सड़को के गड्डे बने आमजन कि परेशानी, मार्गो की दशा सुधारने की मांग को लेकर किया नगर परिषद् का घेराव

-15 दिन में रोड़ निर्माण कार्य आरम्भ नहीं होने पर बूंदी बंद की चेतावनी 
 
The problems of the common people became potholes, the city council was surrounded by the demand to improve the condition of the roads

बूंदी। शहर में लम्बे समय से जर्जर हो चुकी गड्डेदार सडको के नवनिर्माण की मांग (Demand for refurbishment of dilapidated paved roads) को लेकर शुक्रवार को नगरवासियों ने गहरा रोष जताया (Citizens expressed deep anger)। लगातार बारिश के बावजूद भी भीगते प्रदर्शनकारी महिला, पुरुष व युवा भूरा गणेश मंदिर परिसर के बाहर एकत्रित हुए जहां आन्दोलनकारियों द्वारा शहर की जर्जर सड़कों के नवनिर्माण करने के लिए सद्बुद्धि की कामना को लेकर 21 दीपो के साथ आरती की।

The problems of the common people became potholes, the city council was surrounded by the demand to improve the condition of the roads

जिसके बाद प्रदर्शनकारी भूरा गणेश से कोटा रोड, सब्जी मंडी बाज़ार होकर नारेबाजी करते हुए नगर परिषद् के बाहर जुलुस के रूप में पहुंचे। जुलुस में शामिल लोग सड़क बनाने और बूंदी को गड्डो से मुक्ति दिलाने, स्वायत शासन मंत्री द्वारा परिषद् चुनाव के समय 135 करोड़ रूपये देने व बूंदी की उपेक्षा सम्बन्धी लिखे नारों की तख्तियां हाथों में थामे हुए थे। प्रदर्शनकारियों ने मौके पर कलेक्टर, सार्वजनिक निर्माण विभाग के एक्सईन व सभापति एवं आयुक्त को मौके पर बुलाने की मांग की और प्रदर्शनकारीयों नेएक दुसरे का हाथ थामकर चैन बनाकर नगर परिषद् भवन का घेराव किया। जिम्मेदार अधिकारियो के न आने तक घेराव चलता रहा।

इसके बाद एसडीएम हेमराज परिडवाल के साथ पीडब्लूडी एक्सईएन और नगर परिषद् आयुक्त महावीर सिंह ने पहुंचकर पांच प्रदर्शनकारियों को वार्ता के लिए आयुक्त के कक्ष में बुलाया। इस पर प्रदर्शनकारी सभी के बीच आकर ही बातचीत पर अड़ गये। इस पर तीनो अधिकारीयों ने आमजन के बीच आकर ही वार्ता की। जहां प्रदर्शकारी महिलाओं ने अधिकारीयों को खरीखोटी सुनाते हुए गड्डेदार सडको से परेशान होकर अपनी पीड़ा सुनाई। और अधिकारीयों को कुछ प्रदर्शनकारियों ने चुडिया दिखा कर रोष जताया। इसके बाद अधिकारीयों ने प्रदर्शनकारियों से कहा कि हम मिलकर विशेष प्रयास के जरिये बूंदी की जनता की पीड़ा सरकार को बताकर सड़को की सरकार से जल्द मंजूरी करवाकर सीसी सड़क बनाने का आश्वाशन दिया। प्रदर्शनकारियों ने 15 दिवस में वित्तीय स्वीकृति व वर्क आर्डर सार्वजनिक नहीं करने पर आगे बूंदी बंद के निर्णय से भी सरकार को अवगत करा देने को कहा।

मौके पर भाजपा नेता रुपेश शर्मा ने प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि बूंदी की जर्जर सडको की वजह से अब तक कई राहगीर गिरकर चोटिल हो चुके है, कईयों के फ्रेक्चर हो चुके है और गड्डो के कारण लोग स्पोंलैसिस एवं स्लिप डिस्क की बीमारी से ग्रस्त हो रहे है जिसके लिए नगर परिषद् व सरकार सीधी जिम्मेदार है। भाजपा नेता शर्मा ने बूंदी से दलेलपूरा रोड व माटुंदा रोड की दुर्दशा का जिक्र करते हुए कहा कि हालात ऐसे है कि इन मार्ग पर पैदल चलना और शमशान तक सही सलामत अर्थी लेकर पहुंचाना मुश्किल हो गया है।

इस मौके पर पूर्व चेयरमेन भगवान लाडला, समाजसेवी सुनील हाडोती, लंकागेट व्यापार मंडल के संरक्षक कालू कटारा, युवा सेना प्रमुख महेश शर्मा, टाईगर फ़ोर्स के अध्यक्ष लाखन सिंह नायक, नरेन्द्र पाईलेट, वानर सेना प्रमुख संदीप श्रृंगी व बूंदी यूथ क्लब के अध्यक्ष प्रभात जैन, भाजपा महिला मोर्चा की पूर्व जिलाध्यक्ष मीनू शर्मा, पूर्व पार्षद पेंशु सिंह ने आमजन को संबोधित किया। इस दौरान पार्षद मनीष सिसोदिया, पप्पू सोनी, संदीप देवगन, आशीष शर्मा, पूर्व पार्षद विजय शंकर टेलर, महावीर हल्दिया, मुरली दाधीच, भाजपा पूर्व शहर अध्यक्ष सुशील मेहता, नगेन्द्र शर्मा, शहर उपाध्यक्ष भंवर सिंह, भाजयुमो के पूर्व महामंत्री ओम धगाल, एससी मोर्चा के अध्यक्ष कुलवंत नायक, विहिप के पूर्व जिलाध्यक्ष नन्दसिंह सोलंकी, व्यापार महासंघ अध्यक्ष निरंजन जिंदल, सचिव अनिल चोबीसा, संयुक्त व्यापार संघ सचिव प्रशांत मोदी, लंकागेट व्यापार मंडल अध्यक्ष बंटी गौतम, सर्वब्राह्मण युवा शाखा अध्यक्ष पियूष शर्मा, श्रीमाल समाज अध्यक्ष प्रदीप श्रीमाल, विहिप नेता विनोद गर्ग सहित विभिन्न राजनैतिक ,सामाजिक व व्यापारिक संघठन से जुड़े काफी तादात में लोग मौजूद थे।