अपहरण व दुष्कर्म पीडिता न्याय की मांग को लेकर चढ़ी पानी की टंकी पर, डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद महिला नीचे उतरी

जांच अधिकारी बदलने व आरोपियो के खिलाफ कार्यवाही की मांग 
 
पीडिता न्याय की मांग को लेकर चढ़ी पानी की टंकी पर

बूंदी। जिले के गेंडोली थाने में दर्ज अपहरण एवं दुष्कर्म के मामले में कार्यवाही नही होने से गुरूवार को खफा एक पीड़िता न्याय की मांग को लेकर शहर के आजाद पार्क में स्थित पानी की टंकी पर चढ़ गई। महिला टंकी पर चढ़कर जांच अधिकारी बदलने व आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही की मांग कर रही थी। महिला के टंकी पर चढ़ने की सूचना मिलने के पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे और महिला को टंकी से नीचे उतारने के लिए समझाईश की। करीब डेढ़ घंटे मशक्कत के बाद महिला नीचे उतरी।

मशक्कत के बाद महिला नीचे उतरी

महिला के टंकी पर चढ़ने की सूचना मिलते ही अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक किशोरीलाल, पुलिस उप अधीक्षक धर्मेंद्र कुमार शर्मा, कोतवाली थानाधिकारी सहदेव सिंह मय जाब्ते के मौके पर पहुंचे, इसके बाद उपखंड अधिकारी ललित गोयल भी पहुंचे और महिला से समझाइश की। लेकिन महिला अपनी मांग को लेकर टंकी के उपर खड़े होकर पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करती रही।

पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे

जानकारी के मुताबिक, महिला का 11सितंबर को खटकड़ से अपहरण किया गया था।  परिजनों की ओर से गेंडोली थाने में 14 सितंबर को गुमशुदगी दर्ज कराई थी। करीब एक महिने बाद पीडिता किसी तरह अपने घर पहुंची। उसके बाद 12 अक्टूंबर को पीडिता ने तत्कालीन पुलिस अधीक्षक से मिलकर परिवाद सोपा, एसपी के निर्देश के पश्चात गेंडोली थाना पुलिस ने पीडिता की रिपोर्ट पर अपहरण और दुष्कर्म का मामला दर्ज कर लिया। पीडित महिला का मेडिकल कराकर धारा 164 के बयान भी पंजिकृत करा लिए। लेकिन पीडिता का आरोप है कि उसका अपहरण कर बंधक बनाकर एक महिने तक के0पाटन और गुडगांव ले जाकर सामुहिक दुष्कर्म किया गया। जिसपर पुलिस कार्यवाही नहीं कर रही है। इसके चलते गेंडोली थाना पुलिस और लाखेरी पुलिस उपाधीक्षक से उसे न्याय की उम्मीद नहीं है। मामले को लेकर पीड़िता एसपी, कलक्टर, आईजी, डीजीपी से जांच अधिकारी बदलने की मांग कर चुकी है। 

पीड़िता मामले पर कार्यवाही नहीं होने से आहत होकर पानी की टंकी के उपर बोतल में पेट्रोल और माचिस, न्याय संबंधित दस्तावेज लेकर चढ़ गई। महिला बार-बार गेंडोली थाना पुलिस और लाखेरी पुलिस उपाधीक्षक के खिलाफ नारेबाजी कर रही थी। पीड़ित महिला का आरोप है कि मामला दर्ज होने के बाद भी पुलिस द्वारा आरोपियों के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की है।

लोगो की भीड़ जमा हो गई

इधर, महिला के टंकी पर चढ़ने की जानकारी लगते ही शहर के आजाद पार्क में लोगो की भीड़ जमा हो गई और तमाशबीन लोगो ने खड़े होकर महिला के टंकी पर चढ़े होने की वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल करना शुरू कर दिया। करीब डेढ़ घंटे की समझाईश के बाद पीडिता के परिजनो ने हाथ जोड़कर नीचे उतरने के लिए कहा तो वह नीचे उतर गई। महिला के टंकी से निचे उतरते ही कोतवाली पुलिस थाने ले गई। जिसे बाद में निजी मुचलके पर पाबंद कर छोड़ दिया।