बूंदी : बेखौफ दिन रात अवैध खनन से ग्रामीणों में रोष, अधिकारियों ने खाई खुदवाकर की इतिश्री

 
बेखौफ दिन रात अवैध खनन से ग्रामीणों में रोष

बूंदी। जिले के तालेड़ा उपखंड के लिलेड़ा व्यासान ग्राम पंचायत स्थित हाड़ों का पीपल्दा खटीको का झोपड़ा में बेखौफ दिन रात अवैध खनन किया जा रहा है। अवैध खनन के खिलाफ लगातार ग्रामीणों की शिकायत के बावजूद भी कार्यवाही नहीं होने से क्षेत्र के लोगो में रोष व्याप्त है। ग्रामीणों का कहना है कि कई बार अधिकारियों को शिकायत की गई लेकिन खनन माफियाओं की दबंगई के आगे सभी  खामोश है।

हद तो तब हो गई जब ग्रामीणों की शिकायतों के बाद अधिकारियों के आदेश पर रविवार को नायब तहसीलदार खटीको का झोपड़ा अवैध खनन स्थल पर पहुंचे, जहां कार्रवाई करने के बजाय वहां खड़े संसाधनों को छोड़ दिया। जब मीडिया कर्मियों ने उनसे संपर्क किया तो उन्होंने कहा कि यहां एक जेसीबी खड़ी हुई थी जिसके चालक को बुलाकर खाई खुदवा कर रास्ता बंद करवा दिया है। ताकि आगे कोई अवैध खनन नहीं कर सके। जबकि होना यह था कि अवैध खनन कर्ताओं के संसाधन जप्त कर संबंधित थाने में मुकदमा दर्ज करवाया जाता तथा माईनिंग एवं राजस्व विभाग द्वारा कार्यवाही कर पेनल्टी वसूली जाती। 

ग्रामीणों ने बताया कि सरकारी भूमि पर 24 घंटे दिन रात जेसीबी मशीन से अवैध खनन किया जा रहा है, डंपर और ट्रैक्टर ट्रॉली से मिट्टी का परिवहन हो रहा है, अवैध खनन की शिकायत एसडीएम तालेड़ा, तहसीलदार तालेड़ा, खनिज अभियंता बूंदी, तालेड़ा थाना अधिकारी एवं ग्राम पंचायत को की गई। लेकिन उसके बाद भी कोई कार्यवाही नहीं होने से ग्रामीणों में रोष व्याप्त है। यह मिट्टी कोटा रोड़ पर निर्माणधीन ऑयल मिल पर ड़ाली जा रही है।

लिलेड़ा व्यासान सरपंच संतोष साहू ने कहा कि पिछले कार्यकाल में 15 लाख रुपए की लागत से सीसी सड़क का निर्माण करवाया गया था लेकिन खनन माफियाओं ने भारी संसाधन चलाकर उसे तोड़ दिया। अवैध खनन की शिकायत कई बार की गई लेकिन अवैध खनन बंद नहीं किया गया। 

मामलें में तहसीलदार मोहन लाल जैन का कहना है कि प्रशासन गांव के संग अभियान में व्यस्त हूं। जिसके के चलते नायब तहसीलदार को मौके पर भेजा है, मौका रिपोर्ट आने के बाद नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी।

खाई खुदवा कर रास्ता करवा दिया बंद 
तालेड़ा उपखंड अधिकारी कमल कुमार मीणा ने कहा कि शिकायत पर नायब तहसीलदार को मौके पर भेजा है, उन्होंने बताया कि मौके पर  अवैध खनन करने के निशान मिले हैं। खनन कर्ताओं के बारे में जानकारी नहीं मिली। वहां एक जेसीबी खड़ी मिली थी जिससे खाई खुदवा कर रास्ता बंद करवा दिया है।