मिक्सर प्लांट पर डस्ट खाली करते वक्त डंपर 11 हजार केवी विधुत लाइन से हुआ टच, ड्राइवर की मौके पर ही मौत

 रात भर शव लेकर किया प्रदर्शन, 12.50 लाख रुपए के मुआवजे पर बनी सहमती
 
मिक्सर प्लांट पर डस्ट खाली करते वक्त डंपर 11 हजार केवी विधुत लाइन से हुआ टच

बूंदी। जिले के हिण्डोली थाना क्षेत्र में बुधवार शाम को हाईवे निर्माण कंपनी के मिक्सर प्लांट में डस्ट खाली कर रहा डंपर ऊपर से निकल रही 11 हजार केवी विधुत लाइन को छू गया। जिसके कारण डंपर में करंट दौड़ने से ड्राइवर की मौके पर ही मौत हो गई।

सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची, लेकिन परिजनों ने पोस्टमार्टम के लिए शव कब्जे में नहीं लेने दिया। परिजन व ग्रामीण शव को मौके पर ही रखकर 15 घंटों तक बैठे रहे। मृतक के परिजन 50 लाख का मुआवजा देने की मांग पर अड़े रहे। मौके पर हिंडोली एसडीएम मुकेश चौधरी, डीएसपी श्याम सुंदर विश्नोई सहित चार थाने का पुलिस जाब्ता मौजूद रहा। कई दोर की वार्ता के बाद 12.50 लाख रुपए के मुआवजे पर सहमती बन गई।

पुलिस ने बताया कि हादसे में गुढागोकुलपुरा निवासी परमेश्वर मीणा (40) पुत्र रामकुमार मीणा की मौत हुई है। दरअसल, पेच की बावड़ी बासनी बॉर्डर पर हाईवे निर्माण कंपनी का मिक्सर प्लांट है। बुधवार शाम करीब 7 बजे ड्राइवर परमेश्वर डंपर लेकर डस्ट खाली करने गया था। डंपर ऊंचा कर डस्ट खाली करने के दौरान ऊपर से गुजर रही 11 हजार केवी विधुत लाइन से डंपर टच हो गया। जिससे डंपर में करंट दौड़ पड़ा और ड्राइवर परमेश्वर की गंभीर रूप से झुलसने से मौके पर ही मौत हो गई। हादसे की जानकारी लगने पर तुरंत विधुत सप्लाई बंद कराई गई। जिसके बाद शव को डंपर से निकाला तथा कंपनी अधिकारियों को इसकी सूचना दी।

इसके बाद सूचना पाकर हिडोली थाने के एसआई भैरूलाल मय जाब्ता मौके पर पहुंचे और शव को कब्जे लेने का प्रयास किया। लेकिन पुलिस को शव सोपने की बजाय ग्रामीण व परिजन प्लांट मालिक को मौके पर बुलाने की मांग करने लगे। हंगामे की सूचना पर एसडीएम मुकेश चौधरी, हिंडोली डीएसपी श्यामसुंदर विश्नोई सीआई मुकेश मीणा जाब्ते के साथ मौके पर पहुंचे। ग्रामीण समझाइश के बाद भी नहीं माने और प्लांट मालिक को मौके पर बुलाने के साथ ही मृतक के परिजनों को 50 लाख का मुआवजे की मांग करते रहे। रात भर शव के साथ बैठे रहे। हादसे के 15 घंटे बाद भी ग्रामीणों ने शव उठाने नहीं दिया। आखिरकार, 12.50 लाख रुपए मुआवजे की मांग पर सहमती बनने पर शव को पोस्टमार्टम के लिए हॉस्पिटल की मोर्चरी भिजवाया गया।