बूंदी महोत्सव पर छलका सांस्कृतिक वैभव, शहर में बिखरी लोक संस्कृति की छटा, शोभायात्रा में उमडा जन सैलाब

- लोक रंगों से सराबोर शोभायात्रा में उमड़ा जन सैलाब, पुष्पवर्षा से शहरवासियों ने किया जोरदार स्वागत
- बूंदी महोत्सव 2022- के तहत शनिवार को भी होंगे मनोहारी कार्यक्रम
 
Cultural splendor spilled on Bundi festival, the splash of folk culture scattered in the city, crowd gathered in the procession
बूंदी महोत्सव-2022 के तहत आयोजित कार्यक्रमों की श्रृखंला में शुक्रवार को बूंदी की नवल सागर झील में दीपदान कार्यक्रम आयोजित हुआ। दीपदान से नवलसागर झील दीपों से जगमगा उठी। जिला प्रमुख चन्द्रावती कंवर, जिला कलक्टर डॉ. रविन्द्र गोस्वामी, उपखण्ड अधिकारी सोहन लाल, अतिरिक्त जिला कलक्टर मुकेश कुमार चौधरी, तहसीलदार दीपक महावर ने गंगा मां की आरती उतारी और झील में दानदान किया। इसके बाद शहरवासियों ने भी झील में दीपदान किया। इससे पहले कलाकारों ने कच्छी घोड़ी नृत्य तथा अलगोजावादन की शानदार प्रस्तुतियां दी। कार्यक्रम में मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी तेज कंवर, सहायक पर्यटन अधिकारी प्रेम शंकर सैनी, इंटेक संयोजक राजकुमार दाधीच, बूंदी महोत्सव समिति सदस्य पुरूषोत्तम पारीक, अशोक शर्मा तलवास, के.सी.वर्मा आदि मौजूद रहे।

बूंदी। हाडौती के पर्यटन पर्व बूंदी महोत्सव का भव्य शुभारंभ (Grand launch of Bundi Festival, the tourism festival of Hadoti) शुक्रवार को छोटी काशी में लोक सांस्कृतिक रंगों के बीच (Among the folk cultural colors in Choti Kashi) हुआ। जिला कलक्टर डॉ. रविन्द्र गोस्वामी (District Collector Dr. Ravindra Goswami) ने  मंगल वाद्य यंत्रों की ध्वनि के बीच मंत्रोच्चार, शंखनाद, गणपति पूजन वंदन किया। इसके बाद पीपल्दा विधायक रामनारायण मीणा, जिला कलक्टर डॉ. रविन्द्र गोस्वामी, बूंदी के पूर्व राजपरिवार सदस्य वंश वर्धन सिंह ने ध्वजारोहण कर पर्यटन पर्व का शुभारंभ किया। गढ़ गणेश की पूजा अर्चना पंडित विश्वनाथ शर्मा ने सम्पन्न कराई। 

Cultural splendor spilled on Bundi festival, the splash of folk culture scattered in the city, crowd gathered in the procession

कार्यक्रम में जिला प्रमुख चन्द्रावती कंवर, उपसभापति लटूर भाई, बूंदी के पूर्व राजपरिवार सदस्य बलभद्र सिंह, अतिरिक्त जिला कलक्टर मुकेश कुमार चौधरी, मुख्य कार्यकारी अधिकारी करतार सिंह, उपखण्ड अधिकारी सोहनलाल, तहसीलदार दीपक महावर, सहायक पर्यटन अधिकारी प्रेम शंकर सैनी, राज्य मेला प्राधिकरण सदस्य भरत शर्मा, बाल कल्याण समिति अध्यक्ष सीमा पोद्दार, इंटेक संयोजक राजकुमार दाधीच, पुरूषोत्तमलाल पारीक, वार्ड पार्षद मनीष सिसोदिया, रामेश्वर मीणा, अशोक कुमार तलवास, के.सी.वर्मा, असरार अंसारी, विभिन्न विभागों के अधिकारी, मीडिया प्रतिनिधि, समाज सेवी, जनप्रतिनिधि एवं गणमान्य नागरिकों तथा बड़ी संख्या में आमजन की मौजूदगी रही।

असरार अंसारी

शोभायात्रा में उमडा जन सैलाब, पग-पग पर हुआ जोरदार स्वागत  
कोरोनाकाल के बाद बूंदी महोत्सव के तहत निकाली गई शोभायात्रा में जन सैलाब उमड पडा। लोक संस्कृति के रंगों का निहारने के लिए बडी संख्या में लोग सड़कों के किनारे और छतों नजर आए। शोभायात्रा का मार्ग में जगह-जगह व्यापारिक, धार्मिक संगठनों, सामाजिक संगठनों, आमजन और और संस्थाओं ने पुष्पवर्षा कर जोरदार स्वागत किया। काजी कौंसिल संरक्षक अब्दुल शकूर कादरी के नेतृत्व में शहर काजी गुलामे गोस, मौलाना असलम, हाजी सत्तार, मेहमूद अली, मोईनुद्दीन फार्वड, वसीम बाबा ने शोभायात्रा का इस्तकबाल किया गया। शोभायात्रा को लेकर हर आयु वर्ग के व्यक्तियों में जबरदस्त उत्साह देखने को मिला। शोभायात्रा मार्ग में कई स्थानों पर बच्चे लोक कलाकारों के संग थिरकते नजर आए। वहीं शोभायात्रा में स्काउट गाइड़, निजी एवं राजकीय विद्यालयों के स्कूली बच्चे कतारबद्ध होकर अनुशासन में चल रहे थे।  

Cultural splendor spilled on Bundi festival, the splash of folk culture scattered in the city, crowd gathered in the procession

गढ़ गणेश की पूजा अर्चना के बाद भव्य शोभायात्रा गढ़ परिसर से रवाना हुई। शोभायात्रा में लोक कलाकारों ने संगीत, धुनों के बीच कच्छी घोडी नृत्य कर समां बांधा। वहीं परम्परागत लोक वाद्यों की धुने गंुजायमान रही। गढ़ की पड्स से आरंभ होकर शोभायात्रा पुरानी बूंदी की विरासत को निहारती हुई मुख्य बाजार होकर खेल संकुल परिसर पहुंची। महोत्सव में शामिल होने के लिए बड़ी संख्या में देशी विदेशी पर्यटक बूंदी पहुंचे है। शोभायात्रा में घोडे, ऊंट और नृत्य करते लोक कलाकारों ने फिजां में उत्सवी रंग घोल दिए। वहीं विभिन्न विभागों की ओर से संदेश बोधक झांकियां भी आमजन के आकर्षण का केन्द्र बनी रही। 

उत्सवी रंगों के बीच प्रतियोगिताओं का रोमांच 
खेल संकुल के मैदान पर उत्सवी रंगों के बीच हुई प्रतियोगिताओं ने सभी को रोमांचित कर दिया। खेल संकुल मैदान हुई घुड़ दौड़ प्रतियोगिता ने दर्शकों को रोमांचित कर दिया। इस प्रतियोगिता के विजेता मूंडघसा के लेखराज रहे। प्रतियोगिता में बूंदी के मनोज दूसरे तथा चंदन तीसरे स्थान पर रहे। 

Cultural splendor spilled on Bundi festival, the splash of folk culture scattered in the city, crowd gathered in the procession

साफा बांधा, मूंछों पर दिया ताव 
महोत्सव के कार्यक्रमों की कड़ी में खेल संकुल में देशी व विदेशी सैलानियों की साफा बांधों प्रतियोगिता हुई। विदेशी महिला पुरूषों ने जहां जोश व उत्साह के साथ साफा बंाधने में होड दिखाई, वहीं स्थानीय पुरूषों ने भी साफा बंाधा। विदेशी पर्यटकों की साफा बांधो प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर स्विट्जरलैंड के पीटर, दूसरे स्थान पर  स्विट्जरलैंड की विना व तीसरे स्थान पर फ्रांस के ही डेनी रहे। स्थानीय पुरूषों की प्रतियोगिता में धन्नालाल त्रिपाठी प्रथम स्थान पर रहे।  
खेल संकुल में ही स्थानीय लोगों की मूंछ प्रतियोगिता हुई। जिसमें हर कोई अपनी मूंछो पर ताव देता रहा। इस प्रतियोगिता में कोटा के धन्नालाल प्रथम, पीपरवाला के बद्रीलाल द्वितीय, बूंदी के नंदकिशोर तथा तीसरे स्थान पर बूंदी के ही जगदीश प्रसाद रहे। 

Cultural splendor spilled on Bundi festival, the splash of folk culture scattered in the city, crowd gathered in the procession

सिर पर मटकी रखकर लगाई दौड़
प्रतियोगिता के दौरान महिलाओं की पणिहारी दौड़ हुई। इसमें महिलाओं ने सिर पर मटकी रखकर दौड़ लगाई। इस प्रतिस्पर्धा ने हर किसी को रोमांचित कर दिया। पणिहारी दौड़ प्रतियोगिता में पायल टेलर पहले स्थान पर रही। मीनाक्षी बैरवा दूसरे स्थान पर रहीं, वहीं प्रतियोगिता में शिरकत करने वाली फ्रांस की लिली और बूंदी की मनीषा रावत संयुक्त रूप से तीसरे स्थान पर रही।

रस्सा कसी में की जोर आजमाईश 
महोत्सव की प्रतियोगिताओं की श्रृखंला में खेल संकुल मैदान पर विदेशी सैलानियों एवं स्थानीय नागरिकों के बीच रस्सा कसी प्रतियोगिता हुई। यह प्रतियोगिता स्थानीय नागरिकों ने 2-0 से जीत ली। 

बूंदी महोत्सव 2022- आज भी होंगे मनोहारी कार्यक्रम
बूंदी। बूंदी महोत्सव के दूसरे दिन 12 नवंबर को भी लोकानुरंजन और मनोहारी कार्यक्रमों का दौर जारी रहेगा। कार्यक्रमों की श्रृखंला में दोपहर 1 बजे सुखमहल में ‘मान मनुहार’ कार्यक्रम होगा। इसमें देशी विदेशी पावणों की देसी पकवानों से मान मनुहार की जाएगी। इसी कड़ी में शाम 3 बजे कुंभा स्टेडियम प्रांगण में उद्योग एवं हस्तशिल्प मेला का उद्घाटन होगा और 84 खंभों की छतरी पर शाम 7.30 बजे से सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया जाएगा। इसमें सवाई भाट, उर्वसी अरोडा एवं हिरेन त्रिवेद्वी प्रस्तुतियां देंगे। कार्यक्रम की समाप्ति पर आतिशबाजी भी होगी। इसके अलावा नैनवां एवं लाखेरी में भी 12 नवंबर को विविध सांस्कृतिक आयोजन होंगे।