नवाचार: राजस्थान में शिक्षा की इस ट्रेन को देखकर हर कोई हुआ रोमांचित

दूनी के राजकीय उमावि. को प्रधानाचार्य ने दिया ट्रेन का रूप -क्षेत्र में शाला प्रधान व प्रबन्धन की सराहना    
 
ट्रेन का रूप

 टोंक/दूनी, (शिवराज मीना/हरीशंकर माली)। जिले के दूनी तहसील मुख्यालय स्थित राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय दूनी में बच्चों के अध्ययन व मनोरंजन के साथ-साथ रेलगाड़ी के सफर का अनुभव कराने हेतु विद्यालय की दीवारों को ट्रेन का रूप प्रदान किया गया है। 

राउमावि दूनी के प्रधानाचार्य भंवरलाल कुम्हार ने बताया कि दिवाली की छुट्टियों में पेन्टर ने दीवारों को हूबहू ट्रेन की शक्ल प्रदान कर दी, जब बच्चे छुट्टियों से वापस विद्यालय लोटे तो ट्रेन को देखकर रोमांचित हो उठे और उनके प्रसन्नचित चेहरे देखने लायक थे।

उल्लेखनीय है कि टोंक जिले में निवाई तहसील को छोड़कर कहीं भी ट्रेन का रूट नहीं है, जिससे क्षेत्र के बच्चे ट्रेन के रोमांच से अनभिज्ञ हैं। वहीं विद्यालय के शिक्षक सुरेंद्र सिंह नरूका ने बताया कि विद्यालय के प्रधानाचार्य भंवरलाल कुम्हार विधालय में नवाचार करने के लिए जाने जाते हैं, प्रधानाचार्य भंवर लाल कुम्हार के नवाचार जिले में ही नहीं बल्कि पूरे राजस्थान के शिक्षा जगत में एक अलग संदेश प्रदान करते हैं। विद्यालय और खेल मैदान में वृक्षारोपण हेतु वृक्ष मित्र और वृक्ष संरक्षक भामाशाह योजना से पूरा विद्यालय हरियाली से युक्त गार्डन की सूरत लिए हुए हैं।

आज का गुलाब, आज का दीपक, बोलती दीवारें, बा-बापू-वन, कक्षा-कक्ष सीसीटीवी कैमरे, इलेक्ट्रॉनिक बेल, सुसज्जित क्लास-रूम, स्मार्ट क्लास रूम के माध्यम से लाईव क्लासेज एवं लाइव ट्रेनिंग, तिरंगी दीवारें, महापुरुष कॉर्नर, व्यवस्थित किचन गार्डन, गुलाब गार्डन इस विद्यालय को अन्य विद्यालयों से अलग रूप प्रदान करता है। किचन गार्डन प्रभारी हेमराज बलाई ने बताया कि उक्त नवाचारो के बदौलत स्थानीय विद्यालय के प्रधानाचार्य को पूर्व में राष्ट्रपति अवार्ड से नवाजा जा चुका है और विद्यालय में नामांकन में निरंतर वृद्धि हो रही है। वर्तमान में विद्यालय में तकरीबन 700 छात्र-छात्रा अध्ययन कर रहे हैं।