सऊदी अरब में भारतीय नागरिक की हत्या पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने दर्ज किया केस

बूंदी के कांग्रेस नेता चर्मेश शर्मा की शिकायत पर आयोग की कार्यवाही
शव वापसी को लेकर नई दिल्ली में विदेश सचिव से मिले शर्मा
 
National Human Rights Commission filed a case on the murder of an Indian citizen in Saudi Arabia

बूंदी। सऊदी अरब में भारतीय नागरिक स्व.जंगबहादुर यादव की हत्या के 11 दिन बाद भी दिवंगत देह को विधिवत अंतिम संस्कार के लिये अभी तक भारत नहीं भेजा गया है। वहीं विदेश में संकटग्रस्त भारतीयों की सहायता के लिये कार्य करने वाले बूंदी के कांग्रेस नेता चर्मेश शर्मा की शिकायत पर राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग ने भी अब इस मामले में केस दर्ज कर लिया है। विगत शुक्रवार को आयोग के केस दर्ज करने के बाद बाद भारतीय नागरिक की दिवंगत देह को शीघ्र भारत लाने के लिये सरकार पर दबाव बढ़ गया है। उल्लेखनीय हैं कि विगत 6 जुलाई को सउदी अरब में भारतीय नागरिक जंगबहादुर की एक पाकिस्तानी नागरिक ने हत्या कर दी थी। मृत्यु के 5 दिन बाद भी दिवंगत देह को भारत नहीं भेजने पर सउदी अरब में रह रहे राजस्थान के निवासी भारतीय नागरिकों ने बूंदी के कांग्रेस नेता चर्मेश शर्मा को घटना की जानकारी दी थी। 

11 जुलाई को बूंदी से उठी थी मांग
भारतीय नागरिक स्व. जंगबहादुर यादव के मामले में  11 जुलाई को बूंदी के चर्मेश शर्मा ने इस मामले में उत्तरप्रदेश के अमेठी निवासी जंगबहादुर यादव की दिवंगत देह को भारत लाने के लिये और हत्यारे के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही सुनिश्चित करवाने के लिये राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के नाम राष्ट्रपति सचिवालय में याचिका दायर करने के साथ ही राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग में भी शिकायत दर्ज करवायी थी।

राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग ने मामले की गम्भीरता को देखते हुये शुक्रवार को बूंदी के कांग्रेस नेता चर्मेश शर्मा की शिकायत पर इस मामले में अधिकृत रूप से केस दर्ज कर लिया है।मानवाधिकार आयोग द्वारा केस दर्ज करने के बाद इस मामले को लेकर विदेश मंत्रालय में हलचल बढ़ गयी है।

नई दिल्ली में विदेश सचिव से मिले  शर्मा
भारतीय नागरिक जंगबहादुर यादव की सऊदी अरब में हत्या और दिवंगत देह के अभी तक भारत नहीं आने के मामले में शुक्रवार सांय 6 बजे नई दिल्ली साउथ ब्लॉक विदेश मंत्रालय में भारत सरकार के विदेश सचिव विनय क्वात्रा से कांग्रेस नेता चर्मेश शर्मा ने मुलाकात की। शर्मा ने विदेश सचिव के समक्ष भारतीय नागरिक जंगबहादुर की हत्या पर कड़ा आक्रोश व्यक्त करते हुये दिवंगत देह को अभी तक भारत नहीं भेजने को अंतरराष्ट्रीय कानूनों का उल्लंघन बताया और तत्काल कार्यवाही की मांग को लेकर ज्ञापन भी दिया।उन्होने भारत सरकार के विदेश सचिव से विभिन्न देशों में भारतीय नागरिकों पर हो रहे अत्याचार पर चिंता व्यक्त करते हुये भारत  सरकार से भारतीय नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की मांग रखी।