बूंदी : शिकारी ने बिछाया ऐसा जाल- फंदे में फंसा पैंथर, डीएफओ के नेतृत्व में रेस्क्यू टीम ने किया ट्रेंकुलाइज

 
डीएफओ के नेतृत्व में रेस्क्यू टीम ने किया ट्रेंकुलाइज

बूंदी। बूंदी-भीलवाड़ा जिले की सीमा के निकट लक्ष्मीपुरा बरड़ में गांव के ऊपर जंगल की तरफ एक पैंथर (panther) के शिकारियो द्वारा शिकार के लिए लगाये गये जाल के फंदे में फंसे होने की सूचना से वन विभाग में हड़कंप मच गया। सूचना पर उप वन संरक्षक सहित वन विभाग की टीम ने मौके पर पहुंचकर पैंथर को ट्रेंकुलाइज (tranquilize) कर कोटा इलाज के लिए भेज दिया है।

शिकारी ने बिछाया ऐसा जाल- फंदे में फंसा पैंथर,

उप वन संरक्षक सोनल जोरिहार ने बताया कि शनिवार सुबह ग्रामीणों द्वारा सूचना मिली की ग्राम लक्ष्मीपुरा बरड में गांव के ऊपर जंगल की ओर एक पैंथर किसी फंदे में फंसा हुआ है। जानकारी मिलते ही डाबी क्षेत्रीय वन अधिकारी संजय शर्मा मय स्टाफ मौके पर पहुंचे। जहां एक व्यस्क पैंथर झाड़ियों में स्थित जाल के रूप में लगे फंदे में फंसा हुआ दिखाई दिया। जिसपर उपवन संरक्षक बूंदी को अवगत कराया गया।

सूचना पाकर तत्काल उपवन संरक्षक सोनल जोरिहार द्वारा प्राप्त सूचना पर वन्यजीव रेस्क्यू टीम कोटा से संपर्क कर रेस्क्यू के लिए त्वरित कार्यवाही करने के लिए कहा। साथ ही उप वन संरक्षक जोरिहार मौके पर पहुंची और रेस्क्यू टीम का निर्देशन किया। रेस्क्यू टीम कोटा के क्षेत्रीय वन अधिकारी महेश शर्मा, पशु चिकित्सक विलास राय के साथ पहुंचकर को ट्रेंकुलाइज किया एवं पैंथर की जांच की गई जिसमें उसके शरीर पर कोई चोट, घाव के निशान नहीं मिले। पंजे से फंदा निकालकर इलाज के लिए चिड़िया घर कोटा के पिंजरे में लेकर रवाना कराया गया।

शिकार के प्रयास करने वालो के विरूद्व वन्य जीव संरक्षण अधिनियम के तहत कार्यवाही के निर्देश दिए। क्योंकि पैंथर का करने शिकार के लिए जाल नुमा फंदा भीलवाड़ा जिले के अंतर्गत राजस्व क्षेत्र में पाए जाने पर मौके पर उपस्थित वन विभाग भीलवाड़ा के बिजोलिया व तिलस्वां नाके की टीम द्वारा कार्यवाही शुरू की गई। रेस्क्यू कार्यवाही में राजेश शर्मा, राजेश सेन, भरत लाल गुर्जर, पूरण सिंह, भंवर सिंह, महेश, मानमल, सुरेंद्र एवं पुलिस थाना डाबी जाब्ता व सरपंच नेवा लाल गुर्जर भी मौके पर मौजूद थे।