श्रीगंगानगर इन्वेस्ट सम्मिट-2022, उद्यमियों ने दिखाया उत्साह, हुए 3315 करोड़ के एमओयू और एलओयू

-आपदा प्रबंधन एवं सहायता मंत्री ने उद्यमियों को सौंपे एमओयू पत्र 
 
श्रीगंगानगर इन्वेस्ट सम्मिट-2022

जयपुर। राज्य सरकार के निर्देशानुसार श्रीगंगानगर में शुक्रवार को आयोजित हुए इन्वेस्ट सम्मिट-2022 में उद्यमियों ने जबरदस्त उत्साह दिखाया। बतौर मुख्य अतिथि गोविंदराम मेघवाल ने इन्वेस्ट सम्मिट को श्रीगंगानगर जिले के लिए बेहद महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि ऐसे आयोजनों से विकास योजनाओं के क्रियान्वयन में सहयोग मिलेगा। प्रभारी मंत्री ने कहा कि जिस तरह से इन्वेस्ट सम्मिट में उद्यमियों ने उत्साह दिखाते हुए गंगानगर में निवेश करने की तैयारी की है, उससे साफ है कि राज्य सरकार समाज के सभी वर्गों के हितों के लिए काम कर रही है। इस मौके पर उन्होंने सरकार के 3 वर्षों के कार्यकाल का जिक्र करते हुए कहा कि पहली बार इतने बड़े स्तर पर जिलों में उद्यमियों के लिए आयोजन हो रहे हैं। 

इन्वेस्ट सम्मिट में 3315 करोड़ रुपए के एमओयू होने पर मंत्री ने उद्यमियों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि राजस्थान सरकार द्वारा व्यापारियों का हरसंभव सहयोग किया जा रहा है। सरकार की नीतियां भी उद्यमियों के अनुकूल हैं। उन्होंने राजस्थान उद्योग प्रोत्साहन नीति का जिक्र करते हुए बताया कि राजस्थान सरकार का उद्देश्य है कि व्यापारियों को उद्योग लगाने के लिए सभी सुविधाएं मिलें। इसलिए उद्यमी भी प्रयास करें कि जिले में उद्योग स्थापित करते हुए आमजन को रोजगार उपलब्ध करवाने में कसर नहीं छोड़ें।

सांसद निहालचंद मेघवाल ने गंगानगर जिले में उद्यमियों द्वारा निवेश किए जाने को बेहद महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि निवेश से विकास को प्रोत्साहन मिलेगा। श्रीगंगानगर विधायक राजकुमार गौड़ ने एमओयू करने पर सभी उद्यमियों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि निवेश से जिले के विकास को प्रोत्साहन मिलेगा। 
श्रीगंगानगर जिला कलक्टर जाकिर हुसैन ने अपने संबोधन में कहा कि इन्वेस्ट सम्मिट में 3315 करोड़ रुपए के 111 से अधिक एमओयू और एलओआई निवेशकों ने किए हैं। इससे जिले भर में निवेश को तो बढ़ावा मिलेगा ही, स्थानीय लोगों को भी रोजगार उपलब्ध हो सकेगा। हुसैन ने बताया कि इतनी बड़ी राशि के एमओयू होने से जिले के तकरीबन 14 हज़ार से अधिक लोगों को रोजगार मिलने की संभावना है। 

कार्यक्रम में पूर्व राज्यमंत्री एवं श्रीकरनपुर विधायक गुरमीत सिंह कुन्नर और नगर परिषद सभापति श्रीमती करुणा चांडक ने भी सम्बोधन दिया। इससे पूर्व हरीश मित्तल के स्वागत उद्बोधन के बाद अथितियों द्वारा जिले के संदर्भ में प्रकाशित ब्रोशर्स का विमोचन किया गया। राजस्थान के औधोगिक परिदृश्य पर आधारित फ़िल्म और श्रीगंगानगर के औधोगिक एवं निवेश की संभावनाओं तथा राज्य सरकार की नीतियों से सम्बंधित संक्षिप्त प्रस्तुतीकरण भी दिया गया। 

इस अवसर पर संभागीय आयुक्त नीरज के.पवन, उधोग एवं वाणिज्य विभाग जयपुर के संयुक्त निदेशक पीएन शर्मा, डीजीएम रिको एसके गुप्ता, जिला पुलिस अधीक्षक आनंद शर्मा, जिला परिषद सीईओ मोहम्मद जुनैद, एडीएम सिटी कमला अलारिया, एसडीएम उम्मेद सिंह रतनू, रीको के आरएम शशि पंवार, आरएम विनोद कुमार, जिला उधोग केंद्र की अधिकारी संतोष कुमारी सहित जिला स्तरीय अधिकारी और बड़ी संख्या में निवेशक मौजूद रहे।

कार्यक्रम में उधोग मंत्री शकुंतला रावत के संदेश पठन के पश्चात अतिथियों को स्मृति चिन्ह भेंट किये गए। मंच संचालन डॉ. शिव कटारिया ने किया जबकि आरएम विनोद कुमार ने आभार जताया।

निवेशकों ने दिखाया जमकर उत्साह
इन्वेस्ट सम्मिट में निवेशकों ने जमकर उत्साह दिखाया, जिसकी बदौलत उम्मीद से अधिक निवेश के एमओयू और एलोआई हुए। जिला उद्योग केंद्र के महाप्रबंधक हरीश मित्तल ने बताया कि 3315 करोड़ रुपये के 111 एमओयू हुए हैं। इनमें गुजरात, छत्तीसगढ़, पंजाब सहित अन्य राज्यों के प्रतिष्ठित औद्योगिक घरानों ने गंगानगर में निवेश के लिए एमओयू किए हैं। उन्होंने बताया कि सुरेन्द्रा डेंटल ग्रुप ने 1395 करोड़ के पांच एमओयू, छत्तीसगढ़ के बर्बरीक बायोएनर्जी ग्रुप ने 350 करोड़ का एक एलओआई, जितेंद्र ज्याणी (केआरजे) ग्रुप ने 184 करोड़ के दो एमओयू, मुकुल कंसल ग्रुप ने 155 करोड़ के दो एमओयू, श्रीगंगानगर के टांटिया ग्रुप ने 151 करोड़ के 9 एमओयू, गुजरात के कुमारेश बुधिया ग्रुप ने 100 करोड़ रुपए का एक एमओयू और पंजाब के कुलदीप बंसल ग्रुप की ओर से 100 करोड़ रुपए का एक एमओयू किया गया है।