GST की स्लैब की दरें बढ़ाए जाने का कोटा व्यापार महासंघ की सभी 150 संस्थाओं ने दर्ज कराया अपना विरोध

 - आपातकालीन कार्यकारिणी की बैठक सम्पन् 
 
All 150 organizations of the Quota Trade Federation lodged their protest against the increase in the rates of GST slabs.

कोटा। कोटा व्यापार महासंघ की आपात कालीन कार्यकारिणी की बैठक (Emergency executive meeting of Kota Trade Federation) शुक्रवार को छावनी स्थित माहेश्वरी जलसा होटल (Maheshwari Jalsa Hotel) पर संपन्न हुई। जिसमें 150 संस्थाओं ने जीएसटी की स्लैब की दरें बढ़ाए जाने का विरोध दर्ज कराया (150 organizations protest against increase in GST slab rates)। 

 कोटा व्यापार महासंघ के अध्यक्ष क्रांति जैन, महासचिव अशोक माहेश्वरी ने बताया कि बैठक में 100 से अधिक ट्रेड एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने भाग लिया। बैठक मे सभी वक्ताओं ने जीएसटी की स्लेब की दरों में भारी बढ़ोतरी किए जाने एवं जो वस्तुएं अब तक जीएसटी के दायरे से बाहर थी उनको भी जीएसटी के दायरे में लाए जाने पर विरोध दर्ज करते हुए कहा कि इससे व्यापार, उद्योग जगत ही नहीं आमजन भी प्रभावित होंगे। पहले से ही बढ़ी हुई महंगाई से आमजन का गुजर-बसर करना भी मुश्किल हो रहा है। 

वक्ताओं ने कहा कि कोरोना काल में हुए भारी नुकसान से व्यापारी अभी तक उबरने की कोशिश कर रहा है फिर इस तरह का टेक्स की दरो मे बढोतरी कर देना पूर्णतया अनुचित है वक्ताओं ने इस बात का भी हवाला दिया कि जब पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा जीएसटी लागू किया गया था तब इस बात की घोषणा की गई थी कि खाद्यान्न एवं आमजन की वस्तुएं जो रोजाना काम आती है उन्हें जीएसटी के दायरे से बाहर रखा जाएगा एवं जीएसटी की स्लैब में टारगेट पूरा होने पर कटौती की जाएगी। अब जबकि सरकार का टारगेट 165 लाख करोड़ तक पहुंच गया है तो फिर इस तरह दरों में बढ़ोतरी करना आमजन को परेशान करना एवं कॉरपोरेट सेक्टर को लाभ पहुंचाने के लिए किया जा रहा है।

जिससे छोटे व्यापारी मल्टीनेशनल कंपनियों के सामने नहीं टिक सकेंगे और पहले से ही बर्बादी की राह पर चल रहे व्यापारी और बर्बाद हो जाएगे। बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि जीएसटी की बढ़ी हुई स्लेबो को वापस लेने के लिए कोटा व्यापार महासंघ राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री, वित्त मंत्री, लोकसभा अध्यक्ष जीएसटी काउंसिल के चेयरमैन को जिला कलेक्टर के माध्यम से ज्ञापन देगा और जो भी इसके विरोध में राष्ट्रीय एवं प्रदेश स्तर पर आंदोलन किया जाएगा कोटा व्यापार महासंघ उन आंदोलनों को पूर्ण समर्थन देगा। साथ ही अपने स्तर पर भी कोटा व्यापार महासंघ जब तक जीएसटी की बड़ी हुई दरो को वापस नहीं लिया जाएगा महासंघ निरंतर आंदोलनरत रहेगा।

बैठक में मुख्य रूप से कोटा व्यापार महासंघ के वरिष्ठ उपाध्यक्ष सत्यभान सिंह, उपाध्यक्ष नंदकिशोर शर्मा, मनोहर गोटे वाला, सुरेंद्र गोयल विचित्र सचिव यश मालवीय, मुकेश भटनागर एवं यू मार्केट व्यापार संघ केनाल रोड के अध्यक्ष शाहिद मोहम्मद कोटा शामिल, प्लाइवुड ओनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष बंसीलाल साधवानी, सचिव के के मालपानी, कोटा बिल्डिंग मेंटेरियल व्यापार संघ के अध्यक्ष गोपाल शर्मा, छावनी व्यापार संगठन के अध्यक्ष अशोक अग्रवाल, भामाशाह मंडी मेन रोड व्यापार संघ के अध्यक्ष भुवनेश गोयल, न्यू क्लॉथ मार्केट व्यापार संघ के अध्यक्ष राजेंद्र जैन, व्यापार संघ फर्नीचर मार्केट शॉपिंग सेंटर के अध्यक्ष मोहम्मद इलियास अंसारी, भीममण्डी व्यापार संघ के अध्यक्ष राजेंद्र चावला, कृषि यंत्र निर्माता संघ के अध्यक्ष राजेंद्र सिंह, सचिव राकेश खंडेलवाल, शॉपिंग सेंटर व्यापार संघ के अध्यक्ष हरीश टेकवानी, पुरानी सब्जी मंडी व्यापार संघ के अध्यक्ष सुनील खरबंदा, सचिव राजू साल्वी, अग्रसेन बाजार व्यापार संघ अध्यक्ष महेंद्र कॉकरिया, एग्रीकल्चर पम्प एंड मशीनरी डीलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष हरीश खंडेलवाल, जगदीश शर्मा, लक्ष्मीकान्त, राजेश गुप्ता, शिवपुरा हनुमान नगर व्यापारी समिति के अध्यक्ष घीसासिंह चौहान कोटा, कांटेक्टर एसोसिएशन के कार्यवाहक अध्यक्ष रमेश चंद शर्मा सहित कई संस्थाओं के पदाधिकारी एव महासंघ की कार्यकारिणी के सदस्य मौजूद थे ।