पीजी कॉलेज बूंदी में हुआ 50.58 प्रतिशत मतदान,एक दर्जन छात्र फर्जी वोटिंग करते पकडे,मतगणना कल

-एसपी जय यादव सहित अन्य अधिकारी करते रहे निगरानी, जिले के पांचो कॉलेज में शांतिपुर्ण मतदान
 
50.58 percent voting took place in PG College Bundi, 12 students were caught doing fake voting, counting of votes today

बूंदी। जिले में छात्रसंघ चुनाव (Student union election) को लेकर शुक्रवार को छात्र-छात्राओं में विशेष उत्साह देखने को मिला। कड़ी सुरक्षा के बीच विध्यार्थियों ने जिले के पांच राजकीय महाविद्यालय में अपना मताधिकार का प्रयोग किया। सभी कॉलेजों में शांतिपूर्ण मतदान संपन्न (peaceful polling in colleges) होने पर पुलिस एवं प्रशासन ने राहत की सांस ली। वहीं, पीजी कॉलेज बूंदी में करीब एक दर्जन छात्र फर्जी वोटिंग करते पकड़े (About a dozen students caught doing fake voting in PG College Bundi) गए। हालांकि पुलिस ने जांच पड़ताल के बाद 7 के खिलाफ कार्यवाही कि पुष्टी कि है।

50.58 percent voting took place in PG College Bundi, 12 students were caught doing fake voting, counting of votes today

प्राप्त जानकारी के मुताबिक जिले के 5 महाविद्यालयों में सुबह 8 बजे शुरू हुआ जो मतदान दोपहर 1 बजे तक चला। मतदान को लेकर छात्र-छात्राओं में उत्साह बना रहा छात्रसंघ प्रत्याशी छात्र-छात्राओं के हाथ जोड़कर अपने पक्ष में मतदान करने लिए मान मनुहार करते रहे। पिछले 2 सालों से कोरोना के कारण छात्रसंघ चुनाव नहीं हो सके थे। इस बार चुनाव कार्यक्रम घोषित हुआ तो छात्र छात्राओं ने उत्साह दिखाया। पांचों महाविद्यालयों में कुल 8062 मतदाता है, जिन्होने अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, महासचिव एवं संयुक्त सचिव पदों के लिए अपनी पसंद के उम्मीदवार को वोट किया।

50.58 percent voting took place in PG College Bundi, 12 students were caught doing fake voting, counting of votes today

यहां इतना वोट
राजकीय पीजी कॉलेज बूंदी में 5641 मे से 2853 ने वोटिंग की, इस तरह यहां 50.58 प्रतिशत मतदान हुआ। जबकि हिंडोली कॉलेज में 493 मे से 441 89.45 प्रतिशत वोटिंग हुई, भगवान आदिनाथ जयराज मारवाड़ा महाविद्यालय नैनवां में 679 मेसे 462 ने 68.04 प्रतिशत और कन्या महाविद्यालय बूंदी में 1040 मे से 628 वोट डाले 60.38 प्रतिशत मतदान हुआ, कई छात्र आईडी कार्ड नहीं मिलने से वोट नहीं दे सके।

किये कड़े सुरक्षा इंतजाम
मतदान को लेकर प्रशासन ने सूबह पहले ही सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम कर लिए थे। पुलिस ने कोतवाली से लेकर कॉलेज के अंतिम छोर देवपुरा तक बैरिकेड्स लगाकर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए थे। इस दौरान वाहनों की आवाजाही बंद रही। कोतवाली थाने के बाद से केवल वोट देने वाले विद्यार्थियों को ही प्रवेश की अनुमति दी गई। पीजी कॉलेज, कन्या महाविद्यालय सहित अन्य महाविद्यालयों में सुबह 8 बजे से दोपहर 1 बजे तक मतदान हुआ। कॉलेजों में प्रवेश द्वार पर आईडी कार्ड व मेटल डिटेक्टर से जांच के बाद छात्र छात्राओं को कॉलेज में प्रवेश दिया। इस दौरान कॉलेज के प्राचार्य और पुलिस के अधिकारी लगातार मॉनिटरिंग करते रहे। हालात का जायजा लेने के लिए जिला पुलिस अधीक्षक जय यादव पीजी कॉलेज पहुंचे और कॉलेज चुनाव की प्रक्रिया के दौरान किये सुरक्षा इन्तजामो को देखा। इस दौरान पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी मुस्तैदी से जुटे रहे।

इन्होने अजमाया भाग्य
बूंदी पीजी कॉलेज में अध्यक्ष पद के लिए एनएसयूआई के देवेंद्र कुमार, निर्दलीय देवेंद्र कुमार, धर्मेंद्र और मयंक मैदान में रहे। उपाध्यक्ष के लिए आयुष, शिवलाल, स्नेहा, महासचिव के लिए आयुष, देवेश, मीनाक्षी, संयुक्तसचिव के लिए कविता कुमारी, धर्मराज, रोहित मैदान में रहे। कन्या महाविद्यालय में अध्यक्ष पद के लिए नीलम, निशा, उपाध्यक्ष के लिए लक्ष्मी, निशा कुमारी, महासचिव के लिए एनएसयूआई की ओर से निशा, एबीपी की निशा और संयुक्त सचिव के लिए निशा और रसीला चुनाव मैदान में डटी रही।

चुनाव से एनवक्त पहले एनएसयूआई गायब
बूंदी के पीजी कॉलेज में एनएसयूआई अध्यक्ष प्रत्याशी सहित पूरी टीम चुनाव में एक दिन पहले तक पूरी तरह से तरीके से चुनाव में डटी हुई थी और पूरा चुनाव कैंपियन प्रभावी तरीके से चल रहा था। लेकिन अचानक चुनाव से पहले ऐसा क्या हुआ की पीजी कॉलेज में एनएसयूआई कि ओर से अध्यक्ष पद का प्रत्याशी सरेंडर हो गया। यहां तक कि उसके समर्थक भी चुनाव में नजर नहीं आए। छात्रसंघ चुनाव में जातिवाद ज्यादा हावी रहा। मतदान से पहले एनएसयूआई के प्रत्याशी का इस तरह सरेंडर हो जाना शहर में चर्चा का विषय बना हुआ है। एनएसयूआई और यूथ कांग्रेस से जुड़े कई नेता इसे लेकर चिंता व्यक्त कर रहे हैं। उन्होंने इसके लिए बूंदी जिले के बड़े नेताओं को जिम्मेदार ठहराया है।

करीब एक दर्जन छात्र पकडे फर्जी वोटिंग करते
बूंदी पीजी कॉलेज में करीब एक दर्जन छात्र फर्जी वोटिंग करते पकड़े जिनमें एक छात्रा भी शामिल है। ये सभी फर्जी आईडी के आधार पर मतदान करने पहुंचे थे जिन्हे कॉलेज प्रशासन ने पकड़ा और बाद में पुलिस के हवाले कर दिया। पकड़े गए छात्र-छात्राओं में अस्तौली निवासी रामेश्वर मीणा, चतरगंज निवासी अक्षत गुर्जर, सियाणा निवासी आत्माराम, लालगंज नैनवा निवासी रघुवीर, सियाणा निवासी महावीर गुर्जर, किशनपुरा निवासी नीरज धाकड़, मुंडकसा निवासी आजाद मीणा, रेण निवासी नरेंद्र सिंह, विजयगढ़ निवासी मनराज, बूंदी निवासी राकेश प्रजापत व छात्रा छाबड़ियों का नया गांव निवासी राधिका को डिटेन किया। हालाकिं पुलिस ने अनुसंधान के बाद 7 छात्रो के खिलाफ कार्यवाही की करने कि पुष्टी कि है।