कांट्रेक्ट पर लगे वाहन से भीमलत में मौज-मस्ती करने में मस्त सूचना जनसंपर्क अधिकारी

- रीट परीक्षा और मुख्यमंत्री यात्रा में जुटा है जिले का पुरा प्रशासन
- फोटो वायरल होने से प्रकाश में आया मामला
 
Information public relations officer busy in having fun in Bhimlat with a vehicle on contract

बूंदी। जिले के सरकारी विभागों में राजकीय कार्य दिवसों एवं राजकीय कार्यों के संपादन में गति देने के लिए सरकारी वाहन दिए गये हैं, ताकि आमजन को सरकार की योजनाओ एवं विकास कार्यो का फायदा जल्द मिल सके। लेकिन यहां जिले में कुछ अधिकारी ऐसे भी हैं जो सरकारी एवं कांट्रेक्ट पर लगे निजी वाहनों का उपयोग मौज-मस्ती (Fun to use private vehicles on contract) और अपने घरेलू कार्यों में ले रहे हैं। ऐसा ही एक मामला बूंदी जिले के सूचना जनसंपर्क विभाग में कांट्रेक्ट बेस पर लगे वाहन का प्रकाश में आया है। 

यहां सूचना जनसंपर्क विभाग के अधिकारी शनिवार को विभाग में अनुबंध पर लगे निजी वाहन को मौज मस्ती के लिए भीमलत ले गए और मौज मस्ती के फोटो स्टे्टस पर लगाये। जबकि इस वक्त जिले का पूरा प्रशासन रीट परीक्षा में लगा हुआ था। वहीं दूसरी ओर आगामी 30 जुलाई को जिले के हिंडोली में मुख्यमंत्री की यात्रा को लेकर पूरा प्रशासन मुस्तैदी से जुटा हुआ है। ऐसे समय में सूचना जनसंपर्क अधिकारी को रीट परीक्षा की कवरेज करना एवं हिंडोली आ रहे राजस्थान सरकार के मुख्य मंत्री के द्वारा किये जाने वाले पंद्रह सौ करोड़ के विकास कार्य के लिए प्रतिदिन अलग-अलग कार्य के लिए अलग-अलग आलेख जारी कर सरकार की योजनाओं का प्रचार प्रसार करना था। ना कि भीमलत में घुमना। वर्तमान सूचना जनसंपर्क अधिकारी सरकार की योजनाओं से संबंधित आलेख भी प्रकाशित नहीं कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर जिला स्तर पर होने वाले कार्यक्रमों के समाचार भी पत्रकारों तक देरी से पहुंच रहे है। 

इस बीच भीमलत गए सूचना जनसंपर्क अधिकारी और उनके साथ गए लोगों के फोटो सोशल मीडिया पर वायरल होने से मामला प्रकाश में आया। हालांकि मामले में सूचना जनसंपर्क अधिकारी ने डीआईपीआर के आदेश पर भीमलत की डॉक्यूमेंट्री फिल्म बनाने व अन्य लोगो के रास्ते में मिलने की बात कहते हुए सफाई दी है।
राज्य सरकार सरकारी विभागों में कार्य को गति देने के लिए अधिकारियों को वाहन उपलब्ध कराती है, जिस पर सरकार का हर साल लाखों करोड़ों रुपए खर्च होता है। लेकिन सरकार के कई अधिकारी अनावश्यक दुरुपयोग कर ऐसे वाहनों का उपयोग मौज मस्ती और पिकनिक मनाने में करते हैं। बूंदी जिले के सूचना जनसंपर्क अधिकारी का इस तरह शनिवार को अवकाश होने के चलते भीमलत में पिकनिक मनाने के लिए कुछ अन्य लोगों को रेडक्रोस सोसायटी से उक्त वाहन में बैठा कर ले जाने के बाद भीमललत में मौज मस्ती के फोटो सोशल मीडिया पर वायरल होने से मामला प्रकाश में आया। उक्त मामले की सूचना जिले के उच्च अधिकारियों तक भी पहुंची है। 

 डीआईपीआर के निर्देश पर गया था भीमलत- पीआरओ                                       
सूचना जनसंपर्क अधिकारी संतोष मीणा ने कहा कि सूचना जनसंपर्क विभाग राजस्थान के निर्देश पर भीमलत की डॉक्यूमेंट्री फिल्म बनाने अकेला गया था। कुछ लोग रास्ते में मिले थे। सरकारी वाहन के दुरूपयोग जैसी कोई बात नहीं है।

मामला संज्ञान में आया जांच करवायेगे- करतार सिंह
 अतिरिक्त जिला कलेक्टर, (प्रशासन) करतार सिंह ने कहा कि सूचना जनसंपर्क विभाग मंे अनुबंध पर लगे वाहन से अवकाश दिवस के दिन भीमलत जाने का मामला संज्ञान में आया है, मामले कि जांच करवाई जाएगी।