पानी कि निकासी नहीं होने बरुन्धन चौराहा बना तालाब, लोगो का निकलना हुआ मुश्किल

-पिछले एक पखवाडे़ से परेशान है ग्रामीण व राहगीर, नहीं दिया किसी ने ध्यान 
 
With no drainage of water, Barundhan intersection became a pond, it was difficult for people to get out

बूंदी। जिले के तालेड़ा उपखण्ड के बरुन्धन चौराहा (Barundhan Chauraha of Taleda subdivision of the district) पर पिछले एक सप्ताह से भरा बरसाती पानी आमजन पर भारी पड़ रहा है। बरसाती पानी की निकासी नही होने से राहगीर महिलाओ, बुजुर्गो और बच्चो सहित दुपहिया वाहन चालको को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। वहीं आसपास रहने वाले लोगो व दुकानदारों भी नरकिय जीवन जीना पड़ रहा है।

कई स्कूल और कार्यालय है इस मार्ग पर-
जानकारी के मुताबिक, बरुन्धन चौराहा पर बरसाती पानी जमा होकर इकट्ठा हो जाने से राहगीरों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा हैं। इस रास्ते पर जवाहर नवोदय विद्यालय, मॉडल स्कूल, बीएड कॉलेज तथा वेटेनरी कॉलेज सहित कई राजकिय विद्यालय, पंचायत भवन, अटल सेवा केंद्र आदी पड़ते हैं। जिसके चलते बूंदी सहित इस रास्ते पर पड़ने वाले दर्जनों गांवों के लोगो कर्मचारियों व छात्र-छात्राओं को यहाँ पानी जमा के बीच होकर निकलना पड़ रहा है। 

2 फिट गहरे बरसाती पानी से होकर निकलना है मजबुरी-
साथ ही स्थानीय बाशिन्दों को जरूरी काम व राशन लेने जाने के लिए भी इसी 2 फिट से ज्यादा भरे पानी से होकर गुजरना पड़ता हैं। बरसाती पानी के जमा होने से पानी के अंदर हो रहे गड्डो का आने-जाने वालो को पता नही चलने से कई दुपहिया वाहन चालक गिर कर चोटिल हो रहे हैं। तो कई दुपहिया वाहन खराब भी हो रहे है। बरुन्धन चौराहा पर बारिश के मौसम में विगत कई वर्षों से पानी जमा होता रहा हैं। पानी जमा होने पर जेसीबी की सहायता से नाली खोद कर पानी की निकासी की जाती रही हैं। जिससे भी कई दिनों तक पानी की निकासी नही होती हैं। इस समस्या का कोई ठोस समाधान अब तक नही हो पा रहा हैं।

वर्तमान में नेशनल हाइवे के नव निर्माण कार्य के चलते यह समस्या और भी गंभीर हो गई है। इस समस्या को जड़ से खत्म करने व बरसाती पानी की निकासी के लिये निर्मित रोड़ के नीचे पाईप डालकर चेंबर बनाकर हनुमान मंदिर के पास से पानी निकासी कर स्थाई समाधान किया जा सकता था। लेकिन अब समस्या और विकट होने से आमजन पर भारी पड़ रही है।