बून्दी के ओमप्रकाश शर्मा को ज्योतिष के क्षेत्र में Ph.D की उपाधि मिली

 
ओमप्रकाश शर्मा को ज्योतिष के क्षेत्र में पी.एच.डी. की उपाधि

बून्दी। चित्तौड़ जिले के गंगरार स्थित मेवाड़ विश्वविद्यालय ने बून्दी के ओमप्रकाश शर्मा को ज्योतिष में ‘‘सरकारी नौकरी के योगों का अध्ययन‘‘ विषय में पी.एच.डी.करने पर डॉ0 की उपाधि दी गई है।

ओमप्रकाश शर्मा ने जिला परिषद् बून्दी में निजि सहायक के पद पर कार्यरत रहते हुए वर्ष 2016 में पी.एच.डी. की उपाधि के लिए तैयारी शुरू की थी। बनारस विश्वविद्यालय के डॉ0 चन्द्रकांत शर्मा एवं दिल्ली फयूचरप्वांइट के निदेशक डॉ0 अरूण बसंल के निर्देशन में ओमप्रकाश शर्मा ने अपना शोध कार्य पूरा किया। शोध के दौरान शर्मा ने 2 हजार जन्म कुण्डलियोें का अध्ययन किया, जिसमें भारतीय प्रशासनिक एवं पुलिससेवा, राजस्थान प्रशासनिक एवं पुलिससेवा के अधिकारियों सहित अन्य अधीनस्थ सेवाओं के अधिकारी एवं कर्मचारियों की जन्मकुण्डलियों का अध्ययन कर अपना शोध पूर्ण किया।

मेवाड़ विश्वविद्यालय ने बुधवार को शोध के परिणाम जारी किए जिनमें 24 विद्यार्थियों कोपी.एच.डी. की उपाधि प्रदान की गईहै। इन शोधार्थियों में विधि, वाणिज्य, शिक्षा, फार्मेसी, इंजिनियरिंग सहित ज्योतिष विषय के विद्यार्थी सम्मिलित थे।इन शोधार्थियों को आगामी दिसम्बर माह में आयोजित दीक्षान्त समारोह में पी.एच.डी. की उपाधि प्रदान की जावेगी ।

शर्मा को पी.एच.डी. की उपाधि मिलने पर अध्यात्ज्योतिषधाम, वेदांगज्योतिषसंस्था, संस्कारसरिता, वैद्यनाथमहादेवमंदिर अन्नक्षेत्र समिति, अर्न्तराष्ट्रीय गुर्जर गौड ब्राहम्मण महासभा के सदस्यों ने प्रसन्नता व्यक्त की है। पी.एच.डी.उपाधि मिलने के बाद शर्मा ने बताया कि इस शोध के प्राप्त परिणामों से समाज के पढे़ लिखे युवाओं को इस क्षेत्र में मार्ग दर्शन मिलेगा। उन्होंने यह भी बताया कि भविष्य में छोटीकाशी के नाम से जाने जानी वाली बून्दी के सांस्कृतिक एवं आध्यात्मिक विरासत को आगे बढ़ाने में गति मिलेगी । उल्लेखनीय है कि शर्मा कोटा संभाग के पहले व्यक्ति हैं जिनको ज्योतिष के क्षेत्र में यह सम्मान मिला है।