नैनवां नेशनल हाईवे 148डी पर घोषित ट्रॉमा सेंटर का निर्माण कार्य शुरू करवाने की मांग

 
ट्रॉमा सेंटर का निर्माण कार्य शुरू करवाने की मांग

बूंदी। नेशनल हाईवे 148डी गुलाबपुरा से उनियारा के घोषित ट्रॉमा सेंटर नैनवां का ऑन हाईवे निर्माण कार्य शुरू करवाने की मांग को लेकर मुख्यमंत्री के नाम अतिरिक्त जिला कलेक्टर अमानुल्लाह खान को ज्ञापन सौंपा है। प्रतिनिधी मंडल ने प्रशासन को चेताया कि अगर ऑन रोड़ ट्रॉमा सेंटर का निमार्ण कार्य शुरू नहीं किया तो आंदोलन के लिए विवश होना पडेगा।

भाजपा ओबीसी मोर्चा जिला महामंत्री दीक्षांत सोनी, जिला महामंत्री प्रेम जांगिड, भाजपा जिला उपाध्यक्ष सीताराम सैनी, बूंदी शहर मंडल अध्यक्ष महावीर खंगार, भाजपा ओबीसी मोर्चा आईटी सेल के पवन सिंह, शहर उपाध्यक्ष एवं पार्षद रमेश हाडा ने अतिरिक्त जिला कलेक्टर को दिए ज्ञापन में बताया कि नेशनल हाईवे 148डी गुलाबपुरा से उनियारा पर बढ़ते एक्सीडेंट दुर्घटना के मध्य नजर जहाजपुर से उनियारा के मध्य की दूरी 140 किलोमीटर ऑन रोड ट्रॉमा सेंटर बनाने के लिए क्षेत्रवासी 2018 से मांग कर रहे हैं, क्षेत्रवासियों ने जिला प्रशासन, राज्य सरकार को अनगिनत ज्ञापन देकर और हस्ताक्षर अभियान के माध्यम से क्षेत्र की आवाज को राजस्थान सरकार तक पहुंचाया। जिसके उपरांत जिला कलेक्टर बूंदी एवं उपखंड अधिकारी नैनवां द्वारा ट्रामा सेंटर बनाने के लिए जमीन का आवंटन 2019 में कर दिया गया और राजस्थान सरकार ने ट्रॉमा सेंटर की घोषणा कर दी। साथ ही ट्रॉमा सेंटर बनाने के लिए राज्य सरकार द्वारा 6.28 करोड़ रुपए की घोषणा की जा चुकी है और 16 चिकित्सक कर्मियों के पदों की प्रशासनिक एवं वित्तीय स्वीकृति जारी की जा चुकी है। लेकिन सरकार में बेठे लोग ट्रॉमा सेंटर को कभी हिंडोली तो कभी नैनवां और अब जानकारी मिल रही है कि लिंक रोड पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नैनवां हॉस्पिटल में लाया जा रहा है जो नैनवां क्षेत्र की ग्रामीण जनता के साथ कुठाराघात है। अगर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नैनवां में ही ट्रॉमा सेंटर की यूनिट ले जाई जा रही है तो ऑन हाईवे पर जहाजपुर से उनियारा के मध्य 140 किलोमीटर दूरी में मात्र एक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जजावर सरकारी बिल्डिंग में ही जाये। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नैनवा के रिक्त पदों को भरकर नैनवां की जनता को सुविधा दे सकते हैं और हाईवे के ट्रॉमा सेंटर को नेशनल हाईवे पर निर्माण कराकर ग्रामीण जनता को भी सुविधाएं मुहैया करवायी जा सकती हैं।

बढ़ती दुर्घटनाओं को मध्य नजर रखते हुए क्षेत्रवासियों द्वारा ट्रॉमा सेंटर बनाने की केंद्र और राज्य सरकार से लंबे समय से मांग की जा रही है। ट्रॉमा सेंटर बनाने के लिए राज्य सरकार द्वारा 6.28 करोड़ रुपए की घोषणा की जा चुकी है और 16 चिकित्सक कर्मियों के पदों की प्रशासनिक एवं वित्तीय स्वीकृति जारी की जा चुकी है तो ट्रॉमा सेंटर नैनवां ऑन हाईवे पर ही बनना चाहिए। यह नेशनल हाईवे पर बस रही देहाती जनता का अधिकार है ट्रॉमा सेंटर को फुटबॉल बनाने की जगह सरकार नेशनल हाईवे के ऑन रोड पर ट्रॉमा सेंटर बनाकर सैकड़ों ग्रामीणों और हाईवे पर दुर्घटना ग्रस्त लोगों को तुरंत हाईटेक चिकित्सा उपलब्ध कराकर लोगो जान बचाई जा सकेगी।