REET Exam सेंटर पर अपने 20 घंटे के नवजात बच्चे के साथ रीट परीक्षा देंगी नव प्रसूता अर्चना

कलेक्टर के निर्देश के बाद परीक्षा केंद्र पर की गयी अलग पलंग की व्यवस्था

कांग्रेस ने ली बूंदी चिकित्सालय से एंबुलेंस से लाने ले जाने की जिम्मेदारी 

 
नव प्रसूता अर्चना

बूंदी। शनिवार को दोपहर 1 बजे के लगभग बेटी को जन्म देने वाली अभी बूंदी मातृ एवं शिशु चिकित्सालय में भर्ती अर्चना कुमारी गोचर रविवार को अपने 20 घंटे की नवजात बेटी के साथ केशवरायपाटन राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय सेंटर पर रीट की परीक्षा देगी।

शनिवार रात कांग्रेस सहायता टीम के प्रभारी चर्मेश शर्मा के साथ अर्चना के प्रति ओम प्रकाश गोचर  एडीएम अमानुल्लाह खान से मिले और प्रसूता को नवजात बच्चे के साथ परीक्षा देने की समुचित व्यवस्था करने की मांग रखी। इन्होंने एडीएम को छात्रा अर्चना की ओर से जिला कलेक्टर के नाम ज्ञापन भी सौंपा।

कलेक्टर से वार्ता के बाद अनुमति
मामला की गंभीरता को देखते हुये एडीएम अमानुल्लाह खान ने शनिवार रात को ही तत्काल रीट परीक्षा से जुड़े हुए शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की और नवप्रसूता को केशवरायपाटन सेंटर पर परीक्षा दिलवाने पर विचार विमर्श किया। कांग्रेस की सहायता टीम के प्रभारी चर्मेश शर्मा ने प्रसूता को लाने ले जाने के लिये एंबुलेंस की जिम्मेदारी उठायी। जिसके बाद एडीएम ने जिला कलेक्टर रेणु जयपाल को सारी स्थिति से अवगत करवाया। कलेक्टर से वार्ता के बाद प्रशासन ने नव प्रसूता विद्यार्थी अर्चना कुमारी गोचर को केशवरायपाटन सेंटर पर परीक्षा देने की अनुमति देने का निर्णय लिया।

अलग से लगाया जाएगा पलंग
जिला कलेक्टर के निर्देश के बाद एडीएम अमानुल्लाह खान ने केशवरायपाटन उपखंड अधिकारी को वहाँ राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय रीट परीक्षा केंद्र पर नव प्रसूता अर्चना कुमारी गोचर के लिये अलग से पलंग की व्यवस्था करवाने के निर्देश दिये। प्रशासन के निर्देश के बाद निर्णय लिया गया कि परीक्षा केंद्र पर अर्चना के लिये अलग से पलंग लगाया जाएगा।

डॉक्टर ने 5 अक्टूबर डेट दी थी
गर्भवती अर्चना शनिवार प्रातः 4 बजे तक अपने घर पर पढ़ाई कर रही थी चिकित्सक ने डिलीवरी की डेट 5 अक्टूबर दे रखी थी इसलिये पूरा परिवार निश्चिंत था। लेकिन अचानक दर्द होने पर रीट परीक्षा से 1 दिन पहले चिकित्सालय आना पड़ा और दोपहर को अर्चना ने बेटी को जन्म दिया। 2010 में बीएड करने वाली अर्चना पिछले कई वर्षों से राजकीय शिक्षक भर्ती के लिए तैयारी कर रही थी। बेटी को जन्म देने के बाद शनिवार सांय रीट परीक्षा देने की इच्छा व्यक्त की तो पति ओम प्रकाश गोचर ने बालचंद पाड़ा के सामाजिक कार्यकर्ता राम प्रकाश चौहान के माध्यम से कांग्रेस नेता चर्मेश शर्मा से मदद के लिये संपर्क किया।