Bundi : बाल दिवस पर बालिका बनी एक दिन कि एसपी और थानो में बच्चे बने थानाधिकारी

- नामित एसपी ने परिवादी की शिकायत पर थानाधिकारी गेंण्डोली को आवश्यक कार्यवाही के फोन पर दिया निर्देश 
- बाल दिवस पर पुलिस अधीक्षक कार्यालय में आश्रय गृह के बालक बालिकाओं को पुलिस कार्यप्रणाली से करवाया अवगत  
 
Bundi: On Children's Day, the girl child became the SP and the children became police officers in the police stations.

बूंदी। जिला पुलिस अधीक्षक कार्यालय में एसपी अधीक्षक जय यादव द्वारा बून्दी पुलिस, बाल कल्याण समिति, एक्शनएड़ व यूनिसेफ के संयुक्त तत्वाधान में देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू का जन्म दिवस तेजस्वी बालिका गृह एवं टैगोर बाल गृह के बच्चों के साथ मनाया गया। इस अवसर पर एसपी जय यादव ने बाल देखरेख संस्था की एक बालिका को जिला पुलिस अधीक्षक ने अपनी कुर्सी पर बिठाकर एक दिन के लिए पुलिस अधीक्षक बनाया। इस दौरान एक दिन के लिए नामित पुलिस अधीक्षक ने गेंण्डेाली थाने से आये परिवादी नवल की शिकायत सुनी और थानाधिकारी गेंण्डोली को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए फोन पर निर्देशित किया। जिला पुलिस अधीक्षक जय यादव ने बच्चों को गुलाब का फूल भेंटकर स्वागत किया। 

Bundi: On Children's Day, the girl child became the SP and the children became police officers in the police stations.

बालिका ने मीडिया को बताया कि वह भविष्य में पुलिस अधिकारी बनना चाहती है और वह एक दिन के लिए पुलिस बनकर बहुत खुश और उत्साहित है, वह और मेहनत करेगी। इस अवसर पर अति. पुलिस अधीक्षक किशोरीलाल ने अपराध शाखा सहित जिला पुलिस अधीक्षक कार्यालय के सभी विभागों का अवलोकन कराया और पुलिस कार्य प्रणाली एवं कार्य से अवगत कराया गया। इस अवसर पर अपराध शाखा के सहायक बाबूलाल, बाल कल्याण समिति अध्यक्ष सीमा पोद्दार, एक्शनएड़ व यूनिसेफ के जोनल कोर्डिनेटर मांगीलाल शेखर, तेजस्वनी से सुनीता, टैगोर बाल गृह के रामनारायण, सुरेन्द्र कुमार ने बच्चों को गुलाब के फूल भेंट किए। 

Bundi: On Children's Day, the girl child became the SP and the children became police officers in the police stations.

थानो में बच्चों ने थानाधिकारी की कुर्सी बैठकर जानी कार्यप्रणाली
सोमवार का जिल के प्रत्येक थाना स्तर जिला पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर बाल दिवस मनाया गया है। इस दौरान ‘‘मिशन सुरक्षित बचपन’’ के तहत बाल अधिकारों पर जागरूक किया गया। इस अवसर पर जिले के सभी पुलिस थानों पर भी स्कूल के बच्चों को थाने का भ्रमण कर कार्यप्रणाली के बारे में समझाते हुये एक बच्चे को थानाधिकारी की कार्य के सम्बन्ध में थानाधिकारी की कुर्सी पर बिठाकर परिवाद सुनने व उन पर किस प्रकार कार्यवाही की जाये इस पर समझाया। बच्चों ने बहुत उत्साह देखने को मिला। बच्चों ने पुलिस की कार्यप्रणाली को बहुत ही ध्यानपूर्वक देखा, सुना ओर समझा।