Free Fire Online Game की लत में गई जान, पिता ने बेटे के कमरे में लगवाए CC कैमरे, फांसी पर झूल दी जान

 
Free Fire Online GameDaughter in addiction, father got CC cameras installed in son's room, hanged himself
कोटा। शहर के जवाहर नगर थाना इलाके में एक कोचिंग छात्र ने अपने घर पर ही फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली (Coaching student commits suicide by hanging himself at his home)। घटना के बाद मृतक छात्र नवनीश के परिजन अंडमान निकोबार से सोमवार को कोटा पहुंचे। वहीं परिजनों से बातचीत पर कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। पिता का कहना है कि उनका बेटा फ्री फायर गेम की लत में (Addicted to free fire game) पड़ गया था और काफी डिप्रेशन में रहने लगा था। जिसकी वजह वह मौत के आगोश में समां गया।

छात्र नवनीश के पिता श्रीनिवास ने बताया कि वह 11वीं क्लास से ही कोटा एलन कोचिंग संस्थान में पढ़ाई कर रहा था। पिता का कहना है कि उनका बेटा पढ़ाई में काफी होशियार था। लेकिन पिछले कुछ सालों से वह डिप्रेशन में भी चल रहा था। इस बारे में पिता ने कई बार फोन पर बेटे से बातचीत की तो सामने आया कि वह काफी समय से फ्री फायर गेम की लत में पड़ गया था।

जिसकी वजह से वह क्लासेस अटेंड नहीं कर रहा था और पढ़ाई में भी काफी कमजोर हो गया था। जिसके बाद पिता ने बेटे को काफी समझाया तो वह कुछ दिनों के लिए तो पिता की बात को समझ गया। लेकिन उसके बाद भी उसकी फ्री फायर गेम की लत नहीं छूटी।

काफी समय से बेटे की हरकतों को देख पिता ने उसके कमरे में एक कैमरा लगा दिया और उसको अपने मोबाइल से कनेक्ट कर लिया। ताकि बेटे की हर गतिविधि के बारे में पिता को जानकारी मिल सके। लेकिन फिर भी बेटा नवनीश कुछ भी करके कैमरे से बच कर रहना चाहता था। इस वजह से कई बार पिता को कैमरा खराब होने की भी शिकायत हॉस्टल प्रबंधक द्वारा मिलती रही।

बेटे का मोबाइल चेक करने के बाद यह बात भी सामने आई कि उसको कोई कुलदीप नाम का युवक गेम खेलने के लिए व्हाट्सएप पर लगातार मैसेज कर रहा था। हालांकि वह गेम क्या था? इस बारे में पुलिस छानबीन कर रही है। लेकिन पिता को शक है कि कोई उसे गेम खेलने के लिए दबाव बना रहा था। जिसको वह सहन नहीं कर सका और उसने आत्महत्या कर ली।
दरअसल, छात्र नवनीश ने कुछ समय पहले अमेजॉन से ऑनलाइन चूहे मारने की दवा मंगवाई थी। जिसका सेवन करने के बाद ही उसने फांसी लगाकर आत्महत्या की है। पुलिस छात्र के मोबाइल की डिटेल निकलवा रही है। इसके साथ ही शव का पोस्टमार्टम करवाकर शव पिता को सुपुर्द कर दिया गया है। छात्र नवनीश के पिता अंडमान निकोबार पुलिस में कार्यरत हैं।