हनुमानगढ़ : खेत से घर लौट रहे सरपंच पर बदमाशों ने किया हथियारों से जानलेवा हमला, गंभीर हालत में किया रेफर

 
Hanumangarh: The miscreants attacked the sarpanch returning home from the farm with weapons, referred him in critical condition

हनुमानगढ़। जिले के नोहर उपखंड के गांव देइदास में खेत से घर लौट रहे सरपंच पर घात लगाकर बैठे हमलावरों ने धारदार हथियार से जानलेवा हमला कर सरपंच को गंभीर रूप से घायल (Sarpanch seriously injured) कर दिया। गंभीर जख्मी हालत में सरपंच को तुरंत नोहर राजकीय अस्पताल ले जाया गया (The sarpanch was immediately taken to Nohar Government Hospital in critically injured condition.) जहां से गंभीर हालत को देखते हुए जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। घटना की सूचना मिलते ही नोहर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।

नोहर थाना पुलिस ने बताया कि ग्राम पंचायत देइदास के सरपंच राजेंद्र न्यौल सोमवार सुबह अपने खेत में बनी गैस एजेंसी से वापस खाना खाने अपने घर की ओर लौट रहे थे कि पुरानी रंजिश को लेकर रास्ते में घात लगाकर बैठे कुछ लोगों ने धारदार हथियारों से सरपंच पर हमला कर दिया। हमला करने का आरोप ग्राम पंचायत के पूर्व सरपंच और उसके पुत्रों पर है। हमले में घायल सरपंच राजेंद्र के पूरे शरीर पर गहरे घाव हो गए हैं। सरपंच राजेंद्र का ट्रॉमा सेंटर हनुमानगढ़ में प्राथमिक उपचार कर, गंभीर हालत को देखते हुए हायर सेंटर रेफर कर दिया गया। 

वहीं मामले की सूचना के बाद नोहर पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। पुलिस की कई टीम आरोपियों की धरपकड़ में जुटी हुई है। परिजनों का कहना है कि पूर्व सरपंच आपसी रंजिश रखता था, इसी रंजिश के चलते आरोपियों ने सरपंच न्यौल पर धारदार हथियार से जानलेवा हमला किया है। अस्पताल चौकी के अनिल कुमार ने बताया कि गंभीर हालत में सरपंच न्यौल को ट्रॉमा सेंटर लाया गया था, सरपंच के गर्दन, हाथ, पैर सहित पूरे शरीर पर कट के गहरे घाव थे, जिनका प्राथमिक उपचार कर गंभीर हालत को देखते हुए हायर सेंटर रेफर कर दिया। 

वहीं, घटना की सूचना मिलने के बाद बड़ी संख्या में ग्रामीण मौके पर जुट गए। आक्रोशित ग्रामीणों ने नोहर रावतसर मार्ग को जाम कर जमकर प्रदर्शन और नारेबाजी की। ग्रामीणों ने आरोपियों की तुरंत गिरफ्तारी की मांग के बाद ही पूरी होने के बाद ही जाम खोलने की बात कही। वहीं नोहर पुलिस लगातार ग्रामीणों की समझाइश कर रास्ता खुलवाने में जुटी है।