नाबालिग से दुष्कर्म करने के 2 साल पुराने मामले में पोस्को कोर्ट ने आरोपी को सूनायी 20 साल के कठोर कारावास कि सजा

 
Posco court sentenced the accused to 20 years of rigorous imprisonment in a 2-year-old case of raping a minor

बूंदी। नाबालिग पीड़िता से दुष्कर्म करने के 2 साल पुराने मामले में (In a 2-year-old case of raping a minor victim) विशिष्ट न्यायधीश बालकृष्ण मिश्र, न्यायालय पोस्को क्रम संख्या-2 बूंदी ने आरोपी को 20 साल के कठोर कारावास कि सजा (The accused was sentenced to 20 years rigorous imprisonment) व 61 हजार के अर्थदंड से दंडित किया है। मामला इंद्रगढ़ थाना क्षेत्र का है।

 घटनाक्रम के अनुसार 18 दिसंबर 2020 को थाना इंद्रगढ़ में प्राप्त हुई। रिपोर्ट में पीड़ित पक्ष की ओर से बताया कि अभियुक्त किशन गोपाल पुत्र छितर लाल उम्र 30 वर्ष जाति कंडारा निवासी नीमसरा, थाना खतौली जिला कोटा ने मेरी नाबालिग पुत्री को बहला-फुसलाकर ले गया। जिस पर इन्द्रगढ़ थाना पुलिस द्वारा रिपोर्ट दर्ज कर पीड़िता को दस्तियाब किया गया। पीड़िता ने अपने बयानो में बताया कि आरोपी 17 दिसंबर को उसे बहला-फुसलाकर कोटा ले गया और वहां उसके साथ दुष्कर्म किया। बाद अनुसंधान अभियुक्त के विरुद्ध थाना इंद्रगढ़ द्वारा धारा 363, 366, 376 ‘3‘ भारतीय दंड संहिता तथा 3/4 पोस्को अधिनियम 2012 में चालान पेश किया गया।

उक्त प्रकरण में 18 नवंबर को विशिष्ट न्यायधीश बालकृष्ण मिश्र न्यायालय पोस्को क्रम संख्या -2 ने निर्णय सुनाते हुए अभियुक्त किशन गोपाल को धारा 376 में 3 वर्ष का कठोर कारावास 5000 का अर्थ, धारा 366 में 5 वर्ष का कठोर कारावास, 6000 अर्थदंड, 3/42 में 20 वर्ष का कठोर कारावास, 5000 रूपये का जुर्माने से दंडित किया है। प्रकरण में अभियोजन पक्ष की ओर से पैरवी करते हुए विशिष्ट लोक अभियोजक महावीर मेघवाल ने 24 दस्तावेज और 15 गवाह प्रस्तुत कर अपराध प्रमाणित करवाया।