शिक्षा विभागीय मंत्रालयिक और सहायक कर्मचारियों का 29वां सम्मान समारोह, शिक्षा मंत्री बोलें- शिक्षा निदेशालय को किया जाएगा सुदृढ़

 
 शिक्षा विभागीय मंत्रालयिक और सहायक कर्मचारियों का 29वां सम्मान समारोह

जयपुर। शिक्षा विभाग का 29वां राज्य स्तरीय शिक्षा विभागीय मंत्रालयिक एवं सहायक कर्मचारी सम्मान समारोह रविवार को पशु विज्ञान एवं पशु चिकित्सा विश्वविद्यालय के सभागार में आयोजित हुआ। कार्यक्रम के दौरान राज्य भर के 40 कार्मिकों का सम्मान किया गया। 

शिक्षा निदेशालय को किया जाएगा सुदृढ़

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि शिक्षा मंत्री डॉ. बी. डी. कल्ला ने कहा कि बीकानेर के शिक्षा निदेशालय का सुदृढ़ीकरण किया जाएगा। विभागीय परीक्षा कार्यालय को भी मजबूती प्रदान की जाएगी। उन्होंने शिक्षा निदेशक को निर्देश दिए कि प्रारंभिक शिक्षा के संयुक्त निदेशक कार्यालय का पुराना रिकॉर्ड चूरू से अतिशीघ्र बीकानेर मंगवाया जाए। उन्होंने बताया कि शिक्षकों के 32 हजार पदों पर भर्ती की विज्ञप्ति जारी हो चुकी है। वहीं कंप्यूटर शिक्षकों के 10 हजार से अधिक पदों की भर्ती प्रक्रिया शीघ्र ही शुरू हो जाएगी। अनुकंपा नियुक्ति के आवेदन की प्रक्रिया को ऑनलाइन किया जाएगा, जिससे मृतक कर्मचारी के आश्रित को समय पर नियुक्ति मिल सके। साथ ही उन्होंने मंत्रालयिक कार्मिकों के विभिन्न पदों की डीपीसी शीघ्र करवाने के निर्देश भी दिए।

40 कार्मिकों का सम्मान किया

डॉ. कल्ला ने कहा कि शिक्षा विभाग के कर्मचारी कर्त्तव्य निष्ठा और ईमानदारी के साथ कार्य करते हुए समाज के समक्ष मिसाल प्रस्तुत करें। सम्मानित होने वाले कार्मिकों से आने वाली पीढ़ी को प्रेरणा मिलेगी। उन्होंने आह्वान किया कि प्रत्येक कर्मचारी अपने अधिकारों के प्रति जागरूक रहें, साथ ही कर्त्तव्यों की पालना भी करें। उन्होंने राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के बारे में बताया तथा शिक्षक एवं कर्मचारी संगठनों से आह्वान करते हुए कहा कि शिक्षा विभाग के किसी भी कार्मिक का परिवार इस योजना के तहत पंजीकरण से वंचित नहीं रहे, ऐसे प्रयास किए जाएं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में राज्य सरकार जन कल्याणकारी नीतियों के साथ कार्य कर रही है। पिछले 3 वर्षों में प्रत्येक वर्ग के कल्याण के लिए कार्य हुआ है। जनसेवा के इस जज्बे को सरकार द्वारा आने वाले समय में भी आगे बढ़ाया जाएगा।

शिक्षा निदेशक कानाराम ने स्वागत उद्बोधन देते हुए कहा कि विभाग के लाखों कार्मिकों में से श्रेष्ठ कार्य करने वाले कार्मिकों का चयन बेहद जटिल और पारदर्शी प्रक्रिया द्वारा किया गया है। उन्होंने मंत्रालयिक और सहायक कर्मचारियों को विभाग की रीढ़ बताया तथा कार्मिकों को पूर्ण निष्ठा से कार्य करने की सीख दी।
डॉ. कल्ला ने पुरस्कार की प्रशस्ति पुस्तिका का विमोचन किया। उन्होंने उत्कृष्ठ कार्य करने वाले 40 कार्मिकों का प्रशस्ति पत्र, स्मृति चिन्ह और ग्यारह हजार रुपए का चेक प्रदान कर सम्मानित किया। इससे पहले डॉ. कल्ला ने दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम का विधिवत आगाज किया।

कार्यक्रम का परिचय देते हुए वरिष्ठ सहायक सत्यनारायण व्यास ने बताया कि मंत्रालयिक और सहायक कर्मचारियों के सम्मान यह परंपरा वर्ष 1990 में शुरू हुई। अब तक 898 कार्मिकों को इस सम्मान से नवाजा गया है। उन्होंने पुरस्कार की चयन प्रक्रिया के बारे में बताया।

माध्यमिक शिक्षा निदेशालय की अतिरिक्त निदेशक रचना भाटिया ने आभार जताया। कार्यक्रम में प्रारंभिक शिक्षा निदेशालय के अतिरिक्त निदेशक अशोक सांगवा और वित्तीय सलाहकार बी एल सर्वा सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहें।