शादी में साड़ी और सैंडल न लाने पर राजस्थान से आई बारात को लौटाया, दुल्हन ने दूल्हे के साथ जाने से किया इंकार

 
Returned the procession from Rajasthan for not bringing sari and sandals to the wedding, the bride refused to accompany the groom

धोलपुर । आपने कई बार दूल्हे की तरफ से दहेज़ की डिमांड करने पर शादी टूटते देखा ओर सूना होगा, लेकिन उत्तर प्रदेश के आगरा से शादी टूटने का एक अनोखा मामला (A unique case of marriage breakdown) सामने आया है। शादी के बाद दूल्हा विदाई कराने गांव तो पहुंच गया लेकिन दुल्हन ने दूल्हे के साथ जाने से मना कर दिया। वजह थी दूल्हे द्वारा दुल्हन के सैंडल और साड़ी न लाना (Groom not to bring bride's sandals and saris)। जी हाँ आपने बिलकुल सही सुना, केवल साड़ी और सैंडल न लाने की वजह से दुल्हन ने राजस्थान से आई बारात को बैरंग लौटा दिया। लोगों द्वारा काफी समझाने के बाद भी दूल्हे को बिना दुल्हन ही वापस लौटना पड़ा।

दरअसल, मामला आगरा के पास सैंया क्षेत्र के गांव जोधपुर का है। जहां एक विवाह समारोह का आयोजन किया गया था जिसमे राजस्थान के धोलपुर मनियां निवासी दूल्हा कान्हा उर्फ केदार सिंह का विवाह सम्मेलन के दौरान खेरागढ़ क्षेत्र के गांव नगला सोन निवासी दुल्हन के साथ के सम्पन्न हुआ। विदाई की रस्म सोन के नगला से होनी थी। विवाह के पश्चात् विदाई की रस्म के लिए दूल्हा बरात लेकर गांव पहुंच गया। मगर, वह दुल्हन के लिए सैंडल लेकर नहीं पहुंचा। लेकिन दुल्हन के लिये सैंडल न लाना दूल्हे को भारी पड़ गया। इस बात पर दुल्हन नाराज हो गई। दुल्हन ने दूल्हे के साथ जाने से इनकार कर दिया। काफी प्रयास के बाद भी दूल्हे को बिना दुल्हन लौटना पड़ा।

दूल्हा पक्ष के लोगों ने 112 पर फोन कर पुलिस को भी बुलाया, लेकिन लड़की पक्ष का आरोप है कि बराती शराब पीकर दुल्हन के गांव पहुंचे थे। इसी बीच कुछ लोग दूल्हे को मिर्गी आने की बात भी कह रहे हैं। पुलिस से लेकर शादी समारोह करवाने वाले पदाधिकारी भी बीच में आए लेकिन दोनों पक्षों द्वारा एक दुसरे पर आरोप लगाने का सिलसिला रात भर चलता रहा। पुलिस से लेकर मौजूद सभी के समझाने के बाद भी दुल्हन ने किसी की एक न सुनी और आखिर में दूल्हा बिना दुल्हन के ही लौट गया। आसपास के गांवों में भी इस मामले की चर्चा चल रही है।