कोटा : 3 फीट से बड़ी मूर्ति नहीं बनाए, संगठनों के विरोध पर पुलिस ने पलटा आदेश, जानें क्या है मामला

- अब 12 फीट तक ऊंची मूर्ति की पूजा हो सकेगी 
 
Kota: Do not build a statue bigger than 3 feet, police reversed the order on the opposition of organizations, know what is the matter

कोटा। कोटा पुलिस के मूर्ति की ऊंचाई से संबंधी आदेश पर बवाल (Ruckus over the order regarding the height of the idol) मच गया। हिंदू संगठनों के विरोध पर प्रशासन हरकत में आया और तुरंत बवाल बढ़ता देख आदेश पलट को दिया। अब 12 फीट तक ऊंची मूर्ति की पूजा हो सकेगी (Now idols up to 12 feet high can be worshipped)।

दरअसल, गणेश चतुर्थी, अनंत चतुर्दशी, दुर्गा पूजा जैसे धार्मिक पर्वों को लेकर कोटा पुलिस की ओर से दिए गए आदेश पर शुक्रवार को बवाल हो गया था। आनन-फानन में प्रशासन को सरकारी आदेश वापस लेने पड़े। जिससे एक बार फिर कोटा प्रशासन की आमजन के बीच छवि को नुकसान हुआ है। कोटा पुलिस ने शुक्रवार को आदेश जारी कर मूर्तिकारों से कहा कि वे तीन फीट से बड़ी मूर्ति नहीं बनाए। इस पर हिंदू संगठन लामबंद हो गए और चेतावनी दे डाली। मामला और तूल पकड़ता इससे पहले जिला प्रशासन ने अनंत चतुर्दशी शोभायात्रा की तैयारियों को लेकर हुई समीक्षा बैठक में नई गाइंडलाइंस जारी कर दी। इसके अनुसार इस बार शोभायात्रा में पीओपी से बनीं प्रतिमाएं पूरी तरह प्रतिबंधित रहेंगी। कोई भी प्रतिमा 12 फीट से अधिक ऊंचाई को नहीं होगी। 

Kota: Do not build a statue bigger than 3 feet, police reversed the order on the opposition of organizations, know what is the matter

कलेक्टर की अध्यक्षता में हुई बैठक
कोटा के जवाहर नगर थाना पुलिस ने मूर्तिकारों को नोटिस जारी कर मिट्टी की प्रतिमा की ऊंचाई 3 फीट से अधिक नहीं रखने के निर्देश दिए थे। जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में हुई बैठक के निर्णय के बाद जवाहर नगर पुलिस ने मूर्तिकारों को दिए गए नोटिस पर सवाल उठा कि उन्होंने किस आधार पर मिट्टी की प्रतिमा की ऊंचाई 3 फीट से ज्यादा ऊंचाई नहीं रखने की बात लिखी थी। कलेक्टर की बैठक में एसपी केसर सिंह सहित सभी संबंधित अधिकारी मौजूद रहे। एसपी केसर सिंह ने सभी अखाड़ों के लिए लाइसेंस लेना अनिवार्य किया है। बिना लाइसेंस के अखाड़े पाए जाने पर कार्रवाई होगी। डीजे पर प्रतिबंधित रहेगा। 

तुगलकी आदेश पर हिंदू संगठन लामबंद
पुलिस के आदेश से बजंरग दल और विश्व हिंदू परिषद ने कोटा पुलिस के आदेश को तुगलकी आदेश बताते हुए आंदोलन की चेतावनी दी। बजरंग दल सह प्रांत संयोजक योगेश रेनवाल ने कहा कि हिंदू समाज के त्योहार आते ही राजस्थान सरकार इस तरह के आदेश जारी कर भावनाओं को भड़काने का काम करती है। जबकि मुस्लिम समाज के मुहर्रम में इस तरह के आदेश जारी नहीं किए जाते हैं। इससे राज्य सरकार की तुष्टिकरण की नीति स्पष्ट होती है।