years rigorous imprisonment for five accused of attempt to murder

कोटा। न्यायालय अपर जिला एवं सेशन न्यायधीश क्रम 5 कोटा माननीय स्वाति शर्मा ने अनंतपुरा थानाक्षेत्र स्थित पुनिया देवरी के 6 साल पुराने हत्या के प्रयास के आपराधिक मामले में 5 अभियुक्तों को दस साल के कठोर कारावास (Ten years rigorous imprisonment to 5 accused in the criminal case of attempt to murder) दस हज़ार रुपये जुर्माना अदायगी, 2 माह के कारावास की सज़ा से दण्डित किया है।

अपर लोक अभियोजक क्रम 5 अख़्तर खान अकेला ने बताया कि 10 मई 2016 को रात्रि 10 बजे के लगभग, पुनिया देवरी अनंतपुरा थाना क्षेत्र में फरियादी देवा गुर्जर, सत्तू उर्फ देवनारायण के साथ, जीवराम, जसराज, कन्हैय्या, सोनू, पप्पू, हरलाल, सभी 6 लोगों नें गंडासे, पाइप, सरियों से घर पर सोते हुओं पर जान लेवा हमला बोल दिया। आरोपियों को रात्रि एक दिन पहले उनके भैंस के बाड़े घर में घुसने का शक था, जिससे सत्तू उर्फ देवनारायण मरणासन्न हो गया, फरियादी देवा गुर्जर के भी चोटें आयीं।

पुलिस ने इस मामले में पर्चा बयान के आधार सभी अभियुक्तों के खिलाफ, भारतीय दंड संहिता की धारा, 143, 323, 452, 308 में मुक़दमा दर्ज कर अनुसंधान कर अभियुक्तों को गिरफ्तार कर चार्ज शीट पेश की, न्यायालय ने अभियुक्तों के विरुद्ध, भारतीय दंड संहिता की धारा 148, 452, 323/149, 307/149, 325/149 में आरोप विरचित किये, अपर लोक अभियोजक अख्तर खान अकेला ने बताया कि अभियोजन पक्ष की तरफ से 16 बयान करवाये गए जबकि 28 दस्तावेज प्रदर्श करवाये, गंडासा, पाइप कोर्ट में पेश किया, बचाव पक्ष की तरफ से 4 गवाह पेश हुए।

न्यायालय अपर जिला जज क्रम 5 स्वाति शर्मा ने सभी अभियुक्तों को दोषी करार देते हुए सज़ा के प्रश्न पर सुना, विचारण के दौरान अभियुक्त हर लाल की मृत्यु हो गयी। न्यायालय ने जीवराम उर्फ जीवराज आत्मज बीरम, जसराज पुत्र बीरम, कन्हय्या पुत्र बीरम, सोनू पुत्र बीरम, पप्पू पुत्र श्रवण, हरलाल पुत्र श्रवण को भारतीय दंड संहिता की धारा 307/149 में दस वर्ष के कारावास, दस हज़ार रुपये का जुर्माना अदम अदायगी दो माह 148, 323/149, में 1 वर्ष  500 रुपये जुर्माना अदम अदायगी 5 दिन का कारावास से दण्डित किया है। जबकि 452, 325/149  में तीन वर्ष एक हज़ार जुर्माना अदम अदायगी 7 दिन के कारावास से दण्डित किया है, भुगती हुई सज़ा समायोजित होगी, जबकि सभी सजाएं साथ साथ चलेंगी।