सीतापुरा ग्राम सेवा सहकारी समिति के कृष्ण कुमार मालव जीते, धनराज मीणा निर्विरोध उपाध्यक्ष निर्वाचित

- पुलिस के कड़े सुरक्षा इंतजामों के बीच चुनाव शांतिपुर्ण तरिके से संपन्न हुए 
 
Krishna Kumar Malav of Sitapura Village Service Cooperative Society won, Dhanraj Meena elected vice-president unopposed
बूंदी। जिले के तालेड़ा उपखंड की सीतापुरा ग्राम सेवा सहकारी समिति के चुनाव (sitapura village service cooperative society elections) शुक्रवार को भारी सुरक्षा इंतजामों के बीच शांतिपुर्ण तरिके से संपन्न (Completed peacefully amidst security arrangements) हुए। इस दौरान गहमागहमी का माहौल बना रहा। यहां अध्यक्ष पद पर कृष्ण कुमार मालव 7 मत लेकर निर्वाचित (Elected to the post of President Krishna Kumar Malav with 7 votes) हुए, जबकि धनराज मीणा निर्विरोध उपाध्यक्ष चुने गए। आपको बतादें, चुनाव के दोरान दो पक्षों में विवाद की स्थिति बनने के बाद तालेड़ा थाना पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम कर शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न करवाएं।

जानकारी के मुताबिक शुक्रवार को सीतापुरा ग्राम सेवा सहकारी समिति अध्यक्ष पद के चुनाव होने थे चुनाव प्रक्रिया शुरू होने से पहले ही दो पक्षों में विवाद की स्थिति बन गई जिस पर एक पक्ष के कृष्ण कुमार मालव ने तालेड़ा थाना पुलिस को रिपोर्ट देकर सुरक्षा मुहयया कराने व शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न कराने की मांग की थी। जिस पर तालेड़ा थाना पुलिस ने पुलिस जाब्ते की मौजूदगी में शांतिपूर्ण तरीके से चुनाव संपन्न करवाएं।

उपचुनाव में अध्यक्ष पद के लिए 2 उम्मीदवार मैदान में थे जिसमें कृष्ण कुमार को 7 मत मिले, जबकि प्रतिद्वदी सत्यनारायण को 5 मतों पर ही संतोष करना पड़ा। वहीं उपाध्यक्ष पद पर धनराज मीणा निर्विरोध निर्वाचित हुए। अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के निर्वाचन की घोषणा के साथ ही यह नव निर्वाचित पदाधिकारियों का ग्रामीणों द्वारा फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। इस दौरान सीतापुरा ग्राम सेवा सहकारी समिति के निर्वाचित सभी सदस्य, तालेड़ा ब्लोक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष जगरूप सिंह रंधावा मौजूद थे।  
गौरतलब है कि एक पक्ष की ओर से तालेड़ा थाना पुलिस को रिपोर्ट देकर दूसरे पक्ष द्वारा निर्वाचित सदस्य के हाथ पैर तोड़ने की धमकी दिए जाने का आरोप लगाते हुए सुरक्षा मांगी गई थी। हालांकि पुलिस की मौजूदगी के चलते छुटपुट कहासुनी को छोड़कर कोई विवाद नहीं हुआ, चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न हुए।