श्रीगंगानगर में कलेक्टर रुक्मणि रियार का नवाचार, पहले टीचर्स और फिर बच्चे बोलेंगे फर्राटेदार इंग्लिश

 
Collector Rukmani Riar's innovation in Sriganganagar, first teachers and then children will speak fluent English

गंगानगर। राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार की फ्लैगशिप योजना महात्मा गांधी इंग्लिश माध्यम स्कूलों (Flagship Scheme Mahatma Gandhi English Medium School) में इंग्लिश का स्तर और अधिक बेहतर बनाने की दिशा में जिले की कलेक्टर रुक्मणि रियार ने एक नवाचार करने की कोशिश की (Collector Rukmani Riar tried to innovate) है। इस प्रयास के तहत पूरे जिले के सरकारी स्कूलों के इंग्लिश टीचर्स को एक एक हफ्ते की इंग्लिश स्पोकन की ट्रेनिंग (One week English spoken training to English teachers of government schools) दी गयी है और ऐसा करने वाला श्रीगंगानगर (Shri Ganga Nagar) जिला पूरे भारत में पहला जिला बन गया है। 

पिछले दिनों प्रदेश की चीफ सेक्रेटरी ऊषा शर्मा द्वारा हर जिला कलेक्टर को अपने अपने जिले में एक नवाचार करने के निर्देश दिए गए थे, जिससे जिले में कुछ बदलाव आ सके। इसी के तहत जिला कलेक्टर रुक्मणि रियार सिहाग ने सीएम की फ्लैगशिप योजना महात्मा गांधी इंग्लिश माध्यम स्कूलों में इंग्लिश का स्तर और बेहतर बनाने की सोची और इन स्कूलों के टीचर्स को इंग्लिश स्पोकन की ट्रेनिंग देने पर कार्य किया गया। 

जिला कलेक्टर रियार ने बताया कि इसी सोच को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने जिले के सरकारी स्कूलों के इंग्लिश विषय के टीचर्स को इस ट्रेनिंग में शामिल कर दिया और हर ब्लॉक पर सात सात दिन के ट्रेनिंग शिविर आयोजित किये और लगभग 1500 टीचर्स को ट्रेनिंग दी गयी है। बाकायदा जिला कलेक्टर ने हर शिविर में विजिट किया और शिविर के दौरान टीचर्स से बात की।

जिला कलेक्टर रुक्मणि रियार ने बताया कि कक्षा एक से पांच तक के बच्चों के लिए एक बुकलेट तैयार की गयी है, जिसमें एक सौ प्रश्न रखे गए हैं। इसके साथ साथ दौ सौ पचास वॉलेन्टियर्स भी हर शनिवार को एक एक घंटा स्कूलों में जाकर इन मॉडल्स की क्लास लेंगे।

सात दिनों के इस ट्रेनिंग कोर्स को पूरा करने के बाद पूरे जिले के टीचर्स में जबरदस्त उत्साह देखने को मिला। जब शिविर में भाग लेने वाले टीचर्स से बात की गयी तो उन्होंने इंग्लिश में ही जवाब दिया।

जिला कलेक्टर द्वारा किये जा रहे इस नवाचार को डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर इंटर्नशिप प्रोग्राम का नाम दिया है और कलेक्टर द्वारा इसमें प्रधानाचार्य अरविंदर सिंह और प्रियंका यादव को नोडल बनाया गया है।

 प्रधानाचार्य अरविंदर सिंह ने बताया कि कक्षा एक से पांच और छह से बारह तक अलग-अलग मॉडल तैयार किये गए हैं। पहले चरण में टीचर्स की ट्रेनिंग की गयी है और अब दूसरे चरण में जुलाई से बच्चों को ट्रेंड किया जाएगा।

जिला कलेक्टर की इस मुहिम में साथ दे रहे जिला परिषद् सीईओ आईएएस मोहम्मद जुनैद ने कहा कि कलेक्टर रुक्मणि रियार सिहाग का यह बहुत अच्छा इनिशिएटिव है। सरकारी स्कूलों के बच्चो को इंग्लिश बोलने में दिक्कत महसूस हो रही थी, ऐसे में टीचर्स को ये ट्रेनिंग दी गयी है, जिसका फीडबैक बहुत अच्छा मिला है और उम्मीद है कि जिले के बच्चे अब इंग्लिश बोलने लगेंगे।

 मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की फ्लैगशिप योजना महात्मा गांधी इंग्लिश माध्यम स्कूलों में इंग्लिश का स्तर और बेहतर करने की दिशा में जिला कलेक्टर का यह कदम निश्चित रूप से बेहतरीन साबित होगा। उम्मीद की जा रही है कि जैसे ही जुलाई में नया सत्र शुरू होगा तो बच्चों की ट्रेनिंग शुरू होगी और सरकारी स्कूलों के बच्चे भी प्राइवेट स्कूलों की तरह इंग्लिश बोलने लगेगंे।