डिजिटल इंडिया अभियान : मेल/एक्सप्रेस रेल गाड़ियों में आरक्षित टिकटों की जांच अब HHT मशीन से होगी

 
Digital India Campaign: Scrutiny of reserved tickets in Mail/Express trains will now be done by HHT machine

कोटा। डिजिटल इंडिया अभियान को बढ़ावा देने के लिये भारतीय रेल द्वारा चलती ट्रेन में आरक्षित टिकट की जांच (Scrutiny of reserved tickets in running trains by Indian Railways to promote Digital India campaign) के लिए अपने टिकट चल निरीक्षकों/परीक्षकों द्वारा हैंड हेल्ड टर्मिनल (Hand Held Terminal) (HHT) उपकरण का उपयोग किया जा रहा है। 

इसी कड़ी कोटा मंडल में भी चलती यात्री गाड़ी में आरक्षित टिकिट की जाँच टिकिट चल निरीक्षकों/परीक्षकों द्वारा ट्रेन आरक्षण चार्ट के स्थान पर अब डिजिटल आधुनिक तकनीकी की नई ई-डिवाइस रुपी हेंड हेल्ड टर्मिनल (HHT) से की जा रही है। पमरे ने कोटा मंडल को 182 हेंड हेल्ड टर्मिनल उपलब्ध कराये गए है। इसके लिए मंडल के टिकट चौकिंग स्टाफ को प्रशिक्षित किया गया है।

 इस नई ई-डिवाइस रुपी अत्याधुनिक तकनीकी से परिपूर्ण  हेंड हेल्ड टर्मिनल (HHT) की शुरुआत सर्वप्रथम कोटा मंडल की कोटा से निजामुद्दीन के मध्य चलने वाली जन शताब्दी और उदयपुर से निजामुद्दीन के मध्य चलने वाली मेवाड़ एक्सप्रेस में की गयी। वर्तमान में  कोटा मंडल के सभी मेल/एक्स ट्रेनों में आरक्षित टिकट की जांच  के लिए हैंड हेल्ड टर्मिनल (HHT) उपकरण का उपयोग किया जा रहा है। यात्रियों से निवेदन है कि यात्री उसी स्टेशन से गाड़ी पकड़े जहां से उन्होंने बोर्डिंग प्वाइंट टिकट में लिख कर दिया है जिससे यात्रा के दौरान असुविधा ना हो।

चलती ट्रेन में कंप्यूटर आधारित टिकट की जांच के लिए भारतीय स्तर पर रेलवे ने एचएचटी उपकरण शुरू की गई है। इस तरह की व्यवस्था से ट्रेन में खाली सीट के बारे में पता लग जाएगा। इससे प्रतीक्षा सूची के यात्रियों को भी खाली सीट उपलब्ध कराने में सहूलियत होगी। इससे यात्रियों को संतुष्टि होगी। ज्यादा बुकिंग से रेलवे का भी राजस्व बढ़ेगा साथ ही डिजिटल इंडिया अभियान को भी बढ़ावा मिलेगा। इस तरह के उपकरण से टिकट जांच करने वाले कर्मचारी को भी सहूलियत होगी। उनके टर्मिनल उपकरण पर उपलब्ध सीटों का विवरण होगा और आरक्षण चार्ट भी नहीं देखना पड़ेगा। 

इसके उपयोग से टीटीई के कार्य में पारदर्शिता आएगी तथा ट्रेन के संचालन के दौरान खाली बर्थ का उपयोग भी रेल रिकार्ड के साथ होगा। इस एचएचटी के द्वारा अब टिकिट निरीक्षक चार्ट के स्थान पर इसमें यात्री का विवरण देख सकेगे जिससे कागज की बचत के साथ ही मेन पावर की भी बचत होगी।