प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना का हालः अजेता, रायथल, माटुंदा-बूंदी सड़क निर्माण कार्य समय पर पूर्ण नहीं होने से लोग हुए परेशान

- माटुंदा में ग्रामीण काम करने नहीं दे रहे हैं, मार्ग पर 3 पुलियाओं सहित 30 फीसद काम बाकी
- रेडक्रॉस शमशान से लेकर माटुंदा चौराहे तक के हालात खराब 
 
प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना का हालः अजेता, रायथल, माटुंदा-बूंदी सड़क निर्माण कार्य समय पर पूर्ण नहीं होने से लोग हुए परेशान

बूंदी, (कलीमुद्दीन अंसारी)। भारत सरकार की महत्वकांक्षी प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत अजेता, रायथल, माटुंदा-बूंदी सड़क निर्माण कार्य समय पर पूर्ण नहीं होने से आमजन व राहगीरों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। वहीं इस समस्या को लेकर लोग अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों के सामने भी अपनी नाराजगी जता रहे हैं। शहर के माटुंदा रोड स्थित रेडक्रॉस श्मशान से माटुंदा रोड चौराहे तक की हालत इतनी खराब है कि यहां दो पहिया वाहन पर चलना तो दूर पैदल निकलना भी लोगों के लिए दुश्वार हो रहा है। यहां से गुजरने वाले कई लोग चोटिल हो चुके हैं। लेकिन सार्वजनिक निर्माण विभाग एवं संवेदक के कानों पर जूं तक नहीं रेंग रही है।

सभापति मधु नुवाल बताई दुर्दशा
सोमवार को माटुंदा रोड की ओर जा रही सभापति मधु नुवाल के सामने भी लोगों ने रोड की दुर्दशा को लेकर काफी नाराजगी जताई। सभापति मधु नुवाल ने कहा कि रोड स्वीकृत हो चुका है निर्माण कार्य जारी है। लोगों की नाराजगी जायज है, वास्तव में आने जाने में लोगों को काफी परेशानी हो रही है। इस मामले में सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधिकारियों से बात कर जल्द लोगों को राहत पहुंचाई जाएगी।

दो पहिया वाहन से निकलना तो दूर पैदल चलना भी मुश्किल
इस निर्माणाधीन रोड पर रेडक्रॉस शमशान से लेकर माटुंदा चौराहे तक के हालात इतने भयानक है कि लोगों का दो पहिया वाहन से निकलना तो दूर पैदल चलना भी मुश्किल हो रहा है। यहां से तीन पहिया वाहन ऑटो चालक तो सवारियां ले जाने साफ तौर पर मना कर देते है। जिससे आसपास के गांव और क्षेत्र के लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है तथा शवयात्रा को लेकर निकलना भी लोगों के लिए बड़ा मुश्किल हो रहा है। माटूंदा गांव और रेडक्रॉस शमशान से लेकर माटुंदा चौराहे तक लोग टायल्स रोड़ की बजाए सीसी रोड बनाने की मांग कर रहे है। क्षेत्र के लोग इसे लेकर जिला कलक्टर, विधायक अशोक डोगरा, लोक सभाध्यक्ष ओम बिरला तक अपनी बात पहुंचा चुके है। लोगो का कहना है कि इंटरलॉकिंग रोड बनने से धूल और मिट्टी के कारण आसपास के निवासियों का जीना दुश्वार हो जाता है, उड़ती मिट्टी के कारण कई पहले ही कई लोग सांस जैसी गंभीर बीमारियों से पीड़ित हो चुक है। इसलिए सीसी रोड बनाने की मांग की जा रही है ताकि लोगों को धूल और मिट्टी से राहत मिल सके।

6 महीने अधिक निकल जाने के बावजूद भी कार्य अपूर्ण

आपको बता दें अजेता, रायथल, माटुंदा-बूंदी सड़क निर्माण का कार्य प्रधानमंत्री सड़क योजना के तहत किया जा रहा है। जिसमें मैंसर्स गोकुलनाथ कंस्ट्रक्शन कंपनी जयपुर द्वारा 21.500 किलोमीटर लंबी सड़क का निर्माण कार्य 1420 लाख रुपए की लागत से किया जाना है। कार्य 8 अक्टूबर 2020 को प्रारंभ होकर 7 अगस्त 21 को पूर्ण किया जाना था लेकिन निर्धारित अवधि के 6 महीने अधिक निकल जाने के बावजूद भी कार्य अभी पूर्ण नहीं हुआ है। ऐसे में लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

संवेदक विजय सिंह चौधरी का कहना-

संवेदक विजय सिंह चौधरी का कहना है कि माटुंदा में ग्रामीण काम करने नहीं दे रहे हैं,  उनका कहना है कि टाइल और पीसी के स्थान पर सीसी रोड का निर्माण किया जाए। वहीं माटुंदा रोड शमशान से लेकर माटुंदा चौराहे बूंदी तक भी लोग सीसी रोड की मांग कर रहे हैं। इस कारण से हमारे काम में विलंब हो रहा है। हमारा जब टेंडर हुआ तब टाइल और पीसी कार्य किया जाना था बाद में लेटर आ गया कि इसमें सीवर लाइन डालेगी, सीवर लाइन डालने वालों ने उसे जेसीबी मशीन से खोद कर पूरी रोड को ही खराब कर दिया, सीवर लाइन वाले अगर इसका बेस सही करके देगें तो हम टाइल लगाने का काम शुरू कर देंगे। रायथल में जो पुलिया बनायी थी उसके ऊपर से पानी चला गया इसलिए पुलिया को दोबारा से बड़ा बनाया जा रहा है। अट्ठारह सौ वाली जो बड़ी पुलिया है उसको बना रहे है। नहर वाली पुलिया कि जब परमिशन मिलेगी तो उसे चालू किया जाएगा। माटुंदा रोड मातेश्वरी चावल फैक्ट्री के सामने काम किया था जो रोड़ साईड से रेनफॉल के कारण बह गई, अब वहां पुलिया बनेगी, इसे लेकर अभी कोई निर्णय नहीं हुआ है। बजट कम होने के कारण उसका काम भी रुका हुआ है और बजट आने के बाद उसका काम किया जाएगा। इस वजह से काम में देरी हो रही है। यदि सभी रूकावटें दुर हो जाएगी तो यह रोड डेढ़ 2 महीने में कंप्लीट हो जाएगा।

इन्होने कहा-
सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधिशाषी अभियंता (पीएमजीएसवाई), बूंदी एसके गुप्ता ने कहा कि कोरोना के चलते सरकार ने 6 माह का अतिरिक्त समय दिया है, जल्द कार्य पुर्ण करवाया जायेगा। सीवरलाईन डालने वालों से बेस का पैसा जमा करा लिया है, जल्द ही माटूंदा रोड़ का काम शुरू कर दिया जायेगा।