पोस्को कोर्ट ने कुकर्म के आरोपी को 20 साल की सजा व 75 हजार रूपये के अर्थ दंड से किया दंडित

 
पोस्को कोर्ट ने कुकर्म के आरोपी को 20 साल की सजा व 75 हजार रूपये के अर्थ दंड से किया दंडित

बूंदी। जिले के हिंडोली थाने में दर्ज नाबालिक से कुकर्म करने के डेढ़ साल पुराने  मामले में न्यायालय ने आरोपी को 20 साल की सजा व 75 हजार रूपये के अर्थ दंड से दंडित किया है।

जानकारी के मुताबिक अप्रैल 2020 में नाबालिक किशोर के साथ कुकर्म करने पर 15 अप्रैल 2020 को थाने में उपस्थित होकर किशोर के परिजनों ने रिपोर्ट दर्ज करवाई। जिसमें बताया कि अभियुक्त पीड़ित किशोर के गांव का ही था जो करीब दोपहर 1ः30 बजे पीड़ित किशोर को बहला-फुसलाकर उसके घर ले गया और उसके साथ जबरदस्ती कुकर्म किया जिस पर पीड़ित के परिजनों ने अभियुक्त के विरुद्ध थाना हिंडोली में रिपोर्ट दर्ज करवाई। थाना हिंडोली ने मुकदमा दर्ज कर धारा 377 आईपीसी, 5/6 पोस्को एक्ट में मुकदमा दर्ज कर बाद अनुसंधान चालान पेश किया गया।

जिस पर 16 नवंबर को न्यायालय पोस्को क्रम संख्या एक बूंदी ने इस मामले में फैसला सुनाते हुए आरोपी को दोषी मानकर धारा 377 में 10 वर्ष का कठोर कारावास व ₹25000 जुर्माना एवं धारा 5/6 पोस्को एक्ट में 20 वर्ष का कठोर कारावास ₹50000 जुर्माने की सजा से दंडित किया है। उक्त मामले में अभियोजन की ओर से राकेश ठाकुर विशिष्ट लोक अभियोजक क्रम संख्या 1 बूंदी ने पेरवी करते हुए 9 गवाह 12 दस्तावेज न्यायालय में प्रदर्शित कठोर कार्यवाही की मांग की।