बूंदी: मासूमियत और अकेलेपन का फायदा उठाकर नाबालिग को नोचने वाले दरिंदो के खिलाफ पोस्को एक्ट में केस दर्ज

- बाल कल्याण समिति ने दर्ज कराया केस 
- 12 साल कि किशोरी ने अधेड़ उम्र के आरोपियो पर लगाया शोषण का आरोप
 
Bundi: Taking advantage of the innocence and loneliness of a minor, a case has been registered under the POSCO Act against the rapists.
बूंदी। नाबालिग बालिका के साथ 5 लोगों द्वारा योनशोषण करने का मामला (Case of molestation with a minor girl by 5 people) सामने आया है। यहां आरोपी नाबालिग कि मासूमियत और अकेले पन का फायदा उठाकर घिनोने अपराध को अंजाम दे रहे थे। पुलिस ने बाल कल्याण समिति की रिपोर्ट पर मामला दर्ज (Case registered on the report of child welfare committee) कर अनुसंधान शुरू किया है। मामला लाखेरी थाना क्षेत्र का है, जहां 12 वर्षीय बालिका के साथ उसके आसपास के क्षेत्र में रहने वाले 30 से 40 वर्ष के बीच के आरोपी बहला-फुसलाकर पिछले करीब एक वर्ष से दुराचार कर रहे थे। 

जानकारी के मुताबिक, बालिका के साथ दुराचार होने की सूचना कस्बे के लोगों ने 6 नवंबर को 1098 चाइल्ड लाइन पर दी थी, जिस पर चाइल्डलाइन टीम ने कार्यवाही करते हुए बालिका को दस्तियाब कर 10 नवंबर को बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया था, जहां बाल कल्याण समिति द्वारा की गई काउंसलिंग में नाबालिग 12 वर्षीय बालिका ने उसके साथ 5 लोगों द्वारा दुष्कर्म करने की बात बताई। जिसके बाद बाल कल्याण समिति ने बालिका को तेजस्विनी बालिका खुला आश्रय गृह में भिजवाया दिया।

बाल कल्याण समिति सदस्यो ने पीडित बालिका के परिजनो से भी बातचीत कि जिसमें वह कार्यवाही तो चाह रहे थे, लेकिन आरोपियो व अन्य लोगो के डर के कारण रिपोर्ट दर्ज करवाने से पिछे हट रहे थे, ऐसे में बाल कल्याण समिति ने आगे आकर बालिका की ओर से पोस्को एक्ट में मामला दर्ज करवाया। जिस पर लाखेरी थाना पुलिस ने 17 नवंबर को 5 नामजद आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर अनुसंधान शुरू किया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, आरोपी नाबालिग बालिका की मासूमियत और अकेलेपन का फायदा उठाकर उसकी अजमत से खेल रहे थे। पीड़ित बालिका के पिता की मौत हो चुकी है, उसकी मां मजदूरी करती है बालिका के दो भाई भी हैं। लेकिन परिवार काफी सीधा होने व भय से रिपोर्ट दर्ज नहीं करवा रहा था। ऐसे में बाल कल्याण समिति ने आगे आकर बालिका की ओर से पोस्को एक्ट में मामला दर्ज करवाया। 

लाखेरी थाना अधिकारी महेश कुमार ने बताया कि बाल कल्याण समिति कि रिपोर्ट पर मामला दर्ज कर अनुसंधान किया जा रहा है, बाल कल्याण समिति द्वारा बालिका को तेजस्विनी बालिका खुला आश्रय गृह में भिजवाया गया है। मामले में कार्यवाही जारी है।