धोखाधड़ी का मामला : किसान नेता संदीप पुरोहित को 3 वर्ष के कारावास कि सजा

- बैंक मे कूटरचित दस्तावेज पेश करने का 11 वर्ष पुराना मामला 
 
Fraud case: Farmer leader Sandeep Purohit sentenced to 3 years imprisonment

बून्दी। बून्दी के मुख्य न्याययिक मजिस्ट्रेट (Chief judicial magistrate) ने कूटरचित दस्तावेज बैंक मे पेश कर कृषि ऋण लेने के 11 वर्ष पुराने मामले (11 year old case of taking agricultural loan by presenting forged documents in the bank) मे बून्दी विधानसभा क्षेत्र के जाने माने नेता संदीप पुरोहित को तीन वर्ष के कारावास व 20 हजार रूपये के अर्थदंड से दंडित किया (Sandeep Purohit was punished with imprisonment for three years and a fine of Rs 20,000.) है।

संदीप पुरोहित ने बून्दी की इन्द्रा मार्केट स्थित भारतीय स्टेट बैंक की शाखा से मृत व्यक्तियो के फर्जी दस्तावेज प्रस्तुत कर कृषि ऋण उठा लिया था। पुरोहित की तरफ आज भी बैंक का 63 लाख रूपया कृषि ऋण का बकाया चल रहा है। बैंक मे मृत व्यक्तियो के फर्जी दस्तावेज पेश कर ऋण उठाने पर बैंक के प्रबन्धक ने बून्दी कोतवाली में वर्ष 2011 मे मुकदमा दर्ज करवाया था। पुलिस ने धारा 420, 406, 467, 468, 471 मे मुकदमा दर्ज कर बाद अनु़संधान के न्यायालय मे चालान पेश किया, जिस पर शनिवार को मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने कूटरचित दस्तावेज पेश करने के आरोप मे संदीप पुरोहित को तीन वर्ष के कारवास की सजा दी है।

इस मुकदमे मे सरकार की और से पैरवी सहायक लोक अभियोजक हरि सिंह मीणा ने की। लोक अभियोजन अधिकारी ने प्रकरण में 12 गवाह प्रस्तुत किये व 131 दस्तावेज प्रदर्शित करवाए। उल्लेखनीय है कि संदीप पुरोहित दो बार बून्दी विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ चुके है। वर्तमान मे यह अन्धेड फार्म मे निवास करते है। अन्धेड फार्म की जमीनो को लेकर भी विवाद बना हुआ है