नदी पार क्षेत्र को UDH मंत्री की एक और सौगात: 200 करोड़ की लागत से राजीव गांधी नॉलेज सेंटर एवं इनोवेशन हब का होगा निर्माण

स्वरोजगार ,स्टार्टअप्स, उद्योग व्यवसाय एवं महिला उद्यमियों को मिलेगा बढ़ावा- धारीवाल  
 
Another gift from UDH Minister to cross river area: Rajiv Gandhi Knowledge Center and Innovation Hub will be constructed at a cost of 200 crores - Dhariwal

कोटा। कोचिंग सिटी कोटा को पर्यटन सिटी बनाने (Coaching City to make Kota a Tourism City) के साथ-साथ औद्योगिक क्षेत्र में भी आगे बढ़ाने एवं रोजगार नए अवसर उपलब्ध करवाने (To advance in the industrial sector and to provide new employment opportunities) को लेकर यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल लगातार प्रयासरत (UDH Minister Shanti Dhariwal is constantly trying) हैं। जिला अस्पताल, पब्लिक हेल्थ कॉलेज के बाद अब नदी पार क्षेत्र को नगरीय विकास एवं स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल ने रोजगार के क्षेत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले राजीव गांधी नॉलेज साइंस एंड इनोवेशन हब की सौगात दी है।

कुन्हाड़ी में जिला अस्पताल और पब्लिक हेल्थ कॉलेज के पास ही राजीव गांधी नॉलेज साइंस एंड इनोवेशन हब बनेगा। जहां स्टार्टअप्स, स्वरोजगार, नवाचारो के साथ उद्योगों, व्यवसाय को बढ़ावा देने के लिए यह केंद्र महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। 

नगरीय विकास एवं स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल ने बताया कि राजस्थान सरकार स्वरोजगार ,स्टार्टअप के साथ उद्योगों को नई गति देने एवं महिला उद्यमियों को भी बढ़ावा देने के लिए लगातार प्रयास कर रही है मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बजट घोषणा के तहत राजीव गांधी नॉलेज साइंस इनोवेशन हब कोटा में स्थापित किए जाने की घोषणा की थी, इसी कड़ी में कुन्हाड़ी क्षेत्र में नगर विकास न्यास द्वारा जमीन को चिन्हित कर लिया गया है।

सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग द्वारा इस केंद्र को संचालित किया जाएगा जहां अत्यंत आधुनिक तकनीक के साथ-साथ युवाओं को स्वरोजगार, स्टार्टअप कर रहे लोगों को बढ़ावा देने एवं क्षेत्र के उद्योगों एवं महिला उद्यमियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा ,जिससे औद्योगिक विकास को बढ़ावा मिलेगा इसके साथ ही कोटा में नए उद्योग शुरू किए जाने के लिए नवाचार भी नॉलेज साइंस एंड इनोवेशन केंद्र में किए जाएंगे ताकि कोटा में युवाओं को रोजगार से जोड़ा जा सके और नए रोजगार के साधन उपलब्ध हो सके।

मंत्री धारीवाल ने बताया कि करीब 200 करोड़ के इस प्रोजेक्ट के लिए 2  हेक्टर (20 हजार वर्गमीटर) भूमि को न्यास द्वारा चिन्हित कर लिया गया है जहां राजीव गांधी नॉलेज साइंस एंड इनोवेशन हब का निर्माण किया जाएगा जिसमें कॉन्फ्रेंस रूम, मीटिंग रूम, मेंटर रूम, ऑडिटोरियम तथा इनक्यूबेटर के बैठने का स्थान होगा।